Memory Alexa Hindi

राजगीर
Rajgir


images

राजगीर धाम
Rajgir Puri Dham






बिहार राज्य में नालन्दा से मात्र 13 कि0मी0 की दूरी पर बौद्धों की श्रद्धा का केन्द्र राजगीर नामक स्थान है। राजगीर को प्राचीन काल में राजगृह के नाम से जाना जाता था इस जगह का बहुत ही एतिहासिक और धार्मिक महत्व है। यह कभी मगध सम्राज्य की राजधानी थी, इसी जगह से महान मौर्य सम्राज्य का उदय हुआ था। कहते हैं राजगीर भगवान ब्रम्हा की पवित्र यज्ञ भूमि, भगवान बुद्ध तथा जैन तीथंकर भगवान महावीर की साधना भूमि रहा हैं। जरासंघ ने यही भगवान श्रीकृष्ण को हराकर उन्हें मथुरा से द्वारिका जाने को मजबूर किया था।

राजगीर का मकर तथा मलमास का मेला बहुत प्रसिद्ध हैं। शास्त्रों के अनुसार मलमास को 13वें मास के रूप में बताया गया है अतः इसे अपवित्र मास माना गया है तथा इसमें कोई भी धार्मिक कार्य वर्जित है परन्तु इस समय में पृथ्वी में राजगीर को सबसे पवित्र माना जाता है, कहते है इस समय सभी देवी देवता राजगीर में निवास करते है तथा यहाँ भगवान ब्रम्हा द्वारा प्रकट किये गये ब्रम्ह कुण्ड में स्नान करने से विशेष पुण्य प्राप्त होता है।

राजगीर से बौध धर्म का बहुत नजदीकी सम्बन्ध रहा है। कहते है भगवान बुद्ध ने यहाँ कई वर्षाें तक निवास किया था तथा यहाँ पर कई बार उपदेश भी दिये थे। भगवान बुद्ध के निवार्ण के बाद यहीं प्रसिद्ध ‘सप्तपर्णी गुफा’ में पहला बौध सम्मेलन आयोजित किया गया था और यहीं पर भगवान बुद्ध के उपदेशों को लिपिबद्ध भी किया गया था। यहाँ पर जापान के बौद्ध संघ द्वारा निर्मित ‘विश्व शान्ति स्तूप’ बहुत सुन्दर है। यह स्तूप ग्रीधरकूट पहाड़ी पर बना है, कहते है इस पर्वत पर भगवान बुद्ध ने कई उपदेश दिये थे। इस स्तूप के चारो कोनों पर भगवान बुद्ध की चार दिव्य प्रतिमाएं स्थापित है। यहाँ पर सम्राट बिम्बसार द्वारा बांस का बनाया रमणीक ‘वेणुवन बिहार’ अति दर्शनीय है कहते है यहाँ पर भगवान बुद्ध आये थे।

यहाँ से कुछ दूरी पर प्रसिद्ध जैन तीर्थ स्थल ‘पावापुरी’ स्थित है, यहाँ पर भगवान महावीर का एक भव्य मंदिर है। यहाँ पर जरासंघ का अखाड़ा, लक्ष्मीनारायण मंदिर, सप्तपर्णी गुफा, पिपली गुफा, स्वर्ण भण्डार आदि प्रमुख दर्शनीय स्थल है।









Loading...



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।