Memory Alexa Hindi

Backword ImageBackword Image सोमबार का पंचाग बुधवार का पंचागForward ImageForward Image

मंगलवार का पंचाग

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

hanuman-ji


हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

20 फरवरी 2018

हनुमान जी का मंत्र : हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) - मंगलवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से उम्र कम होती है। अत: इस दिन बाल और दाढ़ी नहीं कटवाना चाहिए । मंगलवार को बजरंगबली की पूजा का विशेष महत्व है।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - फाल्गुन माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- पञ्चमी 21 फ़रवरी सुबह 04:45 तक तदुपरांत षष्ठी ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - पञ्चमी तिथि के स्वामी सर्पदेव (नाग) देवता है तथा षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान कार्तिकेय जी है ।

पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता हैं। शास्त्रों के अनुसार इस दिन नाग देव की पूजा करने से भय तथा कालसर्प दोष दूर होता है। पंचमी को नाग देवता का पूजन करने से घर में किसी की भी सांप काटने से मृत्यु नहीं होती है और  अगर सांप काटने से किसी की मृत्यु हो भी गयी हो तो उसे मुक्ति मिलती है, जातक को निर्भयता प्राप्त होती है । पंचमी तिथि को पूर्णा भी कहते है। इस तिथि में कोई भी नया कार्य शुरू करने से उसमे सफलता मिलने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है वह कार्य बहुत लम्बे समय तक चलते है । लेकिन पौष माह की पंचमी को कोई भी नया कार्य नहीं करना चाहिए । शास्त्रों में पंचमी तिथि को कटहल, बिल्ब, और खटाई खाने को मना किया गया है ।  

Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- रेवती - 14:03 तक तदुपरांत अश्विनी ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी - रेवती नक्षत्र के देवता पूषा (पूषण नाम का सूर्य ) है एवं ग्रह स्वामी बुध देव है अश्विनी नक्षत्र के देवता नासत् (दोनों अश्वनी कुमार) है एवं ग्रह स्वामी केतु है ।

Kalash One Image योग(Yog) - शुभ - 12:35 तक तदुपरांत शुक्ल

Kalash One Image प्रथम करण : - बव - 17:03 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - बालव - 21 फ़रवरी सुबह 04:45 तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - दोपहर 12 से 1:30 बजे तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- मंगलवार को उत्तर दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से गुड़ खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)दिन - 3:00 से 4:30 तक।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 06:41 ।


Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 06:20।

Kalash One Image विशेष - पंचमी को बिल्व  का सेवन नही करना चाहिए ।   ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) - पंचमी तिथि समस्त शुभ कार्यों के लिए उत्तम है परंतु इस दिन ऋण कतई नहीं देना चाहिए ।  ।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image फागुन माह (फरवरी-मार्च) में चना खाना मना है।
Kalash One Image इस माह में घी, खिचड़ी खाना और और सुबह जल्दी नहाना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Loading...


Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-02-17 03:35:55 PM

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

surya-dev-ji surya-dev-ji

जानिए क्या है आज का पंचाग