Wednesday, December 2, 2020
Home Hindi घरेलु उपचार सर्दी को दूर करने के उपाय | सर्दी को कैसे दूर भगाएं...

सर्दी को दूर करने के उपाय | सर्दी को कैसे दूर भगाएं | Sardi ko dur karne ke upay

सर्दी को दूर करने के उपाय, Sardi ko dur karne ke upay,

सर्दियों के मौसम Sardiyon ke mausam में शरीर में बच्चे, बूढ़े, जवान सभी में आलस्य छाने लगता है । सर्दियों Sardiyon में ज्यादा ठण्ड में बाहर घूमना खतरनाक हो सकता है,
सर्दियों का मौसम Sardiyo ka mausam अपने साथ बहुत ही बीमारियां लेकर आता है। इस मौसम में खांसी और बुखार की समस्या लेकर तो आता ही है, मधुमेह के मरीजों में इस मौसम में हार्ट अटैक और ब्रेन हैमरेज का खतरा भी बहुत बड़ जाता है। सर्दियों के मौसम में नर्वस सिस्‍टम में भी गड़बड़ी आ जाती है, इससे लकवे का खतरा भी बढ़ जाता है। अधिक ठंड होने पर शरीर की रक्‍त वाहिकायें सिकुड़ जाती हैं जिससे शरीर में रक्‍त का संचार भी ठीक से नहीं हो पाता है, इससे उच्च रक्तचाप भी गड़बड़ होने लगता है, शरीर में मांस पेशियों में जकड़न भी बड़ने लगती है। सर्दियों के मौसम में जोड़ो के दर्द की समस्या भी बढ़ने लगती है।

सर्दियों में सर्दी को दूर करने Sardiyo ko dur karne अपने शरीर को गरम रखने के लिए, सर्दियों Sardiyo में अपने को फिट रखने के लिए, सर्दी को दूर भगाने के लिए करें ये उपाय

सर्दी के उपाय, Sardi ke upay,

जानिए सर्दी को दूर करने के उपाय, Sardi ko dur karne ke upay, सर्दी को कैसे दूर भगाएं, Sardiyo Ko Kaise dur bhayen

* एक आसान और बहुत ही सरल सर्दी को दूर करने का उपाय है अजवाइन । अजवाइन की तासीर गर्म मानी जाती है यह पेट के लिए, शरीर के जोड़ो के लिए बहुत रामबाण है। सर्दी में घर से बाहर जाते समय 2 चुटकी अजवायन मुहं में रखकर निकलिए, इससे सर्दी से बचे रहेंगे।

* सप्ताह में एक बार बड़ी इलाइची को तवे में भूनकर पीस कर चबा कर खाने अथवा पानी के साथ फंकी मारने से साँस की बीमारी नहीं होने पाती है। दमा नहीं होता है, फेफड़े स्वस्थ रहते है ,सर्दी नहीं लगती है, सर्दी में भी शरीर सक्रीय रहता है। यह उपाय 40 वर्ष के बाद सर्दियों में नियमित रूप से सप्ताह में एक बार अवश्य ही लेना चाहिए।

* अगर घर में ही है और बहुत सर्दी महसूस हो रही हो तो आधी चम्मच अजवाइन में उसका चौथाई भाग काला नमक या सेंधा नमक मिलाकर उसे लगभग 1 मिनट तक मुहँ में रखे, चबाएं, फिर उसके बाद उसके ऊपर हल्का गर्म पानी पी लें। इससे तुरंत शरीर में गर्मी आती है, ठण्ड दूर होती है।

* सर्दियों Sardiyon से बचने के लिए पूरे जाड़े भर नित्य रात को सोते समय गाय के घी या सरसो के तेल को गुनगुना करके उसकी दो तीन बूंदे नाक में डालें। इससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, सर्दी जुकाम से बचाव होता है।

* एक चम्मच घी को गरम करके उसमें पिसी काली मिर्च मिला लें। फिर इसे गर्म गर्म ही रोटी के साथ खाएं, इससे सर्दी नहीं लगती है, अगर सर्दी, खाँसी, जुकाम हो गया हो तो उसमें राहत मिलती है, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

* सर्दी के मौसम Sardi ke mausam में नित्य दिन में कम से कम एक बार पानी में गुड़ और काली मिर्च डाल कर उबाल ले फिर उसे गर्म गर्म चाय की तरह पिए । इससे शरीर में गर्मी आती है, और अगर किसी को जुकाम हो भी गया हो, तो इसे दिन में 2-3 बार दो दिनों तक पीने से जुकाम दूर होता है और पलट कर दोबारा भी नहीं आता है।

* सर्दियों में लहसुन का सेवन अवश्य ही करें। लहसुन में एलिसिन नामक एक रसायण होता है जो एंडी बैक्टेरियल, एंटी वायरल और एंटी फंगल होता है यह रसायन शरीर के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। लहसुन किसी भी तरह के संक्रमण को शरीर से बहुत तेजी से दूर करता है।
सर्दियों में नित्य दो तीन लहसुन की कलियों को कच्चा चबा कर खाएं फिर गुनगुना पानी पी लें अथवा सर्दियों में नित्य लहसुन की पांच कलियों को घी में भुनकर खाए। इससे सर्दी जुकाम से बचाव होता है, और अगर जुकाम हो गया हो तो ऐसा एक दो बार करने से ही जुकाम में आराम मिल जाता है।

* सर्दियों में व्यायाम करना अति आवश्यक है लेकिन आलस के कारण लोग इस मौसम में बिलकुल भी व्‍यायाम नहीं करते हैं। सर्दियों के मौसम में हमें गर्म, तला, भुना, और चटपटा खाने की अधिक इच्छा होती है, खुद पर नियंत्रण नहीं रख पाता हैं, जिसके फलस्वरूप सर्दियों में शरीर का वजन तेजी से बढ़ने लगता है। इसलिए सर्दियों में शरीर को फिट रखने, वजन पर भी नियंत्रण के लिए नियमित व्‍यायाम बहुत जरूरी है। सर्दियों में व्यायाम करने से शरीर में गरमी का स्तर भी बढ़ जाता है।

* लेकिन चूँकि इस मौसम में शरीर की रक्‍त वाहिकायें सिकुड़ जाती हैं जिससे शरीर में रक्‍त संचार ठीक से नहीं हो पाता है इसलिए सर्दियों के मौसम में व्यायाम करने से पहले वार्मअप अवश्य ही करें। बिना वार्मअप के व्‍यायाम करने पर शरीर की मांसपेशियों में खिंचाव हो सकता है, इससे शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द भी हो सकता है।
इसलिए सर्दियों के मौसम में व्‍यायाम करने से पहले अच्‍छी तरह से वार्मअप करना बहुत जरूरी है। बड़े बुजुर्गो को दिन के समय धूप में अवश्य ही टहलना चाहिए इससे शरीर फिट रहता है, शरीर प्राकृतिक तरीके से गर्म भी रहता है।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Kanya Pujan in navratri, significance of Kanya Pujan During Navratri,

Significance of workshipping kanya pujan During navratri,Navratras is a festival of joy, gaiety, happiness and beauty. It...

राशिनुसार जन्माष्टमी | राशिनुसार जन्माष्टमी के उपाय

राशिनुसार जन्माष्टमी के उपायRashianusar Janmashtami ke Upayभगवान श्रीकृष्ण द्वारका के राजा थे उन्होंने द्वारका नगरी बसाई थी...

कन्या राशि का वार्षिक राशिफल

<< कन्या राशि का आज का राशिफलकन्या राशि के 2018 के उपाय >>2018 का राशिफल, कन्या...

रसोईघर ,किचन का वास्तु

हर भवन में रसोई घर का बहुत ही प्रमुख स्थान होता है । अगर रसोई घर वास्तु सम्मत है तो वहाँ पर...
Translate »