Home Amavasya शनि अमावस्या, shani amavasya, shani amavasya 2022,

शनि अमावस्या, shani amavasya, shani amavasya 2022,

833
shani-dev-ke-upay-2

शनि अमावस्या, shani amavasya, शनि अमावस्या 2022,

जब शनिवार के दिन अमावस्या ( Amavasya ) का समय हो जिस कारण इसे शनि अमावस्या Shani Amavasya कहा जाता है। शनि अमावस्या, Shani Amavasya के दिन श्री शनिदेव की आराधना करने से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होंती हैं। यह पितृकार्येषु अमावस्या के रुप में भी जानी जाती है।

कालसर्प योग, ढैय्या तथा साढ़ेसाती सहित शनि संबंधी अनेक बाधाओं से मुक्ति पाने का शनि अमावस्या, Shani Amavasya दुर्लभ समय होता है ।

30 अप्रैल दिन शनिवार को शनि अमावस्या है और इसी दिन साल का पहला सूर्य ग्रहण भी लगने जा रहा है, इस दुर्लभ संयोग के कारण इस दिन का महत्त्व और भी अधिक बड़ गया है, हालांकि यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा।

शनिश्चरी अमावस्या के दिन त्रिग्रही योग का निर्माण भी हो रहा है. इस दिन चंद्र, सूर्य व राहु की मेष राशि मे युति होने से त्रिग्रही योग का निर्माण हो रहा है साथ ही शनि के साथ मंगल की युति भी बन रही है।

shani_dev

श्री शनिदेव भाग्यविधाता हैं, यदि निश्छल भाव से शनिदेव का नाम लिया जाये तो व्यक्ति के सभी कष्टï दूर हो जाते हैं। श्री शनिदेव Shanidev इस जगत में कर्मफल दाता हैं जो व्यक्ति के कर्म के आधार पर उसके भाग्य का फैसला करते हैं।

शनि अमावस्या, Shani Amavasya के दिन शनिदेव का पूजन सफलता प्राप्त करने एवं दुष्परिणामों से छुटकारा पाने हेतु बहुत उत्तम होता है। इस दिन शनि देव का पूजन सभी मनोकामनाएं पूरी करता है।

kalash

ग्रहों के मुख्य नियंत्रक हैं शनि। उन्हें ग्रहों के न्यायाधीश मंडल का प्रधान न्यायाधीश कहा जाता है। शनिदेव के निर्णय के अनुसार ही सभी ग्रह मनुष्य को शुभ और अशुभ फल प्रदान करते हैं। न्यायाधीश होने के नाते शनिदेव किसी को भी अपनी झोली से कुछ नहीं देते। वह तो शुभ-अशुभ कर्मो के आधार पर मनुष्य को समय-समय पर वैसा ही फल देते हैं।

अवश्य पढ़ें :- जानिए कैसा हो खिड़कियों का वास्तु , जिससे जिससे वहाँ के निवासियों को मिले श्रेष्ठ लाभ

kalash

जैसे उन्होंने कर्म किया होता है।धन-वैभव, मान-समान और ज्ञान आदि की प्राप्ति देवों और ऋषियों की अनुकंपा से होती है जबकि आरोग्य लाभ, पुष्टि और वंश वृद्धि के लिए पितरों का अनुग्रह जरूरी है। शनि एक न्यायप्रिय ग्रह हैं। शनिदेव अपने भक्तों को भय से मुक्ति दिलाते हैं।

kalash

शनिश्चरी अमावस्या (Shaneshchari Amavasya)पर शनिदेव का विधिवत पूजन कर सभी लोग पर्याप्त लाभ उठा सकते हैं। शनि देव क्रूर नहीं अपितु कल्याणकारी हैं।

kalash


इस दिन विशेष अनुष्ठान द्वारा पितृदोष और कालसर्प दोषों से मुक्ति पाई जा सकती है। इसके अलावा शनि का पूजन और तैलाभिषेक कर शनि की साढेसाती, ढैय्या और महादशा जनित संकट और आपदाओं से भी मुक्ति पाई जा सकती है।
भविष्यपुराण के अनुसार शनिश्चरी अमावस्या शनिदेव को अधिक प्रिय रहती है।

