Saturday, April 17, 2021
Home Hindi मुहूर्त गुरुवार के शुभ अशुभ मुहूर्त, Guruwar Ke Shub Ashubh Muhurt

गुरुवार के शुभ अशुभ मुहूर्त, Guruwar Ke Shub Ashubh Muhurt

Guruvaar ke shubh ashubh muhurt, गुरुवार के शुभ अशुभ मुहूर्त,

आज का शुभ मुहूर्त
Aaj Ka Shubh Muhurt

अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज का मुहूर्त ( Aaj Aa muhurat ), गुरुवार का मुहूर्त ( Budhwar Ka Muhurt ) शुभ अशुभ मुहूर्त

( shubh ashubh muhurat ) ।

* तिथि- ष्ठी  07:39 तक तत्पश्चात सप्तमी

तिथि समय – आज अश्विन (अधिक) माह की शुक्ल  पक्ष की ष्ठी  तिथि दिन गुरुवार है ।

षष्टी तिथि को कीर्ति के नाम से भी जाना जाता है। षष्ठी को नए कार्य,  मांगलिक कार्य, किसी भी तरह की खरीदारी करने से शुभ फल मिलते हैं। लेकिन रविवार को पड़ने वाली षष्ठी तिथि में शुभ कार्यों की शुरुआत नहीं करनी चाहिए।  षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान शिव के पुत्र स्कंद देव अर्थात् भगवान कार्तिकेय हैं। भगवान कार्तिकेय शक्ति के देवता , देवताओं के सेनापति है । दक्षिण भारत में इन्हे ‘मुरूगन स्वामी’ के नाम से जाना जाता है। मनुष्य को जीवन में निर्भयता, विजय, प्रतिष्ठा, राज द्वार, मुक़दमे में सफलता आदि सब इनकी कृपा से ही प्राप्त होते है। जीवन में सभी प्रकार के कष्टों और संकटों को दूर करने के लिए षष्टी के दिन भगवान कार्तिकेय के गायत्री मंत्र “ओम तत्पुरुषाय विधमहे: महा सैन्या धीमहि तन्नो स्कन्दा प्रचोद्यात:॥” का जाप अवश्य ही करना चाहिए । 

आज के शुभ मुहूर्त

आज का अभिजित मुहूर्त abhijit muhurat (शुभ समय) ( auspicious time )

अभिजित मुहूर्त abhijit muhurat दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |

आज का गुलीक काल (शुभ समय)

बुधवार —– प्रातः 10.30 से 12 बजे तक

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया

दिन की लाभ चौघड़िया —– प्रात: काल 6.00 AM To 7.30 AM

दिन की अमृत चौघड़िया — प्रात: काल 7.30 AM To 9.00 AM

दिन की शुभ चौघड़िया —- प्रात: काल 10.30 AM To 12.00 PM

दिन की चर चौघड़िया —- अपराह्न 03:00 PM To 04:30 PM

दिन की लाभ चौघड़िया —— सायं काल 4:30 PM To 6.00 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया

शुभ चौघड़िया —— रात्रि 7.30 PM To 9.00 PM

अमृत चौघड़िया —- रात्रि 9.00 PM To 10.30 PM

चर चौघड़िया —- रात्रि 10:30 PM To 12:00 AM

लाभ चौघड़िया —– मध्य रात्रि 3.30 AM To 4.30 AM

बुधवार का दिशा शूल——– बुधवार के शुभ उपाय
उत्तर दिशा———घर से सुखा/हरा धनिया या तिल खाकर जाएँ

आज के अशुभ मुहूर्त

राहु काल (Rahu kaal)
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय)

बुधवार —- दिन -12.00 से 01.30 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया

दिन की काल चौघड़िया —– प्रात: काल 9.00 AM 10.30 AM

दिन की रोग चौघड़िया —- मध्यान 12.00 PM 1.30 PM अपराह्न

दिन की उद्बेग चौघड़िया —– अपराह्न 1.30 AM 3.00 AM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया —– सायं काल 6.00 PM 7.30 PM

रात्रि की रोग चौघड़िया —– मध्य रात्रि 12.00 AM 1.30 AM

रात्रि की काल चौघड़िया —— मध्य रात्रि 1.30 AM 3.00 AM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया —– प्रात: काल 4.30 AM 6.00 AM

जेठ माह (मई-जून) में दोपहर में चलना मना है। नारियल पानी , छाछ में थोड़ा सेंधा अथवा काला नमक डाल कर पीना चाहिए । इन माह में नींद पर्याप्त ले अन्यथा सेहत पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Memorymuseum

User Registration( Register yourself to get access )Register [email protected] Gender Male Female Religion...

अक्षय तृतीया

"न क्षयः इति अक्षयः -----अर्थात जिसका क्षय ना हो वह है अक्षय"।

Height badyen, हाइट बढ़ाएं,

हाइट बढ़ाएं, height badyen,आज के युग में हर व्यक्ति चाहता है कि उसकी height, लम्बाई अच्छी हो, वस्तुत:...

Kanya Pujan in navratri, significance of Kanya Pujan During Navratri,

Significance of workshipping kanya pujan During navratri,Navratras is a festival of joy, gaiety, happiness and beauty. It...
Translate »