Tuesday, January 31, 2023
Home Hindi पंचांग गुरुवार का पंचांग, Guruwar Ka Panchag, 26 जनवरी 2023 का पंचांग,

गुरुवार का पंचांग, Guruwar Ka Panchag, 26 जनवरी 2023 का पंचांग,

आप सभी को बसंत पंचमी के पर्व की हार्दिक शुभकामनायें

गुरुवार का पंचाग, Guruwar Ka Panchag, 26 जनवरी 2023 का पंचांग,

बृहस्पतिवार का पंचांग, Brahaspativar ka panchang,

  • Panchang, पंचाग, ( Panchang 2021, हिन्दू पंचाग, Hindu Panchang ) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं :-


1:- तिथि (Tithi)
2:- वार (Day)
3:- नक्षत्र (Nakshatra)
4:- योग (Yog)
5:- करण (Karan)

पंचाग (panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग (panchang) का श्रवण करते थे ।

* शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
* वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
* करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।

इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।
जानिए आज गुरुवार का पंचांग, Guruwar Ka Panchag,

मंगल श्री विष्णु मंत्र :-

मङ्गलम् भगवान विष्णुः, मङ्गलम् गरुणध्वजः।
मङ्गलम् पुण्डरी काक्षः, मङ्गलाय तनो हरिः॥

आज का पंचांग, aaj ka panchang, गुरुवार का पंचाग, Guruvar Ka Panchag,

गुरुवार का पंचाग, Guruwar Ka Panchag,

26 जनवरी 2023 का पंचांग, 26 January 2022 Ka Panchang,

अवश्य पढ़ें :- बसंत पंचमी के दिन ऐसा करने से जीवन में हर तरफ से प्रसन्नता दौड़ी चली आती है,


  • गुरुवार का पंचाग, Guruwar Ka Panchag, 26 जनवरी 2023 का पंचांग,
  • दिन (वार) – गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)
  • गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए ।

    गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।
  • गुरुवार को पीतल के बर्तन में चने की दाल, हल्दी, गुड़ डालकर केले के पेड़ पर चढ़ाकर दीपक अथवा धूप जलाएं ।
    इससे बृहस्पति देव प्रसन्न होते है, दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है ।

    इन उपायों से जानलेवा कोरोना वाइरस रहेगा दूर, कोरोना का जड़ से होगा सफाया,
  • गुरुवार को चने की दाल भिगोकर उसके एक हिस्से को आटे की लोई में हल्दी के साथ रखकर गाय को खिलाएं, दूसरे हिस्से में शहद डालकर उसका सेवन करें।
    इस उपाय को करने से कार्यो में अड़चने दूर होती है, भाग्य चमकने लगता है, बृहस्पति देव की कृपा मिलती है।

यदि गुरुवार को स्त्रियां हल्दी वाला उबटन शरीर में लगाएं तो उनके दांपत्य जीवन में प्यार बढ़ता है।
और कुंवारी लड़कियां / लड़के यह करें तो उन्हें योग्य, मनचाहा जीवन साथी मिलता है।

गुरुवार को विष्णु जी की उपासना अवश्य करनी चाहिए, गुरुवार को विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ परम फलदाई है।

पढ़ाई में श्रेष्ठ सफलता के लिए बसंत पंचमी के दिन अवश्य ही करें ये उपाय, 

  • तिथि (Tithi) :- पंचमी 10.28 AM तक तत्पश्चात षष्टी
  • तिथि का स्वामी – पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता जी और षष्टी तिथि के स्वामी भगवान कार्तिकेय जी है

वसंत पंचमी माघ महीने की शुक्लपक्ष की पंचमी के दिन मनाई जाती है जो इस वर्ष 2023 में आज 26 जनवरी गुरुवार को मनाई जा रही है।

शास्त्रों के अनुसार माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी के शुभ दिन में पत्तों पर जल छिड़कने से ही विद्या की अधिष्ठात्री देवी का अवतरण हुआ जिनके एक हाथ में वीणा, दूसरा हाथ में वर मुद्रा और अन्य दोनों हाथों में पुस्तक और माला थी एवं जिनका वाहन मयूर ( मोर) था ।

