Saturday, April 17, 2021
Home Hindi घरेलु उपचार गठिया जोड़ो के दर्द | गठिया जोड़ो के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

गठिया जोड़ो के दर्द | गठिया जोड़ो के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

गठिया जोड़ो के दर्द का आयुवेदिक इलाज
Gathiya jodo ke dard ka ayurvedic ilaj

उम्र बढ़ने के साथ साथ जब जोड़ो में यूरिक एसिड जमा हो जाता है तो वह गठिया की बीमारी का रूप ले लेता है। गठिया में मरीज़ को जोड़ो में दर्द, अकड़न और सूजन का सामना करना पड़ता है। विशेषकर सर्दियों में बहुत ज्यादा तकलीफ होने लगती है , जोड़ो में सूजन आ जाती है, चुभन सी होने लगती है ।

Kalash One Image गठिया के रोग ( gathiya ke rog ) , जोड़ो में दर्द ( jodo me dard ) और शरीर की सूजन में दालचीनी राम बाण का काम करती है।

Kalash One Image दालचीनी दक्षिण भारत का एक पेड़ है जिसकी छाल का प्रयोग मसालो और औषधियों के रूप में किया जाता है । दालचीनी उष्ण-तीक्ष्ण एवं रक्त में पित्त की मात्रा बढ़ानेवाली है। इसके अधिक सेवन से शरीर में गरमी उत्पन्न होती है। दालचीनी उष्ण-तीक्ष्ण होने के कारण विशेष रूप से कफ एवं वात दोनों का ही नाश करती है । अतः यह त्रिदोषशामक है।

Kalash One Image गठिया, ( gathiya ) जोड़ो का दर्द ( jod ka dard ) दूर करने के लिए एक बडा चम्मच शहद और एक आधा चम्मच दालचीनी का पावडर सुबह और शाम एक गिलास मामूली गर्म जल से नियमित रूप से लें लें। एक शोध में कहा है कि चिकित्सकों ने गठिया के रोगियों को नाश्ते से पूर्व एक बडा चम्मच शहद और आधा छोटा चम्मच दालचीनी के पावडर का मिश्रण गरम पानी के साथ दिया।

Kalash One Image इस प्रयोग से गठिया के रोगियों में चमत्कारी परिणाम देखे गए । केवल एक हफ़्ते में ही 30 प्रतिशत रोगी गठिया के दर्द से मुक्त हो गये। एक महीने के प्रयोग से जो रोगी गठिया की वजह से चलने फ़िरने में असमर्थ हो गये थे वे भी चलने फ़िरने लायक हो गये।

Kalash One Image चूँकि दालचीनी की प्रकृति गर्म होती है अतः इसे सर्दियों में ज्यादा उपयोग करें एवं गर्मियों में इसकी मात्रा आधी कर दें ।
ध्यान दे कि दालचीनी और शहद को हलके गर्म पानी के साथ ही लें और इसके सेवन के बाद एक घण्टे तक कुछ भी ना खाएं ।

इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

भगवान शिव पर क्या चढ़ाएं, bhagwan shiv par kya chadaye,

भगवान शिव पर क्या चढ़ाएं, bhagwan shiv par kya chadaye,महा शिवरात्रि / सावन में भगवान शिव पर...

होली के अचूक उपाय, holi ke achuk upay,

होली के अचूक उपाय, holi ke achuk upay,ज्योतिष शास्त्र में शिवरात्रि, होली, दीपावली, जन्माष्टमी आदि का बहुत महत्व...

What is Bhadra

Vighn kaarak Bhadra in the month of NovemberBhadra ,As per the Hindu scriptures, when embarking on any...

विवाह के शुभ मुहूर्त

2016 में विवाह की शुभ मुहूर्त Vivah ki shubh muhuratकहते है किसी भी कार्य को शुभ मुहूर्त में...
Translate »