Memory Alexa Hindi

Backword ImageBackword Image रविवार का पंचाग मंगलवार का पंचागForward ImageForward Image


आप सभी को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं


सोमबार का पंचाग

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

somwar-ka-panchang

हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang)पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)
पंचाग(Panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

15 जनवरी 2017

रुद्र गायत्री मंत्र : ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि,
                         तन्नो रुद्रः प्रचोदयात् ॥

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।

Kalash One Image दिन (वार) - सोमवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से पुत्र का अनिष्ट होता है शिवभक्ति को भी हानि पहुँचती है अत: सोमवार को ना तो बाल और ना ही दाढ़ी कटवाएं ।
जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए हर सोमवार को शिवलिंग पर पंचामृत या मीठा कच्चा दूध एवं काले तिल चढ़ाएं, इससे भगवान महादेव की कृपा बनी रहती है परिवार से रोग दूर रहते है ।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - कृष्ण पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- चतुर्दशी 16 जनवरी 05:11 तदुपरांत अमावस्या ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान शिव हैं तथा अमावस्या तिथि के स्वामी पित्रदेव जी हैं ।

आज मकर संक्रांति का पावन पर्व है । मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते है इस दिन भगवान सूर्य की पूजा करने का विशेष विधान है। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति से देवताओं का दिन आरंभ होता है जो कि आषाढ़ मास तक रहता है।

मकर संक्रान्ति के दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति भी प्रारम्भ होती है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन सूर्योदय से पूर्व पवित्र नदी में स्नान / जल में गंगाजल डाल कर स्नान करने एवं स्नानदि के बाद योग्य ब्राह्मण को दान करने से सहस्त्रो गुणा पुण्य मिलता है जो अक्षय होता है।

मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी, काले तिल, घी, तिल के लडडू, कम्बल, का दान करने से देवता प्रसन्न होते है, पुण्य का संचय होता है।

इस दिन घर के सभी सदस्यों को तिल के बने पदार्थ एवं खिचड़ी का सेवन अवश्य ही करना चाहिए।

चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान शिव हैं। अतः प्रत्येक मास की चतुर्दशी विशेषकर कृष्णपक्ष की चतुर्दशी के दिन शिव जी की पूजा, अर्चना एवं रुद्राभिषेक करने से भगवान शिव समस्त मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं, भक्तो के सभी संकट दूर होते है ।


Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- मूल 16:19 तदुपरांत पुर्वाशाडा ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- मूल नक्षत्र के देवता निर्रुती (राक्षस) है एवं ग्रह स्वामी केतु है तथा पुर्वाशाडा नक्षत्र के देवता क्षीर (जल ) है एवं ग्रह स्वामी शुक्र है ।

Kalash One Image योग(Yog) - ध्रुव 08:00

Kalash One Image प्रथम करण : - विष्टि 15:51

Kalash One Image द्वितीय करण : - शकुनि 16 जनवरी 05:11 तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - दोपहर 1:30 से 3 बजे तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- सोमवार को पूर्व दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से दर्पण देखकर, दूध पीकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-सुबह -7:30 से 9:00 तक।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 07:10 ।

Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 18:02 ।

Kalash One Image विशेष - चतुर्दशी के दिन स्त्री सहवास तथा तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करना मना है।

Kalash One Image पर्व त्यौहार- मकर संक्रति

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt)-
"हे आज की तिथि ( तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Imageमाघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Imageइस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image सोमबार का पंचाग बुधवार का पंचागForward ImageForward Image


आप सभी को मौनी अमावस्या की हार्दिक शुभकामनाएं


मंगलवार का पंचाग


आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

hanuman-ji


हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

16 जनवरी 2017

हनुमान जी का मंत्र : हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) - मंगलवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से उम्र कम होती है। अत: इस दिन बाल और दाढ़ी नहीं कटवाना चाहिए । मंगलवार को बजरंगबली की पूजा का विशेष महत्व है।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - कृष्ण पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- अमावस्या - पूर्ण रात्रि तक तदुपरांत प्रतिपदा ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - अमावस्या तिथि के स्वामी पित्र देव है तथा प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव है ।

आज माघ माह की अमावस्या, मौनी अमावस्या है, हिन्दू धर्म में मौनी अमावस्या का विशेष महत्त्व है। इस दिन मौन रहकर यमुना / गंगा किसी पवित्र नदी, जलाशय अथवा घर में जल में तिल और गंगाजल डालकर स्नान करने का विशेष महत्त्व है।

मान्यतानुसार माघ में पड़ने वाली मौनी अमावस्या के दिन पवित्र प्रयाग के संगम तीर्थ में तैंतीस कोटी देवताओं का निवास होता है इसलिए माघ अमावस्या पर संगम में स्नान से अमृत स्नान का पुण्य मिलता है। मौनी अमावस्या के दिन प्रातः गंगा नदी / पवित्र नदी या घर में जल में गंगा जल डाल कर स्नान करने से पितृदोष से, गृहक्लेश से मुक्ति मिलती है, सभी तरह के संकटो एवं दुर्घटना से रक्षा होती है ।
ज्योतिष शास्त्र में अमावस्या का अत्यधिक महत्व हैं। अमावस्या के दिन किये गए उपाय बहुत ही प्रभावशाली होते है और इसका फल भी अति शीघ्र प्राप्त होता है।
हर अमावस्या को गहरे गड्ढे या कुएं में एक चम्मच दूध डालें इससे कार्यों में बाधाओं का निवारण होता है । इसके अतिरिक्त अमावस्या को आजीवन जौ दूध में धोकर बहाएं, आपका भाग्य सदैव आपका साथ देगा ।

Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- पूर्वाषाढा - 19:23 तक तदुपरांत उत्तराषाढ़ा ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी - पूर्वाषाढा नक्षत्र के देवता क्षीर (जल) देव है एवं ग्रह स्वामी शुक्र देव है उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के देवता विश्वदेव (अभिजित-विधि विधाता) जी है एवं ग्रह स्वामी सूर्य देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - व्याघात - 08:56 तक तदुपरांत हर्षण

Kalash One Image प्रथम करण : - चतुष्पाद - 18:29 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - नाग - पूर्ण रात्रि तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - दोपहर 12 से 1:30 बजे तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- मंगलवार को उत्तर दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से गुड़ खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)दिन - 3:00 से 4:30 तक।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 07:16 ।


Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 05:46।

Kalash One Image विशेष - अमावस्या, पूर्णिमा, संक्रांति, चतुर्दशी और अष्टमी, रविवार, श्राद्ध एवं व्रत के दिन स्त्री सहवास तथा तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करना मना है।  ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार- मौनी अमावस्या

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) - अमावस्या को पितृ कार्य और शल्य क्रिया करके उनमे सफलता प्राप्त कर सकते हैं । ।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image मंगलवार का पंचागबृहस्पतिवार का पंचाग Forward ImageForward Image

बुधवार का पंचाग


आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

budhar-war-ka-panchag
हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं :- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

17 जनवरी 2017

गणेश गायत्री मंत्र :

ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात ।।
।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) - बुधवार के दिन तेल का मर्दन करने से अर्थात तेल लगाने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है धन लाभ मिलता है। बुधवार का दिन विघ्नहर्ता गणेश का दिन हैं। इस दिन गणेशजी की पूजा अर्चना से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- अमावस्या तदुपरांत प्रतिपदा ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - अमावस्या तिथि के स्वामी पित्रदेव है तथा प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव है ।

आज प्रतिपदा है । प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव हैं। अग्नि देव इस पृथ्वी पर साक्षात् देवता हैं, देवताओं में सर्वप्रथम अग्निदेव की उत्पत्ति हुई थी । ऋग्वेद का प्रथम मंत्र एवं प्रथम शब्द अग्निदेव की आराधना से ही प्रारम्भ होता है। हिन्दू धर्म ग्रंथो में देवताओं में प्रथम स्थान अग्नि देव का ही दिया गया है।