माना जाता है कि जब इस दिन सरस्वती जी ने वीणा की तारो पर अपनी उँगलियाँ फेरीं तो उससे निकलने वाले संगीत से शून्य भर गया शब्दों की उत्पत्ति हुई, तभी से लोगो ने बोलना शुरू कर दिया।

कहा जाता है कि बसंत पंचमी के दिन जिह्वा ( जबान ) पर सरस्वती विराजमान रहती है अर्थात इस दिन बोले गए शब्द बहुत हद तक आने वाले समय में सत्य होते है इसलिए इस दिन शुभ वचन ही बोलने चाहिए ।

आज बसंत पंचमी पर सिद्ध, साध्य और रवि योग के त्रिवेणी योग में सुबह 07 बजकर 07 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट के बीच में विद्या की देवी सरस्वती की पूजा किया जाना शुभ है ।

आज माँ सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए निम्न में से कोई भी मन्त्र का जाप अवश्य ही करें।

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महा सरस्वत्यै नम:” ॥

“ॐ सरस्वत्यै नम:”॥

बसंत पंचमी का दिन अनबुझ मुहूर्त माना गया है यह दिन विवाह और किसी भी नए कार्य के प्रारम्भ के लिए अति उत्तम माना गया है । इस दिन छोटे बच्चो को अक्षर ज्ञान, हाथ में कलम थमा कर उनकी शिक्षा की शुरुआत करायी जाती है ।

माँ सरस्वती विद्या की देवी मानी गयी है, मान्यता है कि सरस्वती देवी की महिमा से, इनकी कृपा से मंदबुद्धि भी महा विद्धान बन सकता है। इसीलिए इस दिन प्रत्येक विद्यार्थी के लिए सरस्वती पूजा अति शुभ मानी गयी है ।

आज के दिन मेवे युक्त पीले मीठे चावल, पीली मिठाइयों, फलो को भगवान को अर्पित करके प्रशाद स्वरूप इनका सेवन करना चाहिए ।

बसंत पञ्चमी के दिन से ही बसंत ऋतु का आरम्भ माना जाता है । वसंत ऋतु को सभी ऋतुओं का राजा अर्थात “ऋतुराज” कहा गया है इस दिन भगवान विष्णु, कामदेव तथा रति की पूजा की जाती है।

बसंत पंचमी ही के दिन होली के लिए प्रतीक स्वरूप पेड़ लगा दिया जाता है ।

सुखी दाम्पत्य जीवन, प्रेम में सफलता के लिए बसंत पंचमी के दिन अवश्य करें ये उपाय 

  • नक्षत्र (Nakshatra) उत्तर भाद्रपद 18.57 PM तक तत्पश्चात रेवती
  • नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी –    उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र के देवता अहिर्बुंधन्य देव, स्वामी शनि देव जी एवं वहीं राशि स्वामी गुरु है। 

उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र 27 नक्षत्रों में 26वां नक्षत्र है। उत्तर भाद्रपद नक्षत्र वैवाहिक आनंद, सुख समृद्धि और शक्ति का प्रतीक है। यह प्रकाश की किरण, संसार को खुशियों का आशीर्वाद देता है।

शनि और गुरु में शत्रुता है। उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र के जातको पर जीवन भर शनि और गुरु का प्रभाव रहता है ।

उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र का आराध्य वृक्ष : नीम तथा स्वाभाव शुभ माना गया है। उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र सितारे का लिंग पुरुष है।

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक पर जीवन भर शुक्र एवं राहु ग्रह का प्रभाव बना रहता है।

इस नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति को हनुमान जी की आराधना करनी चाहिए, इनको पीपल की सदैव / विशेषकर शनिवार को तो अवश्य ही सेवा करनी चाहिए ।

उत्तर भाद्रपद नक्षत्र के लिए भाग्यशाली अंक क्या हैं 6 और 8, भाग्यशाली रंग बैगनी तथा भाग्यशाली दिन गुरुवार, मंगलवार और शुक्रवार होता है ।

उत्तर भाद्रपद नक्षत्र में जन्मे जातको को तथा जिस दिन यह नक्षत्र हो उस दिन सभी को इस नक्षत्र देवता के नाममंत्र:- ॐ अहिर्बुंधन्याय नमःl मन्त्र की माला का जाप अवश्य करना चाहिए ।

अवश्य पढ़ें :- कार्य क्षेत्र में अगर पानी हो श्रेष्ठ सफलता तो राशिनुसार बनायें कैरियर

अवश्य पढ़ें, बसंत पंचमी को स्वयंसिद्ध मुहूर्त माना जाता है, जानिए कैसे मनाएं बसंत पंचमी का पर्व,



कैसा भी सिर दर्द हो उसे करें तुरंत छूमंतर, जानिए सिर दर्द के अचूक उपा

योग :- शिव 15.29 PM तक तत्पश्चात सिद्ध

योग के स्वामी, स्वभाव :- शिव योग के स्वामी मित्र देव एवं स्वभाव श्रेष्ठ माना जाता है ।

प्रथम करण :- बालव 10.28 AM तक

करण के स्वामी, स्वभाव :- बालव करण के स्वामी ब्रह्म जी और स्वभाव सौम्य है।

द्वितीय करण :- कौलव 21.42 PM तक तत्पश्चात तैतिल

करण के स्वामी, स्वभाव :- कौलव करण के स्वामी मित्र और स्वभाव सौम्य है।

  • दिशाशूल (Dishashool)– बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।
  • राहुकाल (Rahukaal)– दिन – 1:30 से 3:00 तक।
  • सूर्योदय – प्रातः 07:12
  • सूर्यास्त – सायं 17:55
  • विशेष – पंचमी तिथि को बेल का सेवन नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि पंचमी को बेल का सेवन करने से अपयश मिलता है।
  • पंचमी तिथि को कर्ज भी नहीं देना चाहिए, पंचमी को कर्ज देने से धन डूब जाता है तथा धन के आगमन में भी रुकावटें आने लगती है ।
  • पर्व त्यौहारबसंत पंचमी
  • मुहूर्त (Muhurt)

अवश्य पढ़ें :- अगर गिरते हो बाल तो ना होएं परेशान तुरंत करें ये उपाय, जानिए बालो का गिरना कैसे रोकें,

“हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस गुरुवार का पंचाग, Guruwar Ka Panchag, सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो “।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

26 जनवरी 2023 का पंचांग, 26 January 2023 ka panchang, aaj ka panchang, aaj ka rahu kaal, aaj ka shubh panchang, Brahaspativar ka panchang, guruwar ka panchang, guruwar ka rahu kaal, guruwar ka shubh panchang, panchang, thursday ka panchang, आज का पंचांग, आज का राहुकाल, आज का शुभ पंचांग, गुरुवार का पंचांग, गुरुवार का राहु काल, गुरुवार का शुभ पंचांग, थर्सडे का पंचांग, पंचांग, बृहस्पतिवार का पंचांग,

ज्योतिषाचार्य मुक्ति नारायण पाण्डेय
( हस्त रेखा, कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।



Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Weekly Horoscope Sites

नवभारत टाइम्स Navbharattimes.in/rashifalवन इंडिया www.Oneindia.in/astrologyदैनिक भास्कर Religion.bhaskar.com/jyotish/rashiवेब दुनिया Webdunia.com/hindiGanesh Speaks Ganeshaspeaks.com/hindiAstrosage www.Astrosage.com/rashifalLive Hindustan www.livehindustan.com/astrologyरफ़्तार Raftaar.in/Hindi-Prediction

How To Copy A Live WordPress Site To Localhost Manually (2)

You can select what widgets to display in the how to speed up wordpress sidebar and footer. With widgets providing easy drag and drop...

वैदिक यन्त्र ,चमत्कारी यन्त्र | Vadic Yantra

दोस्तों हमारा जीवन हमारे किये गए कर्म फलों पर आधारित है, इन्ही कर्मों से हमारे भाग्य, अच्छे बुरे समय का भी निर्धारण...

All Power Names of Goddess Durga

THE POWER PACKED 32 NAMES OF GODDESSS DURGAIf a person is surrounded by troubles and he sees no...
Translate »