Tuesday, November 29, 2022
Home Akshaya Tritiya अक्षय तृतीया पर दान, Akshay Tritiya par daan, Akshay Tritiya 2022,

अक्षय तृतीया पर दान, Akshay Tritiya par daan, Akshay Tritiya 2022,

अक्षय तृतीया पर दान, Akshay Tritiya par daan,

kalash

हिन्दू धर्म में दान को बहुत बड़ा महत्व दिया गया है, और अक्षय तृतीया पर दान, Akshay Tritiya par dan द्वारा अर्जित पुण्य लिखने में तो स्वयं चित्रगुप्त भी असमर्थ है। शास्त्रों में जन्म जन्मांतर तक धन-समृद्धि, उच्च कुल, समस्त सांसारिक सुखो और पापो के नाश हेतु अपनी आय का एक अंश दान के रूप में खर्च करना अनिवार्य माना है। लगभग सभी धर्मो में दान को आवश्यक धर्म-कर्तव्य घोषित किया था।

गरीब से लेकर अमीर, सभी को अपनी-अपनी दशा के अनुसार कुछ-न कुछ अवश्य ही दान करते रहना चाहिए।

लेकिन यह जानना भी अवश्य है कि दान क्यों करना चाहिए, दान किसे देना चाहिये, कब करना चाहिए और कैसे करना चाहिये।

kalash

दान की महिमा तभी होती है जब वह निस्वार्थ भाव से दिया जाता है, अगर कुछ पाने की लालसा में, स्वार्थ वश दान किया जाए तो वह व्यापार बन जाता है, वस्तुत: वह दान व्यर्थ होता है, उसका तनिक भी पुण्य नहीं मिलता है।

kalash

दान के विषय में कहा था-”तुम्हारा दायाँ हाथ जो देता है उसे बाँया हाथ भी न जान पाये।” इसीलिए गुप्त दान को सर्वोपरि माना गया है।

kalash

स्मरण रहे दान के बदले यदि आपको तुरन्त ही कोई लाभ मिल गया, चाहे वह नाम, यश, कीर्ति या सामाजिक महत्व ही क्यों न हो तो आपके दान का भी मूल्य गिर गया।

अवश्य पढ़ें :- अक्षय तृतीया पर मात्र 10 रुपये की इस खरीददारी से घर में सुख समृद्धि चुम्बक की तरह खींची चली आएगी,

kalash

“दान के मानी फेंकना नहीं वरन् बोना है।” दान इस मनुष्य जन्म में की गयी वो खेती ( फसल ) है जिसको बोने के बाद जन्म जन्मांतर तक काटा जाता है। दान देने से ईश्वर की कृपा मिलती है, पूर्वजों को स्वर्ग मिलता है, परिवार से रोग, शोक दूर रहते है, परिवार के सभी सदस्य संस्कारी होते है, आने वाली पीढ़ियां भी वंश का नाम रौशन करती है।

निस्वार्थ भाव से, परोपकार की भावना से एक हाथ से दिया गया दान हज़ारों हाथों से लौटता है। इसका पुण्य सदैव मनुष्य के साथ ढाल बन कर रहता है।

kalash

दान अगर शुभ समय, शुभ मुहूर्त और वो भी अक्षय तृतीया जैसी पुण्य प्रदान करने वाली तिथि में किया जाय तो अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है अर्थात वह पुण्य कभी भी समाप्त नहीं होता है।

kalash

दान करने से जाने-अनजाने हुए पापों का बोझ हल्का होता है और पुण्य की पूंजी बढ़ती है। अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya के विषय में कहा गया है कि इस दिन किया गया दान खर्च नहीं होता है, यानी आप जितना दान करते हैं उससे कई गुणा आपके अलौकिक कोष में जमा हो जाता है।

kalash

मृत्यु के बाद जब अन्य लोक में जाना पड़ता है तब उस कोष से दिया गया दान विभिन्न रूपों में प्राप्त होता है। पुनर्जन्म लेकर जब धरती पर आते हैं तब भी उस कोष में जमा धन के कारण धरती पर भौतिक सुख एवं वैभव प्राप्त होता है।

kalash

भविष्य पुराण में कहा गया है- ‘यत् किंचिद् दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु। तत् सर्वमक्षयं यस्मात् तेनेयमक्षया स्मृता।।’