अग्निदेव सब देवताओं के मुख हैं और यज्ञ में इन्हीं के द्वारा देवताओं को समस्त यज्ञ-वस्तु प्राप्त होती है। अग्नि देव की पत्नी का नाम स्वाहा हैं। अग्निदेव की पत्नी स्वाहा के पावक, पवमान और शुचि नामक तीन पुत्र और पुत्र-पौत्रों की संख्या उनंचास है ।

Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- उत्तराषाढा तदुपरांत श्रवण

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- उत्तराषाढा नक्षत्र के देवता विश्वदेव (अभिजित-विधि विधाता) जी हैं एवं ग्रह स्वामी सूर्य देव हैं तथा श्रवण नक्षत्र के देवता भगवान विष्णु जी हैं एवं ग्रह स्वामी चंद्र देव हैं ।

Kalash One Image योग(Yog) - हर्षण - 09:47 तक तदुपरांत वज्र ।

Kalash One Image प्रथम करण : - नाग - 07:47 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - किंस्तुघ्न - 21:01 तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - बुधवार को शुभ गुलिक 10:30 से 12 बजे तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- बुधवार को उत्तर दिशा में दिशा शूल होता है । इस दिन कार्यों में सफलता के लिए घर से सुखा/हरा धनिया या तिल खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal) : - बुधवार को राहुकाल दिन 12:00 से 1:30 तक ।

Kalash One Image सूर्योदय -प्रात: 07:16 ।

Kalash One Image सूर्यास्त -सायं 05:46 ।

Kalash One Image विशेष -
अमावस्या के दिन स्त्री सहवास तथा तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करना मना है। 

प्रतिपदा को कद्दू का सेवन नहीं करना चाहिए ।


Kalash One Image पर्व त्यौहार -

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) -
अमावस्या को पितृ कार्य और शल्य क्रिया करके उनमे सफलता प्राप्त कर सकते हैं ।

प्रतिपदा तिथि को विवाह, यात्रा, व्रतबंध, प्राण प्रतिष्ठा, चूड़ा कर्म, वास्तु कर्म, गृह प्रवेश आदि मंगल कार्य बिलकुल भी नहीं करने चाहिए ।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र (नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image बुधवार का पंचाग शुक्रवार का पंचागForward ImageForward Image

बृहस्पतिवार का पंचाग

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

vishnu-ji
vishnu-ji

हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

18 जनवरी 2017

विष्णु रूपं पूजन मंत्र :

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।
विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम।
लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म ।
वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकैकनाथम।।


।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) - गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)

गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए । गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।

गुरुवार का दिन भगवान श्री हरि, भगवान विष्णु का माना जाता है । गुरुवार को शंख से भगवान विष्णु को स्नान करा के उन्हें पीले चन्दन का तिलक करके वस्त्र, यज्ञोपवीत, केसर और घी मिश्रित खीर का भोग लगाकर पूजा करने से आरोग्य और दीर्घ आयु की प्राप्ति होती है ।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- प्रतिपदा तदुपरांत द्वितीया ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव है तथा द्वितीया तिथि के स्वामी ब्रह्म देव है ।

आज प्रतिपदा है । प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव हैं। अग्नि देव इस पृथ्वी पर साक्षात् देवता हैं, देवताओं में सर्वप्रथम अग्निदेव की उत्पत्ति हुई थी । ऋग्वेद का प्रथम मंत्र एवं प्रथम शब्द अग्निदेव की आराधना से ही प्रारम्भ होता है। हिन्दू धर्म ग्रंथो में  देवताओं में प्रथम स्थान अग्नि देव का ही दिया  गया  है। 
अग्निदेव सब देवताओं के मुख हैं और यज्ञ में इन्हीं के द्वारा देवताओं को समस्त यज्ञ-वस्तु प्राप्त होती है। अग्नि देव की पत्नी का नाम स्वाहा हैं। अग्निदेव की पत्नी स्वाहा के पावक, पवमान और शुचि नामक तीन पुत्र और पुत्र-पौत्रों की संख्या उनंचास है।


Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- श्रवण तदुपरांत धनिष्ठा ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- श्रवण नक्षत्र के देवता भगवान विष्णु जी है और गृह स्वामी चंद्र देव है । तथा धनिष्ठा नक्षत्र के देवता वसु (आठ प्रकार के वसु ) देव है एवं गृह स्वामी मंगल देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - वज्र - 10:31 तक तदुपरांत सिद्धि

Kalash One Image प्रथम करण : - बव - 10:12 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - बालव - 23:19 तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - बृहस्पतिवार को शुभ गुलिक दिन 9:00 से 10:30 तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो तो घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।


Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-दिन - 1:30 से 3:00 तक।


Kalash One Imageसूर्योदय - प्रातः 07:16


Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 05:49


Kalash One Image विशेष - प्रतिपदा को कद्दू का सेवन नहीं करना चाहिए । ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) - प्रतिपदा तिथि को विवाह, यात्रा, व्रतबंध, प्राण प्रतिष्ठा, चूड़ा कर्म, वास्तु कर्म, गृह प्रवेश आदि मंगल कार्य बिलकुल भी नहीं करने चाहिए । ।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image बृहस्पतिवार का पंचाग शनिवार का पंचाग Forward ImageForward Image


friday-ka-panchag-new

शुक्रवार का पंचाग (epanchang)

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

हिन्दू पंचाग (Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:-
1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
*योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

19 जनवरी 2017

महालक्ष्मी मन्त्र :

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:॥

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) - शुक्रवार के दिन दक्षिणावर्ती शंख से भगवान विष्णु पर जल चढ़ाकर उन्हें पीले चन्दन अथवा केसर का तिलक करें। इस उपाय में मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न हो जाती हैं।
धन लाभ के लिए इस दिन शाम के समय घर के ईशान कोण / मंदिर में गाय के घी का दीपक लगाएं। इसमें रुई के स्थान पर लाल रंग के धागे से बनी बत्ती का उपयोग करें और दिये में थोड़ी केसर भी डाल दें।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Imageतिथि (Tithi)- द्वितीया - 12:22 तक तदुपरान्त तृतीया ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - द्वितीया तिथि के स्वामी ब्रह्म देव है तथा तृतीया तिथि के स्वामी पार्वती शिव जी है ।

 द्वितीया तिथि दूज कहते है । इस तिथि के स्वामी ब्रह्मा जी हैं। व्यासलिखित पुराणों के अनुसार ब्रह्मा जी के चार मुख हैं, जो चार दिशाओं में देखते हैं।ब्रह्मा को स्वयंभू (अर्थात स्वयं जन्म लेने वाला) और समस्त चार वेदों का निर्माता भी कहा गया है। इनकी पत्नी का नाम सावित्री और कला ,संगीत, ज्ञान और विद्या की देवी माँ सरस्वती भगवान ब्रह्मा की पुत्री हैं। प्रजापति का व्रत प्रजापति द्वितीया को ही किया जाता है । इनका वाहन हंस है। द्वितीया तिथि को किसी भी कार्य की शुरुआत से पहले ब्रहाण्ड के सृष्टिकर्ता भगवान बह्मा जी का स्मरण करने से कार्यो में सफलता मिलती है। 

Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- धनिष्ठा तदुपरान्त शतभिषा ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता- धनिष्ठा नक्षत्र के देवता वसु (आठ प्रकार के वसु ) देव हैं एवं ग्रह स्वामी मंगल देव है । शतभिषा नक्षत्र के देवता तोयम देव हैं एवं ग्रह स्वामी राहु देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - सिद्धि - 11:03 तक तदुपरांत व्यतीपात

Kalash One Image प्रथम करण : - कौलव - 12:22 तक

Kalash One Image द्वितीय करण : - तैतिल - रात्रि 01:19 तक

Kalash One Image गुलिक काल : - शुक्रवार को शुभ गुलिक दिन 7:30 से 9:00 तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- शुक्रवार को पश्चिम दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो तो घर से दही खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-दिन - 10:30 से 12:00 तक।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 07:15

Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 05:49

Kalash One Image विशेष - द्वितीया को बैंगन और नींबू नहीं खाना चाहिए । ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) -  द्वितीया तिथि को राज संबंधी कार्य ( सरकारी कार्य ), व्रतबंध, प्रतिष्ठा, विवाह, यात्रा, भूषणादि के लिए शुभ होते हैं।

"हे आज की तिथि ( तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image शुक्रवार का पंचाग रविवार का पंचाग Forward ImageForward Image

शनिवार का पंचाग

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang


हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)
पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

20 जनवरी 2017

शनि देव जी का तांत्रिक मंत्र - ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः।।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) -शनिवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से आयु का नाश होता है । अत: शनिवार को बाल और दाढ़ी दोनों को ही नहीं कटवाना चाहिए

शनिवार के दिन प्रात: पीपल के पेड़ में दूध मिश्रित मीठे जल का अर्ध्य देने और सांय पीपल के नीचे तेल का चतुर्मुखी दीपक जलाने से कुंडली की समस्त ग्रह बाधाओं का निवारण होता है ।

शनिवार के दिन पीपल के नीचे हनुमान चालीसा पड़ने और गायत्री मन्त्र की एक माला का जाप करने से किसी भी तरह का भय नहीं रहता है, समस्त बिग़डे कार्य भी बनने लगते है ।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
* अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- तृतीया - 14:10 तक तदोपरांत चतुर्थी ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - तृतीया तिथि के स्वामी पार्वती शिव जी हैं तथा चतुर्थी तिथि के स्वामी गणेश जी है ।

तृतीया तिथि की स्वामी माँ गौरी और कुबेर जी है । तृतीया को जया तिथि भी कहा गया है। केवल बुधवार की तृतीया को छोड़कर यह तिथि सभी शुभ कार्यों में सफलता दिलाने वाली कही गई है। 
तृतीया तिथि में माँ गौरी जी की दूध मिठाई, अक्षत और सफ़ेद फूल से पूजा अर्चना करने से जीवन में सुख सौभाग्य की वृद्धि होती है। तृतीया को देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर जी पूजा करने से जातक को विपुल धन-धान्य, समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।


Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- शतभिषा तदोपरांत पूर्वभाद्रपद ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी शतभिषा नक्षत्र के देवता तोयम देव हैं एवं ग्रह स्वामी राहु देव है तथा पूर्वभाद्रपद नक्षत्र के देवता अजचरण(अजपात नामक सूर्य) देव हैं एवं ग्रह स्वामी बृहस्पति देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - व्यतीपात - 11:20 तक तदुपरांत वरीयान ।

Kalash One Image प्रथम करण : - गर - 14:10 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - वणिज - रात्रि 02:55 तक ।

Kalash One Imageगुलिक काल : - शनिवार को शुभ गुलिक प्रातः 6 से 7:30 बजे तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- शनिवार को पूर्व दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से अदरक खाकर, घी खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-सुबह - 9:00 से 10:30 तक।


Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 7:15 ।


Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 5:48 ।


Kalash One Image विशेष - तृतीया तिथि को परवल नहीं खाना चाहिए (तृतीया को परवल खाने से शत्रुओं की वृद्धि होती है)।  ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt)- तृतीया तिथि को यात्रा, शिल्प, चूड़ा कर्म,  अन्नप्राशन व गृह प्रवेश शुभ है। ।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Backword ImageBackword Image शनिवार का पंचाग सोमबार का पंचाग Forward ImageForward Image



रविवार का पंचाग

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

हिन्दू पंचाग(Hindu Panchang) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग(panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

