Tuesday, January 31, 2023
Home जन्माष्टमी जन्माष्टमी के उपाय, Janmashtami ke upay, Janmashtami 2022,

जन्माष्टमी के उपाय, Janmashtami ke upay, Janmashtami 2022,

जन्माष्टमी के उपाय, Janmashtami ke upay,

  • शास्त्रों में जन्मष्टमी के उपाय ( Janmashtami ke upay, ) समस्त मनोकामनाओं को सिद्ध करने वाले माने गए है । 16 कलाओं से सम्पन्न भगवान श्री कृष्ण का अवतरण भाद्रपद कृष्ण अष्टमी को रात्रि 12 बजे मथुरा नगरी के कारागार में वासुदेव जी की पत्नी देवकी के गर्भ से रोहिणी नक्षत्र में एवं वृषभ के चंद्रमा की स्थिति में बुधवार के दिन हुआ था।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भगवान श्री कृष्ण लगभग 5 हजार 249 वर्ष पूर्व मध्य रात्रि में इस धरती पर अवतरित हुए थे। वर्ष 2022 में श्री कृष्ण जन्माष्टमी ( Krish Janmashtami ) का पर्व 18 – 19 अगस्त को मनाया जा रहा है।
  • हिन्दू धर्म शास्त्रों में जन्माष्टमी ( Janmashtami ) के दिन व्रत रखने का बहुत महत्व बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ प्रसन्नचित होकर इस दिन व्रत रखते हैं, उनके घर कारोबार में सदैव स्थिर लक्ष्मी का वास रहता है, उनको कार्यो में मनवाँछित सफलता प्राप्त होती है ।
  • स्कंद पुराण के अनुसार यदि जो मनुष्य जानते हुए भी जन्माष्टमी ( Janmashtami ) का व्रत नहीं रखता, वह जंगल में सृप के समान होता है।

इस तरह से मनाएं जन्माष्टमी का पर्व जीवन में लग जायेगा सुखो का अम्बार 

  • जन्माष्टमी ( Janmashtami ) की रात्रि तंत्र मन्त्र के लिए, अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए किये गए उपायों के लिए बहुत ही विशेष मानी गयी है ।
    इसीलिए इस रात्रि को मोह रात्रि भी कहते है ।
  • शास्त्रों के अनुसार श्री कृष्ण की पत्नी रुक्मणी माँ लक्ष्मी का अवतार थी अत: अगर इस दिन भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय किए जाएं तो माता लक्ष्मी भी प्रसन्न हो जाती हैं और भक्तों पर कृपा बरसाती हैं।
    अपनी समस्त इच्छाओं की पूर्ति के लिए, अभीष्ट लाभ की सिद्धि के लिए जन्माष्टमी के दिन ये उपाय पूर्ण श्रद्धा एवं विश्वास से अवश्य ही करें-

जन्माष्टमी के उपाय, Janmashtami ke upay,

  • प्रेम में सफलता पाने के उपाय :- यदि आप अपने जीवन में किसी लड़की या लड़के से प्रेम करते हैं और उससे विवाह करना चाहते हैं पर आपके प्रेम विवाह में कोई समस्या आ रही है तो आप इस श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन अपने आसपास राधा कृष्ण जी के मंदिर में जाकर अपने प्रेमी या प्रेमिका को ध्यान में रखते हुए नीचे दिए गये मंत्र का रोजाना 5 बार जाप करें !
  • और राधा कृष्ण जी की पूजा अर्चना करके उन्हें भोग लगाये ! ऐसा करने से प्रेम विवाह ( prem vivah ke upay ) में आ रही समस्या दूर हो जाएगी !
  • मंत्र : ॐ क्लीं कृष्णाय गोपीजन वल्लभाय स्वाहा: !
  •  जल्दी विवाह होने के उपाय : यदि आप किसी से विवाह करना चाहते हैं और आपके विवाह में कोई बाधा या समस्या उत्पन्न हो रही है किसी ना किसी वजह से आपका विवाह टल जा रहा हो और आप चाहते हैं कि आपके विवाह में देरी न हो जल्द से जल्द हो जाए तो,

    आपको यहाँ पर दिए गये मंत्र का रोजाना श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जाप करने से विवाह में हो रही समस्याओं से मुक्ति मिलेगी और जल्द ही आपके विवाह के योग बनेगे और आपका विवाह बिना किसी बाधा के सफलता पूर्वक संपन्न हो जायेगा

    मंत्र : ॐ नमो भगवते रुक्मिणी वल्लभाय स्वाहा !

  •  धन लाभ के लिए :- आर्थिक संकट के निवारण के लिए ,धन लाभ के ;लिए जन्माष्टमी ( Janmashtami ) के दिन प्रात: स्नान आदि करने के बाद किसी भी राधा-कृष्ण मंदिर में जाकर प्रभु श्रीकृष्ण जी को पीले फूलों की माला अर्पण करें।
    इससे आर्थिक संकट दूर होने लगते है धन लाभ के योग प्रबल होते है ।

  •  मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए :- जन्माष्टमी ( Janmashtami ) के दिन प्रात: दक्षिणावर्ती शंख में दूध / जल भरकर भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक करें । इसके बाद यह उपाय हर गुरुवार / शुक्रवार को करें ।

    इस उपाय को करने वाले जातक से मां लक्ष्मी शीघ्र प्रसन्न होती हैं। इस उपाय को करने से समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण होती है ।
  •  ऐश्वर्य प्राप्ति के लिए :- जन्माष्टमी ( Janmashtami ) के दिन भगवान श्रीकृष्ण को सफेद मिठाई, साबुतदाने अथवा चावल की खीर यथाशक्ति मेवे डालकर बनाकर उसका भोग लगाएं उसमें चीनी की जगह मिश्री डाले , एवं तुलसी के पत्ते भी अवश्य डालें।

    इससे भगवान द्वारकाधीश की कृपा से ऐश्वर्य प्राप्ति के योग बनते है।
This image has an empty alt attribute; its file name is Pandit-Mukti-Narayan-Pandey-Ji-1.jpeg
ज्योतिषाचार्य मुक्ति नारायण पाण्डेय
( हस्त रेखा, कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

माघ पूर्णिमा, Magh Purnima,

माघ पूर्णिमा, Magh Purnima,हमारे शास्त्रों में माघ में स्नान एवं व्रत की बड़ी महिमा बताई गई...

मोतियाबिंद के घरेलु उपचार, motiyabind ke gharelo upchaar,

मोतियाबिंद के घरेलु उपचार, motiyabind ke gharelo upchaar,जब आँख के लैंस की पारदर्शिता हल्की या समाप्त होने लगती...

कील मुंहासे के उपाय, keel muhashe ke upay,

कील मुंहासे के उपाय, keel muhashe ke upay,युवावस्था में चेहरे पर कील मुंहासे ( keel, Muhanse ),पिंपल्स...

Dilwada Jain Temple

Dilwada jain temple  is situated in Mount Abu in the Sirohi Distric of Rajsthan . Dilwada temple is the group of...
Translate »