Memory Alexa Hindi

इलाहबाद संगम | Allahabad sangam


images

इलाहाबाद भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित है प्राचीन समय में इसे तीर्थराज प्रयाग के नाम से जाना जाता था। इस शहर का प्राचीन नाम ‘अग्ग्र’ था जो संस्कृत का शब्द है तथा इसका अर्थ है त्याग स्थल। कहते है कि सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रम्हा जी ने सृष्टि कार्य पूर्ण होने के बाद यहाँ पर प्रथम बलिदान दिया था। प्रयाग स्वयं ब्रम्हा जी एवं अनेको ऋषि मुनियों की तप एवं यज्ञस्थली रहा है। अतः इस क्षेत्र को बहुत ही पवित्र माना गया है।

यहाँ पर तीन महा नदियों का मिलन होता है पहली है गंगा जी दूसरी है यमुना जी और तीसरी सरस्वती जी। यहाँ पर यह तीनों नदियाँ शान्त रूप से बहती है। सफेद निर्मल जल गंगा जी का, हल्का हरा यमुना जी का एवं सरस्वती जी की धारा यहाँ पर विलुप्त है इनके मिलन के स्थल को संगम कहते है। यह स्थान सबसे बड़े महाकुंभ की स्थली है यहाँ पर हर 12 वर्ष के पश्चात महाकुंभ के मेले का आयोजन किया जाता है। कहते है यहाँ पर कुंभ में स्नान करने से मनुष्य के सारे पाप कट जाते है तथा वह जन्म-मरण के चक्र से छूटकर मोक्ष को प्राप्त करता है। इलाहाबाद में प्रत्येक वर्ष माघ माह में एक माह का माघ मेला लगता है जिसमें लोग दूर-दूर से आकर कल्पवास करते है।

यह जगह इतनी पवित्र एवं मोक्षदायनी कही गयी है कि लोग दूर-दूर से अपने प्रियजनों की अस्थियां संगम के जल में प्रवाहित कर उनकी मुक्ति की कामना करते है। यहीं पर सन् 1945 ई0 में राष्ट्रपति महात्मा गाँधी की अस्थियां भी विसर्जित की गयी थी।

इलाहाबाद का भारत पर बहुत अधिक प्रभाव है। भारत के सात प्रधानमंत्री, जवाहरलाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गाँधी, गुलजारी लाल नन्दा, राजीव गाँधी, विश्वनाथ प्रताप सिंह और चन्द्रशेखर जी यहाँ से सम्बन्धित है ये या तो यहाँ जन्मे है या यहाँ से पढ़े है या इलाहाबाद निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव में विजयी हुये है इसके अतिरिक्त बहुत से बुद्धिजीवी कवि, साहित्यकार, नेता, अभिनेता, गायक, वादक, वैज्ञानिक आदि यही से है।

इलाहाबाद का किला, संगम, अशोक का एतिहासिक स्तम्भ, हनुमान मंदिर, शिव कुटी, भरद्वाज आश्रम, स्वराज भवन, खुसरौ बाग, आनन्द भवन, चन्द्रशेखर आजाद पार्क आदि अन्य दर्शनीय स्थल है।












Loading...



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।