Memory Alexa Hindi

महामृत्युंजय यंत्र

Mahamrityunjaya Yantra

Ganesh Hindi Image
Ad space on memory museum
महामृत्युंजय यन्त्र Mahamrityunjaya Yantra के सम्पूर्ण पुण्य, व्यक्तिगत अशीर्वाद की प्राप्ति और निरोगिता एवं उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति के कुछ खास अचूक उपायोंको जानने के लिए इस साईट पर लॉग इन करके अपने महाम्रतुन्जय यन्त्र Mahamrityunjaya Yantra के पेज पर जायें ।

महामृत्युंजय यंत्र

Mahamrityunjaya Yantra

भगवान शिव जी के मंत्र

Bhagwan Shiv Ji Ke Mantra


Maha Mrityunjaya yantra Hindi

महामृत्युंजय मंत्र

Mahamrityunjaya Mantra


महामृत्युंजय मन्त्र -



ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥



यहाँ सिद्ध किया हुआ महामृत्युंजय यंत्र Mahamrityunjaya Mantra एक बहुत ही उपयोगी यंत्र है ।
hand-logo व्यक्ति की जन्म कुंडली में सूर्यादि ग्रहों के द्वारा किसी ही प्रकार का अनिष्ट होने पर,
hand-logo मारकेश होने पर,
hand-logo भयंकर रोग,
hand-logo मिथ्यादोश रोपण ( कलंक ) की सम्भावना होने पर
इस यंत्र की स्थापना , आराधना , ध्यान से तुरंत लाभ/बचाव होता है ।
hand-logo इस यंत्र के द्वारा व्यक्ति को सदबुद्धि, मन की शांति, रोग विमुक्ति मिलती है ।
hand-logo व्यक्ति को आकस्मिक दुर्घटना, आकाल म्रत्यु, भयंकर शत्रुता से बचाव तथा सुख सौभाग्य की प्राप्ति होती है ।
hand-logo इस यन्त्र के चमत्कारी प्रभाव से व्यक्ति निरोगी रहकर दीर्घ आयु को प्राप्त करता है ।

Tags: महामृत्युंजय यंत्र, Mahamrityunjay Yantra, महामृत्युंजय मंत्र, Mahamrityunjay Mantra, महामृत्युंजय मंत्र जाप, Mahamrityunjay Mantra Jaap, शिव मंत्र, Shiv Mantra, भगवान शिव के मंत्र, Shiv Ji Ke Mantra, शंकर जी के मंत्र, Shankar Ji Ke Mantra

hand-logo ओम त्रम्बक्म मंत्र में 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठ के अनुसार 33 देवताओं के प्रतीक हैं। उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं। इन तैंतीस देवताओं की सम्पूर्ण शक्तियाँ इस अदभुत महामृत्युंजय मंत्र Mahamrityunjaya Mantra में निहीत है जिससे इस महा महामृत्युंजय का पाठ करने वाला प्राणी दीर्घायु के साथ ही, निरोगिता, यश एवं ऐश्वर्य को भी प्राप्त करता है ।

hand-logo स्नान करते समय शरीर पर लोटे से पानी डालते वक्त इस मंत्र का लगातार जप करते रहने से स्वास्थ्य-लाभ होता है।
hand-logo दूध में निहारते हुए यदि इस मंत्र का कम से कम 11 बार जप किया जाए और फिर वह दूध पी लें तो यौवन की सुरक्षा भी होती है।
hand-logo इस चमत्कारी मन्त्र का नित्य पाठ करने वाले व्यक्ति पर भगवान शिव की कृपा निरन्तंर बरसती रहती है ।



hand-logo महामृत्युञ्जय मंत्र :-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

hand-logo शिव मूल मंत्र:-

"ॐ नमः शिवाय"॥

hand-logo रुद्र गायत्री मंत्र:-

"ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि, तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्"॥

hand-logo संकटो को दूर करने वाला भगवान शिव का मन्त्र :-

"ॐ नमः शिवाय शुभं शुभं कुरू कुरू शिवाय नमः ॐ"॥
hand-logo भगवान शिव की कृपा प्राप्त करने के मन्त्र hand-logo

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे न काराय नम: शिवाय:॥

"कर्पूर गौरम करूणावतारम संसार सारम भुजगेन्द्र हारम । सदा वसंतम हृदयारविंदे भवम भवानी सहितं नमामि"॥

"ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय"॥

"ॐ पार्वतीपतये नमः"॥

"ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय"॥

"'ॐ नमः शिवाय शुभं शुभं कुरू कुरू शिवाय नमः ॐ'"॥