Monday, March 1, 2021
Home Hindi घरेलु उपचार थाइराइड क्या होता है | थाइराइड रोग की पहचान

थाइराइड क्या होता है | थाइराइड रोग की पहचान

क्या है थाइराइड
Kya hai thyroid

वर्तमान समय में अति व्यस्त, तनावपूर्ण जीवनशैली और दूषित एवं अनियमित खान पान के कारण अनेको रोग सामने आते जा रहे है इनमें एक बहुत ही प्रचलित रोग है थायराइड ग्रंथि से सम्बंधित अर्थात थाइराइड ।
आज के दौर में लगभग पैंतीस से अधिक की उम्र की महिलाओं में यह समस्या बहुत ज्यादा पायी जा रही है और बहुत बड़ी संख्या में पुरुष भी इस रोग की चपेट में आते जा रहे है,

हमारे गर्दन के सामने वाले हिस्से में तितली के आकार की अन्तःस्रावी ग्रंथि होती है जो थायराइड ग्रंथि के नाम से जानी जाती है । यह ग्रंथि एक हार्मोन को उत्पन्न करती है जिससे हमारे शरीर में मेटाबोलिज्म की क्रिया नियंत्रित होती है। इस मेटाबोलिज्म की क्रिया का अर्थ है कि हम जो भी भोजन करते हैं यह उसे उर्जा में बदलता है।
थायराइड ग्रंथि ही मेटाबोलिज्म की क्रिया को घटा या बड़ा सकती है, इस सब के पीछे इस ग्रंथि से निकलने वाला हार्मोन “थायरोक्सिन” होता है, इस हार्मोन्स के अनियमित होने के कारण शरीर में अनेको परेशनियाँ हो जाती है ।
थाइराइड ग्रंथि हमारे हृदय, हमारी मांसपेशियों, हमारी हड्डियों व हमारे कोलेस्ट्रोल पर पूरा असर डालती है। थायराइड दो तरह का होता है। हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायराइड ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

शनि अमावस्या

शनि अमावस्याजब शनिवार के दिन अमावस्या ( Amavasya ) का समय हो जिस कारण इसे शनि अमावस्या (Shani...

वास्तु दोष निवारण के उपाय, Vastu Dosh Nivaran Ke Upay,

वास्तु दोष निवारण के उपाय, Vastu Dosh Nivaran Ke Upay,हर व्यक्ति की कामना होती है कि...

सावन / सावन 2020 | Savan/ Savan 2020

सावन मास ( savan mas ) भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। मान्यता है भगवान शिव भक्तो द्वारा इस माह किये गए...

अक्षय तृतीया

"न क्षयः इति अक्षयः -----अर्थात जिसका क्षय ना हो वह है अक्षय"।
Translate »