Friday, August 7, 2020
Home Hindi पर्व त्योहार होली के अचूक उपाय

होली के अचूक उपाय

ज्योतिष शास्त्र में शिवरात्रि, होली, दीपावली, जन्माष्टमी आदि का बहुत महत्व है ।

होली का पर्व Holi Ka Parv साल में एक बार ही आता है मान्यता है कि इस दिन किये गए उपाय शीघ्र ही फल देते है । यहाँ पर हम आपको कुछ खास उपाय / टोटके बता रहे है जिनको करके आप अपने जीवन की सभी परेशानियों को दूर करते हुए जीवन को धन, हर्ष और ऐश्वर्य से भर सकते है।

होलिका दहन Holika Dahan में घर के सभी सदस्यों को अवश्य ही शामिल होना चाहिए । होलिका दहन Holika Dahan में चना, मटर, गेंहूँ बालियाँ या अलसी आदि डालते हुए अग्नि की तीन / सात परिक्रमा करें। इससे घर में शुभता आती है। आज कल स्वाइन फ्लू का कहर है अत: हर व्यक्ति होलिका में थोड़ा थोड़ा कपूर भी अवश्य ही डालें जिससे स्वाइन फ्लू के वायरस भी कम हो सके ।

होलिका दहन Holika Dahan के दिन घर के मुखिया को होलिका में घी में भिगोई हुई दो लौंग, एक बताशा और एक पान का पत्ता भी अवश्य चढ़ाना चाहिए। तत्पश्चात होली की 3 परिक्रमा करते हुए होली में सूखे नारियल की आहुति देनी चाहिए।. इससे ना केवल सभी कष्ट दूर होते हैं वरन घर में सुख-सम्रद्धि भी बढ़ती है ।

जिस दिन होली जलनी हो उस दिन सुबह एक साबूत पान पर साबूत सुपारी एवं हल्दी की गांठ रखकर किसी भी मंदिर में शिवलिंग पर चढ़ाएं और भगवान शिव से योग्य जीवनसाथी के लिए प्रार्थना करें फिर प्रणाम करके वापस आ जाएँ पीछे मुड़कर ना देखें यह प्रयोग लगातार 7 दिन तक करें इससे अतिशीघ्र विवाह होने की सम्भावना बड़ जाती है ।

होलिका दहन Holika Dahan के बाद उसकी थोड़ी भस्म जरूर लाएं, उसका टीका किसी महत्वपूर्ण कार्य में जाते हुए पुरुष अपने मस्तक पर और स्त्री अपने गर्दन में लगाएं, कार्यों में सफलता मिलेगी और धन संपत्ति में भी वृद्धि होगी। होली के दिन सबसे पहले घर के मंदिर में देवी देवताओं को रंग का टीका लगाएं, फिर बड़ों को पैरों पर रंग लगाकर उनसे आशीर्वाद लें इसके पश्चात घर के मुख्य द्वार पर गुलाल छिड़कके वास्तु देवता को प्रणाम करें, अब अंत में अपने बराबर वालों से या छोटे बड़ो से जिनसे रंग खेलना हो उन्हें उनकी मर्जी से रंग लगाएं। आपको रंगों से चाहे जितनी एलर्जी हो, या आप रंग ना खेलते हो, लेकिन होली के दिन अपना माथा सूना नहीं रखें। रंग खुशियों के, बुराई पर अच्छाई के प्रतीक माने जाते है अत: होली के दिन रंग लगाने और लगवाने से देवता प्रसन्न होते है, ग्रहो के दुष्प्रभाव दूर होते है, वास्तु देवता का भी आशीर्वाद मिलता है।

होलिका दहन के बाद इसकी राख को घर के चारो तरफ और दरवाजे पर छिड़कने से घर में किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं हो पाता है।

होलिका दहन के बाद अगली सुबह यानि की होली के रंग खेलने के दिन उसकी राख से माथे पर टीका जरूर लगाना चाहिए इससे देवता प्रसन्न होते हैं, जीवन की समस्त प्रकार की अड़चने दूर होती है ।

