Home Hindi पर्व त्योहार हनुमान जो को चोला कैसे चढ़ाये

हनुमान जो को चोला कैसे चढ़ाये

371
hanuman-ji-ko-chola

हनुमान जो को चोला

हनुमान जी को प्रसन्न करने, शनि के दोषों से छुटकारा पाने, शीघ्र उन्नति एवं समस्त बाधाओं के शमन के लिए हनुमान जी को चोला अर्पित करें।
चोले में चमेली के तेल में पीला सिन्दूर मिलाकर उसे हनुमान जी की प्रतिमा पर लेपन कर अच्‍छी तरह मलकर, रगड़कर चांदी या सोने का वर्क चढ़ाते हैं।

चोला चढ़ाने की सही विधि –

  • ध्यान रखे हनुमान जी को चोला सिर्फ उसी मूर्ति पर चढ़ाया जाता है जो सिंदूरी रंग की हो इसलिये सबसे पहले ऐसा मंदिर देखे जिसमे सिंदूरी रंग की मूर्ति स्थापित हो ।
  • मंदिर में पहुँचने पर हनुमान जी को प्रणाम करें ।अगर हनुमान जी की मूर्ति पर पहले से कोई चोला चढ़ा हुआ हो तो उसे उतारे फिर स्नान कराये ।
  • इसके बाद सिंदूर को मूर्ति के साइज अनुसार गाय के घी या चमेली के तेल में घोले ।
  • घोल तैयार होने पर हनुमान जी मस्तक पर अपने दाहिने हाथ की अनामिका उंगली से तिलक करके, उसी उंगली से बजरंगबली के दाहिने पैर से सिंदूर लगाना शुरू करे । हनुमान चालीसा या हनुमान जी के किसी मन्त्र का जाप करते हुए इसी प्रकार ऊपर बढ़ते हुए पूरी मूर्ति पर सिंदूर लगाये ।
  • सिंदूर लगने के बाद पूरी मूर्ति पर चाँदी अथवा सोने का पत्तर ( वर्क ) चिपकाये , फिर धुप दीप जलाकर कुंकुम चावल से तिलक करें, फिर मूर्ति को जनेऊ तथा गुलाब की माला पहनाये, हनुमान जी पर इत्र छिडके
  • ये सब कार्य पूर्ण होने पर 1, 5 या 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करे, पाठ पूर्ण होने पर हनुमान से जो प्रार्थनाकरनी है करे और आज्ञा लेकर घर आ जाये इस प्रकार विधि विधान से चोला चढ़ाने की विधि पूर्ण होती है ।
  • इसके बाद हनुमान जी को नया लंगोटा, नया जनेऊ ,रामनामी गमछा, नई खड़ाऊ व लाल चंदन की माला या तुलसी की माला पहनाये।

नोट——

  • स्त्री चोला नही चढ़ा सकती और ना ही चोला चढ़ाते टाइम कोई भी स्त्री हनुमान को देख सकती है इसलिए कोई भी स्त्री वहा ना हो । इस बात का विशेष ध्यान रखे ।
  • हनुमान जी को चोला चढ़ाते समय लाल या पीले रंग के वस्त्र धारण करे ।
  • जिस पर शनिदेव जी की दशा चल रही हो ढैया या साढ़े सती उनके लिए चोला चढ़ाना अत्यंत लाभकारी है ।
  • जिन लोगो पर कोर्ट कचहरी का संकट हो, जो जमीन का काम करते हो, शत्रु परेशान करते हो, अपना भवन नहीं बन पा रहा हो तो उन लोगो को अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए हनुमान जी को चोला अवश्य ही चढ़ाना चाहिए ।
  • संकट या रोग दोष दूर करने के लिए चमेली के तेल में पीला सिंदूर मिलाकर शनिवार को चोला चढ़ाये और घर की सुख शांति, कारोबार में तरक्की, अपना घर बनाने हेतु देशी घी में पीला सिंदूर मिलकर मंगलवार को चोला चढ़ाये ।
  • मूर्ति पर सिंदूर लगाते समय हमारी स्वास मूर्ति पर ना लगे इसके लिए मुख पर कोई कपड़ा रख ले ।
  • चोला चाढने के बाद निम्नलिखित उपाय करे लाभप्रद रहेगा — हनुमान जी के दांए चरण का सिंदूर लेकर उससे सफेद कागज पर स्वास्तिक बनाएं। उस कागज को मोड़े नहीं। सदा इस कागज को अपने पास रखें। प्रतिदिन इस कागज को प्रणाम करें। नौकरी, कारोबार से संबंधित कोई भी समस्याओं का हल अति शीघ्र होगा ।
  • डिप्रेशन, भय को दूर करने के लिए, निर्भयता लाने के लिए हनुमान जी के दांए पैर से टीका लेकर अपने माथे पर लगाएं।
  • हनुमान जी की अराधना कर उन्हें गुड़-चना या बूंदी का प्रशाद अर्पित करें। अब कुश या लाल कपड़े के आसन पर बैठकर लाल चंदन की माला से इस मंत्र का जाप करें।
pandit-ji
पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Published By : Memory Museum
Updated On : 2020-03-18 02:09:55 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यह साइट या इस साईट से जुड़ा कोई भी व्यक्ति, आचार्य, ज्योतिषी किसी भी उपाय के लिए धन की मांग नहीं करते है , यदि आप किसी भी विज्ञापन, मैसेज आदि के कारण अपने किसी कार्य के लिए किसी को भी कोई भुगतान करते है तो इसमें इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी । यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »