Home Hindi तिल विचार नकरात्मक ऊर्जा | नकरात्मक ऊर्जा से बचें

नकरात्मक ऊर्जा | नकरात्मक ऊर्जा से बचें

191
nakaratmak-urja

नकारात्मक ऊर्जा से बचें

आज विश्व भर में भारतीय वास्‍तु शास्त्र कि धूम है। वास्तु शास्त्र के माध्यम से हम अपने घर , कार्यालय में निगेटिव एनर्जी को समाप्त करते हुए पॉज़िटिव एनर्जी को बढ़ावा देते हुए जीवन के सभी भौतिक,अध्यात्मिक और मानसिक सुखों को प्राप्त कर सकते है । हमारे धर्म गुरु अति प्राचीन काल से ही यह मानते है कि घर में कुछ वस्तुएँ ऐसी होती हैं जिनके रहने से हमारे घर और घर के सदस्‍यों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। इनके द्वारा उत्पन्न निगेटिव एनर्जी के कारण हमें जीवन में बहुत सी कठनाइयों का सामना करना पड़ता है ……….बस आप कुछ छोटी सी बातों का ध्यान रखे और जीवन के सभी सुखों को प्राप्त करें …….

महाभारत की छवि : लोग अपने घर को सजाने के लिए घर के अन्दर किसी भी खूबसूरत महाभारत कि पेंटिंग को लगा लेते है। इससे बिलकुल भी बचें। याद रखिये अपने घर पर माहाभारत की किसी भी घटना की तस्वीर ना रखें और ना ही किसी भी दीवार पर लगाएं। इसको लगाने का अर्थ है कि घर में परिवार वालों के बीच में आये दिन कलह मची रहेगी। इसलिए अगर घर पर प्रेम, सुख-शांति, सौहार्द का वातावरण चाहते हैं तो इसकी तस्‍वीर को अपने घर में भूल कर भी न लाएं ।

ताज महल : जहाँ घर में ताज है वहाँ पर वियोग,निराशा,और नकारात्मक ऊर्जा आ ही जाती है । चाहे ताज महल को प्‍यार का प्रतीक मान कर कोई अपने घर पर रखे, लेकिन यह भी सत्य है कि ताज महल में मुग़ल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज महल की समाधि बनवाई थी,जो असमय ही उन्हें छोड़कर इस जहाँ से चली गयी थी। क्‍योंकि यह गम, मातम, आंसू की निशानी है,इसलिये अपने घर पर ताजमहल का कोई भी फोटो और शो पीस कुछ भी न रखें ।

नटराज : नटराज कि मूर्ति अर्थात गुस्‍से में नांचते हुए भगवान शिव का प्रतीक आज बहुत से घरों में मिलता है ।इस प्रतीक के दो अर्थ है।एक ओर भगवान शिव अपने नांच में जबरदस्‍त कला को दर्शा रहें हैं तो वहीं पर यह नृत्‍य विनाश, विध्वंस को भी दर्शा रहा है। इसलिये हम सभी को यह विनाश का प्रतीक, प्रभु शिव के ताण्डव के रूप को दर्शाने वाली प्रतिमा अथवा तस्वीर को अपने घर पर रखने से अवश्य ही बचना चाहिये।

समुद्री तूफान में जहाज : आज समुद्री तूफान में जहाज की पेंटिग या तस्वीर बहुत से घरो कार्यालयों में लगी मिल जायेगी । समुद्री तूफान,घबराये रोते चिल्लाते लोग, डूबती हुई नांव यह सभी दृश्य आपके जीवन में कभी भी भारी उथल पुथल ला सकते है । इस तरह कि पेंटिंग परिवार, कर्मचारियों के बीच के संबन्‍ध को बिगड़ती है, असुरक्षा भय का वातावरण उत्पन्न करती है। इसलिये अगर अपने जीवन में भी किसी अनायास तूफान से बचना चाहते है तो इस तुरंत अपने यहाँ से हटाइए।

गरीबी का चित्रण: आज कल घरों, कार्यालयों में भीख मांगते, सड़क पर कूड़ा बीनते, अनाथ बच्चे,कुपोषित भूखे ग्रामीणों , की पेन्टिंग ,चित्र आदि लगे दिखते है, लोग इस कला कि सराहना करते है उनकी गरीबी बेबसी के बारे में बाते करते है सरकार को कोसते है ………ऐसे चित्रों को अविलम्ब हटा देना चाहिए । यह गरीबी,आभाव और बदकिस्मती को दर्शाता है ……..आप ऐसे लोगो कि मदद करें ………उन संस्थाओं कि मदद करें जो इनके लिए काम करती है लेकिन इससे खुद दो चार होने कि …..इसकी कल्पना की भी कल्पना से जरुर बचे ।

गांव का चित्रण :इसी तरह आप कभी भी किसी गांव के टूटे फूटे कच्चे मकानो, आज के इस मशीनी युग में बैलगाड़ियों, टूटी फूटी सड़कों, नंगे बदन अति दुर्बल गांव वालो , अकाल, सूखे खेतों,विधवा स्त्री, दूर से सर पर पानी का मटका भर कर लाती ग्रामीण स्त्रियों आदि की कोई भी तस्वीर अपने घर या कार्यालय में न लगाएं ।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »