Tuesday, January 26, 2021
Home Hindi सावन सावन के महत्वपूर्ण उपाय | Sawan ke Mahatvapurn Upay

सावन के महत्वपूर्ण उपाय | Sawan ke Mahatvapurn Upay

सावन भर सभी शिव भक्तों को भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र और शमी पत्र अवश्य ही चढ़ाने चाहिए । इस संबंध में एक पौराणिक कथा है एक बार 88 हजार ऋषियों ने परम पिता ब्रह्मा से भगवान महादेव को प्रसन्न करने की विधि पूछी तब प्रसन्न होकर ब्रह्मा ही ने बताया कि भगवान शिव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर प्रसन्न होते हैं। इसी तरह एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र से और एक हजार बेलपत्र चढ़ाने के फल के बराबर एक शमी पत्र से प्रसन्न होते है। 

 भगवान शिव को कभी भी हल्दी नहीं चढाई जाती है और उन्हें शंख से जल भी नहीं चढ़ाना चाहिए। हिन्दु धर्म शास्त्रों के अनुसार ये दोनों काम शिव पूजा में वर्जित बताये गए हैं।वैसे धार्मिक कार्यों में हल्दी का बहुत महत्व है।  लेकिन हल्दी, शिवजी के अतिरिक्त अन्य सभी देवी-देवताओं को चढाई जाती है। चूँकि हल्दी सौंदर्य प्रसाधन में उपयोग की जाती है और शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है, इसी कारण से भगवान भोलेनाथ को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उन्हें सफेद वस्त्र अर्पित करने चाहिए । 

  •  सावन माह में दूध, घी, दही और गाय के दान से भगवान शंकर शीघ्र ही प्रसन्न होते है । इसलिए अपने जीवन में सर्वत्र सफलता के लिए इन चीज़ो का दान अनिवार्य रूप से करना चाहिए ।  
  •  भगवान शिव सफेद रंग के फूलों से विशेषकर सफ़ेद कमल से जल्दी प्रसन्न होते हैं। भगवान शंकर को धतूरे के पुष्प, हरसिंगार, व नागकेसर के सफेद पुष्प, सूखे कमल गट्टे, कनेर, कुसुम, आक, कुश आदि के पुष्प चढ़ाने का विधान है। भगवान शंकर को धतूरे का फूल सबसे अधिक प्रिय है। इसके अलावा इनको बेलपत्र और शमी पत्र चढ़ाना बहुत ही शुभ माना जाता है।
  • लेकिन भगवान शिव जी को सेमल, कदम्ब, अनार, शिरीष, माधवी, केवड़ा, मालती, जूही और कपास के पुष्प नहीं चढ़ाये जाते है ।
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पितरों की विदाई, pitron ki vidai,

पितरों की विदाई कैसे करें, Pitro Ki Vidai Kaise karen* पितृ पक्ष Pitra Paksh में श्राद्ध करके पितृ...

kaal sarp yog kya hai, काल सर्प योग क्या है,

काल सर्प दोष क्या है, kaal sarp dosh kya haiकालसर्प योग kaal sarp yog एक ऐसा योग...

Astro Tips And Remedies For Success in Love And Affairs

Friends, the remedies and solutions discussed here will definitely have a positive outcome regarding your love life and you will be successful...

दिलवाड़ा जैन मंदिर | Dilwara Jain Mandir

दिलवाड़ा जैन मंदिरDilwara Jain Mandirदिलवाड़ा जैन मंदिर राजस्थान राज्य के सिरोही जिले के माउन्ट आबू नगर में स्थित...
Translate »