14 जनवरी 2017

भगवान सूर्य जी का मंत्र : ऊँ घृणि सूर्याय नम: ।।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) रविवार को भगवान सूर्य को प्रात: ताम्बे के बर्तन में लाल चन्दन, गुड़, और लाल पुष्प डाल कर अर्घ्य देना चाहिए, एवं आदित्यहृदयस्तोत्रम्‌ का पाठ करना चाहिए। रविवार को यदि संभव हो तो नमक ना खाएं रविवार को मीठा खाना श्रेयकर होता है ।
स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।

*विक्रम संवत् 2074 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1939
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - शरद ऋतु
*मास - माघ माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- त्रयोदशी 15 जनवरी 02:30 तक तदुपरान्त चतुर्दशी ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - त्रयोदशी तिथि के स्वामी कामदेव हैं तथा चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान शिव जी हैं ।

मकर संक्रांति के दिन दान करने का विशेष महत्व है। हमारे शास्त्रों के अनुसार इस दिन किए गए दान का सहस्त्रों गुना पुण्य प्राप्त होता है। इस दिन कंबल, गर्म वस्त्र, घी, दाल-चावल की कच्ची खिचड़ी और तिल आदि का दान विशेष रूप से फलदायी माना गया है।

त्रयोदशी तिथि के स्वामी कामदेव हैं। कामदेव प्रेम के देवता माने जाते है । पौराणिक कथाओं के अनुसार कामदेव, भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी के पुत्र माने गए हैं। उनका विवाह प्रेम और आकर्षण की देवी रति से हुआ है। इनकी पूजा करने से जातक रूपवान होता है, उसे अपने प्रेम में सफलता एवं इच्छित एवं योग्य जीवनसाथी प्राप्त होता है। त्रियोदशी को कामदेव की पूजा करने से वैवाहिक सुख भी पूर्णरूप से मिलता है। इस तिथि का खास नाम जयकारा भी है। समान्यता त्रयोदशी तिथि यात्रा एवं शुभ कार्यो के लिए श्रेष्ठ होती है। त्रियोदशी को बैगन नहीं खाना चाहिए ।


Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra) ज्येष्ठा तदुपरान्त मूल ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता,ग्रह स्वामी- ज्येष्ठा नक्षत्र के देवता इन्द्र हैं एवं ग्रह स्वामी बुध है । तथा मूल नक्षत्र के देवता निर्रुती राक्षस हैं एवं ग्रह स्वामी केतु है ।

Kalash One Image योग(Yog) - ध्रुव - पूर्ण रात्रि तक।

Kalash One Image प्रथम करण : - गर - 13:10 तक

Kalash One Image द्वितीय करण : - वणिज 15 जनवरी 02:30

Kalash One Image गुलिक काल : - अपराह्न - 3:00 से 4:30 तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- रविवार को पश्चिम दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से पान या घी खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-सायं - 4:30 से 6:00 तक ।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 07:15 ।

Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 17:45 ।

Kalash One Image विशेष - त्रयोदशी को बैंगन नहीं खाना चाहिए। (त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र को कष्ट मिलता है और पुत्र की तरफ से भी दुःख प्राप्त होता है ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार- मकर संक्रांति ।

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) - त्रयोदशी को राज संबंधी कार्य ( सरकारी कार्य ), व्रतबंध, प्रतिष्ठा, विवाह, यात्रा, भूषणादि के लिए शुभ होते हैं।
त्रयोदशी तिथि को यात्रा, शिल्प, चूड़ा कर्म, अन्नप्राशन व गृह प्रवेश शुभ है।


"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

Kalash One Image माघ माह (जनवरी-फरवरी) में मूली, धनिया, चीनी और मिश्री खाना मना है ।
Kalash One Image इस माह में देसी घी और मेवो का सेवन अवश्य ही करें ।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Loading...


आज का पंचाग (aaj ka panchang)

friday-ka-panchag

जानिए क्या है आज का पंचाग