Saturday, May 28, 2022
Home Maha Shivratri rashi anusar shiv pooja, राशिनुसार शिव पूजा,

rashi anusar shiv pooja, राशिनुसार शिव पूजा,

rashi anusar shiv pooja, राशिनुसार शिव पूजा,

भगवान भोलेनाथ जी की पूजा / अभिषेक से सभी संकट दूर होते हैउसमें भी rashi anusar shiv pooja, राशिनुसार शिव पूजा, बहुत ही फलदाई मानी गई है। भगवान भोलेनाथ बहुत ही भोले है जो अपने भक्तो पर शीघ्र ही प्रसन्न होकर उनकी समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण कर देते है ।

ज्योतिषियों के अनुसार हर राशि का अपना अपना स्वामी होता है जिस का उस जातक पर पूर्ण प्रभाव रहता है इसलिए यदि भक्त अपनी राशिनुसार शिव पूजा ( Rashinusar Shiv puja ) करें,  राशिनुसार भगवान भोले का अभिषेक ( Rashinusar Bhagwan Bhole Ka Abhishek )  करें, उनकी आराधना करें तो उनकी पूजा शीघ्र ही सफल हो जाती है ।

हम यहाँ पर हर राशि के अनुसार उपाय बता रहे है जिसको राशिनुसार महाशिवरात्रि ( Rashinusar Mahashivratri ) या  प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव की राशिनुसार पूजा ( Bhagwan Shiv Ki Rashinusar Puja ) करने से समस्त शिव भक्तो को उत्तम लाभ और संतोष की प्राप्ति होगी ।

जानिए,  राशिनुसार शिव पूजा,  Rashinusar Shiv puja,  महा शिवरात्रि की राशिनुसार पूजा, mahashivratri ki rashinusar puja, राशिनुसार भगवान भोले का अभिषेक, Rashinusar Bhagwan Bhole Ka Abhishek,  भगवान शिव की राशिनुसार पूजा,  Bhagwan Shiv Ki Rashinusar Puja, शिवरात्रि पर भगवान की राशिनुसार पूजा, shivratri par  Bhagwan Shiv Ki Rashinusar Puja, 

  जरूर पढ़े :- व्यापार में सफलता के लिए सही शुरुआत का होना आवश्यक है, जानिए  व्यापार में सफलता का मुहूर्त

rashi anusar shiv pooja, राशिनुसार शिव पूजा,

मेष राशि –  मेष राशि का स्वामी मंगल है । इस राशि के जातक सोमवार के दिन जल में  गुड़ अथवा शहद मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करें । अभिषेक के बाद लाल चंदन से शिवलिंग पर तिलक करें और लाल चंदन से 11, 21 या 108  बेलपत्र पर ॐ नमः शिवाय लिख कर बेलपत्र भगवान शिव को अर्पित करें।

मेष राशि के जातक “ॐ ममलेश्वराय नम: का जाप करें । ऐसा करने से शीघ्र ही आपका भाग्य आपको नयी ऊँचाइयों पर ले जायेगा ।

वृष राशि – वृष राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है। इस राशि के लोगों के लिए शिवरात्रि के दिन दही से भगवान शिव का अभिषेक शुभ फल देता है।  इसके अलावा इन्हे चावल, सफेद चंदन, सफेद आक और चमेली फूल भी चढ़ाने चाहिए ।

वृष राशि वाले लोगों को  ॐ भीमाय नमः अथवा ‘ॐ नागेश्वराय नम:’ मन्त्र का जाप करना चाहिए। इस उपाय से परिवार में शान्ति आएगी, इन्हे धन सम्बन्धी समस्याएँ निकट भी नहीं आती है।

मिथुन राशि – मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह है। इस राशि का जातको को गन्ने के रस से भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए । मिथुन राशि के जातक भगवान शिव को बेल पत्र शमी पत्र के आलावा साबुत हरे मूंग, भाँग, दूर्वा और कुश भी अवश्य ही अर्पित करें।
 
मिथुन राशि के जातको को ‘ॐ भूतेश्वराय नम:’ का जाप करना चाहिए । इस विधि से पूजा करने से मान सम्मान और धन लाभ होगा ।

अगर पाना हो ग्रहो, शुभ शक्तियों का आशीर्वाद, दूर करना चाहते है दुर्भाग्य तो नित्य ऐसे करें स्नान, 

कर्क  राशि – कर्क  राशि का स्वामी चन्द्रमा  है। कर्क राशि के जातक भगवान शिव का मीठे दूध और शुद्ध घी से अभिषेक करें। कर्क राशि के जातक शिवलिंग पर सफ़ेद चन्दन से तिलक लगाते हुए साबुत अक्षत, चीनी, सफेद आंकड़े, चमेली, सफ़ेद गुलाब  का फूल और शंखपुष्पी भी चढ़ावें।

कर्क राशि के जातको को “ॐ महेश्वराय नम:” मन्त्र का जाप अवश्य ही करना चाहिए । ऐसा करने से उनका आत्मबल, आत्मविश्वास और तेज बढ़ेगा , कार्यों में हो रहे विघ्न दूर होंगे ।

सिंह  राशि – सिंह  राशि का स्वामी सूर्य देव  है।  सिंह राशि के व्यक्ति जल में गुड़ और शहद डाल कर भगवान शिव का अभिषेक करें। सिंह राशि के जातको को गुड़ और चावल से बनी खीर का भोग भगवान शिव को लगाना चाहिए ।  

इन लोगो को शिवलिंग पर गेहूं , कमल के फूल , कमलगट्टा, लाल कनेर और मंदार के फूल भी चढ़ाना चाहिए ।

सिंह राशि के जातको को ‘ॐ नम: शिवाय’ की नित्य एक माला का जाप अवश्य ही करना चाहिए ।  इस उपाय को करने से इनको अपने कार्यों में विजय और जीवन में संतोष प्राप्त होगा ।

कन्या राशि –  कन्या राशि का स्वामी बुध ग्रह है ।  कन्या राशि के जातको को गन्ने के रस से भगवान शिव के शिवलिंग का अभिषेक अवश्य ही करना चाहिए ।यह लोग भगवान शिव को बेल पत्र, शमी पत्र के आलावा, बेल , धतूरा, भांग, दुर्वा व पान भी चढ़ाएं।

कन्या राशि के लोग शिव चालीसा एवं “ॐ त्र्यम्बकाय नम:” मन्त्र का जाप करें ।शिवरात्रि के दिन भगवान शिव का इस तरह से अभिषेक करने से दाम्पत्य जीवन सुखमय होगा एवं व्यापार, कार्य क्षेत्र में उल्लेखनीय सफलता मिलेगी ।

तुला राशि – तुला राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है ।  इस राशि के जातक सुगंधित तेल, इत्र, घी, दूध से भगवान शिव का अभिषेक करें । तुला राशि के जातक भगवान भोलेनाथ को अक्षत, दही, मिश्री, और खीर का प्रसाद चढ़ाएं।

इस राशि के जातक सफेद आक, चमेली, हरसिंगार, गुलाब के फूल भी पूजा में शिव को अर्पित करें।
 
तुला राशि के लोग ‘शिवाष्टक’ एवं महा मृत्युंजय मन्त्र का जाप करें । अपनी राशिनुसार भगवान शिव का अभिषेक करने से कार्य निर्विघ्न रूप से सफल होंगे, घर में सुख समृद्धि का वास होगा ।

राशिनुसार खेलें होली सुख – सौभाग्य खींचे चले आएंगे, जानिए आपको किस रंग से होली खेलना बहुत ही शुभ रहेगा

वृश्चिक  राशि –  वृश्चिक  राशि का स्वामी मंगल ग्रह है । वृश्चिक राशि के जातकों को जल में गुड़ और शहद मिलाकर और पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करें । वृश्चिक  राशि के जातको को लाल पुष्प जैसे  कमल, गुलाब अथवा कनेर के फूल, गेंहू और अनार भी शिवजी पर जरुर चढ़ाने चाहिए।

वृश्चिक  राशि के जातको को “ॐ विश्वरूपिणे नम:” मन्त्र का जाप भी करना चाहिए । इस विधि से भगवान शिव की पूजा करने से परिवार में प्रेम, सुख शांति रहेगी एवं घर में स्थाई सुख समृद्धि का वास होगा ।

धनु राशि –  धनु राशि का स्वामी गुरु बृहस्पति  है ।  इस राशि के जातक दूध में हल्दी और शहद मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करे। भगवान शिव को पीले चन्दन का तिलक लगाते हुए पीले गेंदे के फूलो की माला अर्पित करें।  भगवान को गुड़, चने की दाल एवं पीली मिठाई का भोग लगाएं।

धनु राशि के जातक  शिव पंचाक्षर स्त्रोत एवं  ‘ॐ रामेश्वराय नम:’ मन्त्र का अधिक से अधिक जाप करें। ऐसा करने से समाज में यश, कीर्ति की प्राप्ति होगी परिवार से रोग भी दूर रहेंगे ।

मकर राशि  – मकर राशि के स्वामी शनि देव है ।  मकर राशि के जातको को तिल के तेल अथवा नारियल के पानी से भगवान शिव का अभिषेक करने से विशेष फल मिलता है। मकर राशि के जातक शिवलिंग पर अष्टगंध से तिलक करके , बेल पत्र, भांग, धतूरा उड़द की दाल से तैयार मिष्ठान्न और नीले फूल भी भगवान का चढ़ाएं।

मकर राशि के जातको को “ॐ पार्वतीनाथाये नम:” मन्त्र का अधिक से अधिक जाप करना चाहिए ।

भगवन भोले नाथ की इस विधि से पूजा करने से दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है , परिवार के सदस्यों में प्रेम बना रहता है , घर परिवार पर माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है ।

अवश्य पढ़ें :- जानिए वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा रहना चाहिए आपका बाथरूम, अवश्य जानिए बाथरूम के वास्तु टिप्स

कुम्भ राशि :– कुम्भ राशि के स्वामी शनि देव है ।  कुम्भ राशि के जातको को नारियल पानी, गन्ने के रस , तिल अथवा सरसो के तेल से भगवान भोलेनाथ का अभिषेक करना चाहिए। कुम्भ राशि के जातक बेलपत्र, भांग , धतूरा, शमी पclत्र, दूर्वा अर्पित करते हुए उड़द से बनी मिठाई का भोग लगाएं ।

कुम्भ राशि के जातक “ॐ नम: शिवाये ” मन्त्र की माला का जाप करें ।  इससे शत्रु परास्त होंगे एवं कार्य क्षेत्र में मनवाँछित सफलता मिलेगी ।

मीन राशि – मीन राशि के स्वामी बृहस्पति देव है । इस राशि के जातक दूध में केशर, गुड़ और शहद मिलाकर शिव पर चढ़ाएं। भगवान भोलेनाथ पर गेंहू, पीली सरसों और नागकेसर अर्पित करते हुए उन्हें पीले फूलो की माला पहनाएँ ।

मीन राशि के जातक “ॐ सदाशिवाय नम:” का जाप करें । ऐसा करने से परिवार में प्रेम और सुख समृद्धि का वास होगा ।

tripathi-ji
कुंडली एवं वास्तु विशेषज्ञ
पंडित पंडित ज्ञानेंद्र त्रिपाठी जी
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नरक चतुर्दशी का महत्व, Narak Chaturdashi ka mahatva, नरक चतुर्दशी 2021,

नरक चतुर्दशी का महत्व, Narak Chaturdashi ka mahatva,दीपावली पर्व से एक दिन पहले...

रविवार का पंचांग, Raviwar Ka Panchag, 22 मई 2022 का पंचांग,

सोमवार का पंचांगशनिवार का पंचांगPreview(opens in a new tab)

Tips For Relief From All Diseases,

Tips For Relief From All Diseases,It has been observed that whenever there is a unwell patient in the...

Home Remedies for Weight Loss

HOME REMEDIES FOR WEIGHT LOSSTo reduce weight and look slim and trim we try all sorts of...
Translate »