Home Hindi सावन धन वैभव का उपाय, Dhan Vaibhav Ka Upay,

धन वैभव का उपाय, Dhan Vaibhav Ka Upay,

739

Dhan Vaibhav Ka Upay, धन वैभव का उपाय,

महा शिवरात्रि के दिन भगवान भोलेनाथ की आराधना, अभिषेक अनंत फलदाई है । इस दिन भगवान शिव की आराधना करने से भोलेनाथ अति शीघ्र प्रसन्न होते है ।

शिव पुराण में एक बहुत ही अचूक धन वैभव का उपाय Dhan Vaibhav Ka Upay बताया गया है जिसको करने से मनुष्य पर भगवान शिव की असीम कृपा मिलती है, जीवन में कभी भी धन की कोई कमी नहीं रहती है ।

Dhan Vaibhav Ka Upay, धन वैभव का उपाय,

  • शास्त्रों के अनुसार प्राचीन काल में देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर देव Kuber Dev अपने पिछले जन्म में गुणनिधि नामक निर्धन व्यक्ति थे। वे एक रात भगवान शिव के मंदिर में चोरी करने पहुंच गए। रात की वजह से वहां काफी अंधेरा था।

अवश्य पढ़ें :- चेहरे से कील मुहाँसे हटाने हो तो तुरंत करें ये उपाय, कील मुहांसों को जड़ से हटाने के अचूक उपाय,

  • अंधेरे में उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। तब उन्होंने चोरी करने के लिए एक दीपक जलाया।
  • दीपक के प्रकाश में वह मंदिर का सामान की चोरी कर ही रहे थे कि हवा से दीपक बुझ गया। उन्होंने पुन: दीपक जलाया लेकिन वह फिर हवा से बुझ गया, यह प्रक्रिया कई बार हुई। रात के समय बार-बार दीपक जलाने से भगवान शंकर उनसे अति प्रसन्न हो गए।
  •  कुबेर देव Kuber Dev ने चोरी करते समय बार-बार दीपक जलाकर अनजाने में ही जो शिव जी की पूजा की थी, इसके फलस्वरूप भगवान भोलेनाथ ने उन्हें अगले जन्म में देवताओं का कोषाध्यक्ष बना दिया।
  •  शास्त्रों के अनुसार जो भी व्यक्ति शिवरात्रि की रात के समय शिव मंदिर में शिवलिंग के निकट प्रकाश करता है, उसे प्रभु शंकर की विशेष कृपा प्राप्त हो जाती है। दीपक को जलाते समय भगवान भोलेनाथ के प्रिय मन्त्र “ऊँ नम: शिवाय” का लगातार जप करते रहना चाहिए।
  •  इसलिए सभी मनुष्यों को जीवन में सभी तरह के संकटों के निवारण शिवलिंग shivling के निकट रात्रि में शुद्द घी का दीपक जलाना चाहिए। अथवा सावन माह / सोमवार को तो शिवमन्दिर में पूरी रात्रि दीपक से प्रकाश अवश्य ही करना चाहिए ।
  •  इस उपाय को शिवरात्रि / प्रतिदिन / शिवरात्रि / सावन के सोमवार में, सावन के प्रत्येक दिन रात्रि में करने से मनुष्य पर भगवान शिव की विशेष कृपा रहती है । उसे समस्त सांसारिक सुखो की प्राप्ति होती है घोर से घोर आर्थिक संकट भी दूर होते है आने वाली पीढ़ियाँ भी धन वैभव Dhan Vaibhav को प्राप्त करती है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »