Saturday, March 6, 2021
Home Hindi युवाओं के उपाय सुरीली आवाज के उपाय, surili awaz keupay,

सुरीली आवाज के उपाय, surili awaz keupay,

सुरीली आवाज के उपाय, Surli awaz ke upay

आवाज़ किसी भी व्यक्ति की पहचान होती है । मीठी,स्पष्ट और सुरीली आवाज सभी लोग चाहते हैं। सभी चाहते है की उसकी आवाज़ में कर्कशपन या बेसुरापन ना हो लेकिन सभी को यह नसीब में नहीं होता है । लेकिन अब हर कोई कुछ आसान से उपायों को अपनाकर अपनी आवाज़ को मधुर, सुरीला बना सकता है,
जानिए सुरीली आवाज, Surli awaz, सुरीली आवाज के उपाय, Surli awaz ke upay ।

1. सुरीली आवाज Surli awaz के लिए नित्य सुबह शाम शहद के साथ गाय के दूध का सेवन करें इससे आवाज मधुर होती है।

2. अगर ठण्ड में आवाज बैठ गयी है तो 2 चम्मच अदरक के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर दिन में 3 बार सेवन करें, और अदरक का रस गरम पानी में मिलाकर उसके गरारे करें, इससे आवाज़ में मधुरता आ जाएगी ।  

चेहरे से कील मुहाँसे हटाने हो तो तुरंत करें ये उपाय, कील मुहांसों को जड़ से हटाने के अचूक उपाय,

3. 2 चम्मच प्याज़ के रस में शहद मिलाकर सुबह शाम चाटें , और उसके 1 घंटे तक कुछ भी सेवन ना करें एवं प्याज़ का रस गरम पानी में मिलाकर पीने से भी गला सुरीला होता है। 

4. प्याज़ को हल्का भून लें फिर उसे कुचलकर फिटकरी को भून कर उसके ऊपर बुरककर चबा चबाकर खाएं, आवाज़ सुरीली होने लगेगी । 

5. ग्लिसरीन को गुनगुने पानी में मिलाकर सुबह शाम गरारे किया करें, आपका गला आपको धोखा नहीं देगा।  

6. सुरीली आवाज Surli awaz की चाह रखने वाले अनानास का सेवन किया करें या उसका रस पियें । 

अगर घर, कार्यालय में है यह वस्तुएं तो हमेशा घिरे रहेंगे नकारात्मक विचारो से, निगेटिव एनर्जी से बचने के लिए तुरंत लिंक पर क्लिक करें

इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अपना भाग्य कैसे चमकाएं

भाग्य चमकाने के नित्य कर्महर व्यक्ति चाहता है कि उसका जीवन, उसका प्रत्येक दिन शुभ और सौभाग्यशाली...

Home Remedies For Dengue Prevention and Diet Tips

REMEDIES AND MEASURES TO SAFEGUARD FROM DENGUE AND ITS TREATMENTDengue has been a very dangerous and harmful...

द्वारिका नगरी | द्वारिका नगरी का इतिहास | Dwarika Nagri ka Itihas

गुजरात राज्य के गोमती नदी के तट पर द्वारका स्थित है। द्वारका हिन्दुओ के सबसे बड़े तीर्थो में से एक है...

रक्षाबंधन का महत्व, Raksha Bandhan ka mahtv,

शास्त्रों में बहुत जगह रक्षाबंधन का महत्व ( Raksha Bandhan ka mahtv) बताया गया है। धार्मिक ग्रंथो में बहुत जगह उल्लेख आया...
Translate »