Wednesday, October 20, 2021
Home Hindi गंभीर रोग डेंगू का इलाज, dengu ka ilaz,

डेंगू का इलाज, dengu ka ilaz,


डेंगू का इलाज, dengu ka ilaz,

डेंगू dengue एक खतरनाक वायरल रोग है, जिसका वायरस संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी नामक मच्छर के काटने से बहुत तेजी फैलता है। डेंगू के मरीज़ dengue ke marij के लिए पहले 72 घण्टे बहुत ही महत्वपूर्ण होते है।
डेंगू के मच्छर dengue ke macchar से बचाव एवं शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना ही डेंगू से बचने का सर्वोत्तम उपाय dengue se bachne ka upay है।

जानिए, डेंगू के अचूक उपाय | dengue ke achuk upay, डेंगू के घरेलु नुस्खे dengue ke gharelu nuskhe, खून में प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय, khoon men pletelets badane ke upay,

* डेंगू Dengue से बचने के लिए विटामिन सी ( आँवला , नींबू पानी आदि ) का अधिक से अधिक प्रयोग करें ।

* डेंगू का मच्छर अधिकतर दिन में काटता है इसलिए फुल आस्तीन की ही पैंट शर्ट,महिलाएँ फुल आस्तीन की सलवार कमीज़ पहनें और घर में यथासंभव मच्छर भगाने की कोई भी अगरबत्ती, मच्छर भगाने का स्प्रे का उपयोग करें जिससे मच्छर ना हो ।

यह भी देखें :- प्रत्येक दिन में शुभ और अशुभ दोनों ही चौघड़ियाँ होती है, जिससे हम अपने कार्यो में श्रेष्ठ सफलता प्राप्त कर सकते है जानिए अपने लिए प्रतिदिन के अनुकूल समय

* डेंगू एक ऐसा वायरल रोग है जिसका मेडिकल चिकित्सा पद्धति में कोई कोई ठोस इलाज नहीं है परन्तु आयुर्वेद में इसका बहुत ही सरल और सस्ता इलाज है जिसे कोई भी कर सकता है।

* डेंगू बुखार के दौरान रोगी को विटामिन-सी से भरपूर चीजें जैसे आंवला, संतरा या मौसमी अधिक से अधिक मात्रा में लेनी चाहिए। इसके साथ ही हल्दी का भी ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करें।
हल्दी को सुबह और रात को आधा आधा चम्मच पानी या दूध के साथ लें । किन्‍तु यदि रोगी को जुकाम भी हो, तो दूध का सेवन न करें।

* इसके अलावा तुलसी के पत्तों को उबालकर शहद के साथ उसका सेवन करें । इन सभी उपायों से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता सुदृढ़ होती है और शरीर डेंगू की बीमारी से आसानी से लड़ता है ।

अवश्य जाने :- गोरी त्वचा पाने के लिए रात में सोते समय करें ये उपाय, इससे त्वचा का रंग साफ होता है, चेहरे में चमक आती है,

* यदि डेंगू का रोग आपके किसी भी जानने वाले को हो और उसमे ऊपर बताये गए लक्षण दिखें , उसके खून में प्लेटलेट की संख्या कम होती जा रही हो तो यहाँ पर बताई गई चार चीज़ें रोगी को शीघ्र से शीघ्र दें:–

1. अनार जूस

2. गेहूं घास रस / सेब का रस

3. पपीते के पत्तों का रस

4. गिलोय/अमृता/अमरबेल सत्व

क्लिक करें:- कैसी भी बवासीर की परेशानी से निजात पाने के लिए इस साइट पर दिए गए उपचारों को अवश्य ही जानिए ।

* डेंगू Dengue के मरीज को दिन में 3 – 4 बार अनार का जूस देना चाहिए । अनार के जूस से रोगी के शरीर में खून बनता है तथा रोगी की रोग से लड़ने क्षमता बढ़ती है।
अनार जूस ताजा निकाल कर दे ही देना चाहिए । डेंगू के मरीज को दिन में अनार कई बार खिलाना चाहिए , इससे खून में प्लेटलेट्स की मात्रा कम नहीं होने पाती है ।

* डेंगू होने पर ठोस पदार्थों का सेवन ना करें ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करें ।

जरूर पढ़े :- व्यापार में सफलता के लिए सही शुरुआत का होना आवश्यक है, अपने व्यापार को शुरू करने के सही समय/मुहूर्त को जानने के लिए क्लिक करें

* डेंगू के मरीज को नारियल पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए ।

* गेहूं घास के रस के लिए गेंहूँ उगाना पड़ता है जिसमे 7 – 8 दिन लगते है यदि यह उपलब्ध ना हो तो रोगी को उसके स्थानं पर सेब का रस भी दिया जा सकता है l
सेब का रस भी ताजा ही निकाल कर देना चहिये। डिब्बे बंद रस से यथासंभव दूर ही रहना चाहिए । डेंगू के मरीज को दिन में सेब भी कई बार खिलाएं इससे शरीर में ताकत आती है ।

डेंगू, Dengue, डेंगू का इलाज, Dengue ka ilaz, डेंगू का उपाय, Dengue ka upay, डेंगू में क्या करें, Dengue men kya karen, डेंगू की दवा, Dengue ki dava, डेंगू के घरेलु नुस्खे, Dengue ke gharelu nuskhe,

इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पथ्य अपथ्य आहार | खाने में सावधानियाँ | pathy apathy ahar

हमारे ऋषि मुनियों ने खाने के कुछ नियम बताये हैं कि किस वस्तु के साथ क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ।...

भाई दूज की कथा. Bhai duj ki katha

भाई दूज क्यों मनाया जाता हैहिन्दू धर्म में भाई-बहन के स्नेह के...

Home Remedies for Weight Loss

HOME REMEDIES FOR WEIGHT LOSSTo reduce weight and look slim and trim we try all sorts of...

द्वारिका नगरी, Dwarika Nagri,

द्वारिका नगरी, Dwarika Nagri,गुजरात राज्य के गोमती नदी के तट पर द्वारका स्थित है। द्वारका हिन्दुओ के...
Translate »