कहते है कि होली के दिन Holi Ke Din रात्रि के 12 बजे के बाद पीपल के नीचे शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए एवं हाथ में सफेद तिल लेकर पीपल की सात परिक्रमा करके धीरे-धीरे इन तिलों को छोडते जाएं। इसके बाद बिना पीपल को छुए प्रणाम करके पीछे देखे बिना ही वापस घर आ जाएं । ऐसा करने से शीघ्र ही मनोकामनाएँ पूर्ण होती है ।

होली के दिन जिस दिन रंग खेलते है उस दिन सुबह स्नान के बाद लाल गुलाल लेकर उसे सबसे पहले घर के मंदिर में देवी देवताओं की मूर्ति / चित्र पर लगाएं फिर उस गुलाल के खुले पैकेट में एक चांदी का एक सिक्का रखकर उसे नए लाल कपडे में कलावा से बांधकर अपनी तिजोरी में रखें, धन लाभ होगा और धन रुकने भी लगेगा ।

अगर आर्थिक संकट रहता है तो धन लाभ के लिए होली की रात में सिद्ध लक्ष्मी मन्त्र “ॐ श्रीं हृीं श्रीं महालक्ष्मये नम:” का 108 बार जप करते हुए होलिका Holika में शक्कर की आहुति देते जाएं, धन में बरकत होने लगेगी।

होली पर रंग सभी व्यक्तियों को जरूर ही खेलना चाहिए, इससे घर परिवार में प्रेम, सौहार्द्य और सुख का वास होता है । होली पर सबसे पहले ईश्वर को और फिर घर के बड़े बुजुर्गों को रंग लगाकर उनसे आशीर्वाद लेकर ही रंग खेलना शुरू करना चाहिए ।

होली में आपस में वैर भाव मिटा कर खुद पहल करके दुश्मनो से भी रंग खेलकर सभी से साफ मन से गले मिलना चाहिए । मान्यता है कि इस दिन पहल करके शत्रुता भुलाने से वर्ष भर आप के शत्रु आपसे पराजित होते रहेंगे ।

होली पर अपने घर में आने वाले सभी मेहमानो को कुछ ना कुछ अवश्य ही खिला कर वापस भेजें, इससे भाग्य प्रबल होता है एवं घर में स्थाई लक्ष्मी का वास होता है ।

होली से एक दिन पहले किसी ऐसे पेड़ के नीचे जाए जिस पर चमगादड़ लटकते हो फिर उस पेड़ की एक डाल को अपने घर में आने का निमंत्रण दे आएं। होलिका दहन वाले दिन सूर्योदय से पूर्व उस डाल को तोड़कर अपने घर में ले आए। रात को उस डाल का पूजन कर उसे अपनी तिजोरी अथवा अगले दिन से अपनी गद्दी के नीचे रखें। आपका कारोबार खूब चलने लगेगा।।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )
Published By : Memory Museum
Updated On : 2020-03-20 012:30:55 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

जानिए किन उपायों को करके होली पर करें अपनी सभी मनोकामनाएँ पूरी 

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

भैरव अष्टमी,काल भैरव अष्टमी ,काल भैरव जयंती

पौराणिक मान्यताओं के आधार स्वरूप मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष अष्टमी के दिन भगवान शिव, भैरव रूप में प्रकट हुए थे, अत: इस तिथि...

SIGNIFICANCE OF THE Basil /Tulsi TREE

SIGNIFICANCE OF THE Basil /Tulsi TREE The Basil /Tulsi plant has a significant...

Astro and Vastu Remedies For Happy Married Life

Yantras 21.If the lady of the house, routinely lights a earthen lamp with Jasmine oil and recites the ‘Sundar...

बेलपत्र का महत्व, belpatr ka mahatva,

Belpatr ka mahatva, बेलपत्र का महत्व,  बिल्व पत्र ( belv patr) के वृक्ष को " श्री वृक्ष...
Translate »