Wednesday, April 14, 2021
Home Hindi सावन बेलपत्र का महत्व, belpatr ka mahatva,

बेलपत्र का महत्व, belpatr ka mahatva,

Belpatr ka mahatva, बेलपत्र का महत्व,

  •  बिल्व पत्र ( belv patr) के वृक्ष को ” श्री वृक्ष ” भी कहा जाता है इसे ” शिवद्रुम ” भी कहते है। शास्त्रों में अनेको जगह बेलपत्र का महत्व, belpatr ka mahatva, बताया गया है। बिल्वाष्टक और शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव को बेलपत्र ( belpatr ) अत्यंत प्रिय है। मान्यता है कि बेल पत्र के तीनो पत्ते त्रिनेत्रस्वरूप् भगवान शिव के तीनों नेत्रों को विशेष प्रिय हैं। बिल्व पत्र के पूजन से सभी पापो का नाश होता है ।
  •  स्कंदपुराण’ में बेल पत्र ( bel patr ) के वृक्ष की उत्पत्ति के संबंध में कहा गया है कि एक बार माँ पार्वती ने अपनी उँगलियों से अपने ललाट पर आया पसीना पोछकर उसे फेंक दिया , माँ के पसीने की कुछ बूंदें मंदार पर्वत पर गिरीं, कहते है उसी से बेल वृक्ष उत्पन्न हुआ।
  • शास्त्रों के अनुसार इस वृक्ष की जड़ों में माँ गिरिजा, तने में माँ महेश्वरी, इसकी शाखाओं में माँ दक्षयायनी, बेल पत्र की पत्तियों में माँ पार्वती, इसके फूलों में माँ गौरी और बेल पत्र के फलों में माँ कात्यायनी का वास हैं।
  •  बिल्व का पेड़ संपन्नता का प्रतीक, बहुत पवित्र तथा समृद्धि देने वाला है। मान्यता है कि बिल वृक्ष में माँ लक्ष्मी का भी वास है अत: घर में बेल पत्र लगाने से देवी महालक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं, जातक वैभवशाली बनता है।

Belpatr ka mahatva, बेलपत्र का महत्व,

  • बेलपत्र से भगवान शिव का पूजन करने से समस्त सांसारिक सुख की प्राप्ति होती है, धन-सम्पति की कभी भी कमी नहीं होती है।
  •  सोमवार, चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी, अमावस्या और संक्राति के दिन बिल्वपत्र को नहीं तोडऩा चाहिए।
  •  बेलपत्र के पेड़ की टहनी से चुन-चुनकर सिर्फ बेलपत्र ही तोड़ना चाहिए, कभी भी पूरी टहनी नहीं तोड़ना चाहिए।
  •  शिवलिंग पर बेलपत्र ( belpatr ) अर्पित करने से महादेव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। मान्यता है कि भगवान शिव की आराधना बेलपत्र के बिना पूरी नहीं होती। लेकिन
  •  एक बेलपत्र ( belpatr ) में तीन पत्तियां अवश्य ही होनी चाहिए.तभी वह बिलपत्र शिवलिंग पर चढ़ने योग्य होता है ।
  •  भगवान शिव जी को बेलपत्र अर्पित करते समय जल की धारा भी जरूर चढ़ाएं।
  •  यह ध्यान दीजिये कि बेलपत्र की पत्तियां कटी फटी या टूटी ना हों और उनमें कोई छेद भी नहीं होना चाहिए।
  •  बेलपत्र को भगवान शिव पर चिकनी तरफ से ही अर्पित करें।
  •  अगर बेलपत्र पर “ॐ नम: शिवाय” या “राम राम ” लिखकर उसे भगवान भोलेनाथ पर अर्पित किया जाय तो यह बहुत ही पुण्यदायक होता है ।
  •  शास्त्रों के अनुसार रविवार के दिन बेलपत्र का पूजन करने से समस्त पापो का नाश होता है।
  •  तृतीया तिथि के स्वामी देवताओं के कोषाध्यक्ष एवं भगवान भोलाथ के प्रिय कुबेर जी है । तृतीया को बेलपत्र चढ़ाकर कुबेर जी की पूजा करने , उनके मन्त्र का जाप करने से अतुल ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। और अगर कुबेर जी की पूजा बेल के वृक्ष के नीचे बैठकर, अथवा शिव मंदिर में की जाय तो पीढ़ियों तक धन की कोई भी कमी नहीं रहती है ।
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मौनी अमावस्या का महत्त्व, mauni amavasya ka mahtv,

मौनी अमावस्या का महत्त्व, mauni amavasya ka mahtv,मौनी अमावस्या 2021

कार्तिक पूर्णिमा का महत्त्व, kartik purnima ka mahatwa,

कार्तिक पूर्णिमा का महत्त्व, kartik purnima ka mahatwa,सृष्टि के प्रारम्भ से ही कार्तिक...

पथ्य अपथ्य आहार | खाने में सावधानियाँ | pathy apathy ahar

हमारे ऋषि मुनियों ने खाने के कुछ नियम बताये हैं कि किस वस्तु के साथ क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ।...

अमावस्या के अचूक उपाय, amavasya ke achuk upay,

अमावस्या के अचूक उपाय, amavasya ke achuk upay,ज्योतिष...
Translate »