अर्थात इस तिथि में थोड़ा या बहुत, जितना और जो कुछ भी दान दिया जाता है, उसका फल अक्षय हो जाता है।

kalash

ऋषि-मुनियों का निर्देश है कि अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya के दिन हर व्यक्ति को अपनी साम‌र्थ्य के अनुसार दान अवश्य करना चाहिए।

kalash

कहा जाता है इस खास दिन पर गरीब और भूखे को खाना जरूर खिलाना चाहिए और उन्हें उनकी जरूरत के हिसाब से दान भी करना चाहिए।

kalash

अक्षय तृतीया के दिन दान करना आपको मृत्यु के भय से काफी दूर रखता है।

kalash

कहते हैं इस दिन गरीब बच्चों को दूध, दही, मक्खन, छेना, पनीर आदि का दान करते हैं तो मां सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

kalash

अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya के दिन विशेषकर जौ, तिल और का चावल का दान महत्वपूर्ण माना जाता है।

kalash

गंगा स्नान के बाद सत्तू खाने तथा जौ और सत्तू दान करने से आप अपने बुरे कर्मों के पाप से मुक्त होते हैं।

इस कारण से अक्षय तृतीया है का है अत्यधिक महत्त्व, हर हिन्दू को अवश्य ही जानना चाहिए

kalash

प्रातः पंखा, चावल, नमक, घी, शक्कर, साग, इमली, फल तथा वस्त्र का दान करके ब्राह्मणों को दक्षिणा भी देनी चाहिए।

kalash

अक्षय तृतीया के दिन खरबूजा और मटकी का दान करने का भी महत्व है।

kalash

अक्षय तृतीया के दिन पारिवारिक सुख के लिए व्यक्तियों को सत्तू, दही, चावल, खीर आदि का अवश्य ही दान करना चाहिए । 

kalash

इस दिन अपने व्यापार / नौकरी में सफलता और धनलाभ के लिए जातकों को प्रात: सूर्य देवता को तांबे के बर्तन में शहद, हल्दी / लाल चन्दन, लाल फूल और गंगा जल डाल कर अर्घ देना चाहिए । इस दिन सुबह पूजा के बाद अपनी तिजोरी में 11 कौड़ियां स्थापित करनी चाहिए तत पश्चात  तिल, लोहा, नारियल, नमक, पीला वस्त्र , छाता, जूता – चप्पल,खरबूजा / तरबूज एवं नकद दक्षिणा का दान करना चाहिए । 

इस दिन यथासंभव आदित्यहृदय स्त्रोत, विष्णु सहस्त्रनाम, ललिता सहस्त्रनाम का पाठ अवश्य ही करना चाहिए । अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya के दिन भगवान विष्णु के नरसिंह रुप का अवश्य ही ध्यान करें।

आज भगवान नरसिंह के मंत्र का जाप करने से समस्त भय और संकट दूर होते है।

भगवान नरसिंह का दिव्य मंत्र :- “ॐ नृम नृम नृम नर सिंहाय नमः “।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दरिद्रता दूर करने का उपाय, daridrata dur karne ke upay,

daridrata dur karne ke upay, दरिद्रता दूर करने का उपाय,* प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसे इस जीवन...

दिल की बीमारी के उपाय, Dil Ki Bimari ke Upay,

दिल की बीमारी के उपाय, Dil Ki Bimari ke Upay,भारत में हार्ट अटैक या दिल की बिमारियों से...

सूर्य को अर्ध्य, Surya Ko Ardhya,

सूर्य को अर्ध्य, Surya Ko Ardhya,भगवान सूर्य देव को अर्ध्य देने के लाभइस...

पितरों की विदाई, pitron ki vidai, Pitr paksh 2022,

पितरों की विदाई, pitron ki vidai,* पितृ पक्ष Pitra Paksh में श्राद्ध करके पितृ अमावस्या Pitra Amavasya के...
Translate »