अवश्य पढ़ें :-  हर संकट को दूर करने, सर्वत्र सफलता के लिए नित्य जपें हनुमान जी के 12 चमत्कारी नाम

kalash

इस दिन पवित्र नदी के जल से या नदी में स्नान कर शनि देव का आवाहन और दर्शन करना चाहिए। शनिदेव पर नीले पुष्प, बेल पत्र, अक्षत अर्पण करके शनिदेव को प्रसन्न करने हेतु शनि मंत्र

“ॐ शं शनैश्चराय नम:”, अथवा “ॐ प्रां प्रीं प्रौं शं शनैश्चराय नम:” मंत्र का जाप करना चाहिए।

शनि अमावस्या के दिन प्रात: लोहे के बर्तन में जल में कच्चा दूध, तिल, गुड़ डाल कर पीपल के पेड़ पर चढ़ा कर धूप दीप से पूजा करते हुए पीपल की 7 परिक्रमा करें । मान्यता है कि शनि अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करने से शनिदेव अत्यंत प्रसन्न होते हैं।

शनि अमावस्या के दिन हनुमान मंदिर में हनुमान जी को लाल सिंदूर अवश्य चढ़ाएं। इससे हनुमान जी प्रसन्न होते है, शनि की साढ़े साती, ढैय्या का प्रभाव दूर होता है।

kalash

इस दिन सरसों के तेल, उडद, काले तिल, कुलथी, गुड, इत्र, नीले फूल, इमरती, शनियंत्र, काले या नीले वस्त्र और शनि संबंधी समस्त पूजन सामग्री को शनिदेव पर अर्पित करना चाहिए और शनि देव का तैलाभिषेक करना चाहिए।

kalash

अमावस्या की रात्रि में 8 बादाम और 8 काजल की डिबिया काले कपडे में बांध कर सन्दूक में रखे । 

kalash

शनि अमावस्या के दिन शनि चालीसा, हनुमान चालीसा (Hanumaan Chalisa)या बजरंग बाण का पाठ अवश्य करना चाहिए। जिनकी कुंडली या राशि पर शनि की साढ़ेसाती (Shani ki Sade Sati) व ढैया का प्रभाव हो उन्हें शनि अमावस्या के दिन पर शनिदेव का विधिवत पूजन अवश्य ही करना चाहिए।

kalash

शनैश्चरी अमावस्या (Shaneshchari Amavasya) के दिन पितरों को जल देना चाहिए, उनके निमित दान अवश्य ही देना चाहिए । इससे पितृ प्रसन्न होते है उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है ।

kalash

जिन व्यक्तियों की कुण्डली में पितृदोष या जो भी कोई पितृ दोष की पीड़ा को भोग रहे होते हैं। उन्हें इस दिन दान इत्यादि विशेष कर्म करने चाहिए।

यदि पितरों का प्रकोप न हो तो भी इस दिन किया गया श्राद्ध मनुष्य को हर क्षेत्र में सफलता प्रदान करता है, क्योंकि शनिदेव की अनुकंपा से पितरों का उद्धार बडी सहजता से हो जाता है।

अवश्य पढ़ें :-  हनुमान जी की पानी है कृपा तो मंगलवार और शनिवार को ऐसे करें हनुमान जी को प्रसन्न, जानिए हनुमान जो को चोला कैसे चढ़ाये

kalash

इस दिन दान का बहुत ही महत्त्व है ।इस दिन महाराज दशरथ द्वारा लिखा गया शनि स्तोत्र का पाठ करके शनि की कोई भी वस्तु जैसे काला तिल, काला कपड़ा, चमड़े के जूते, लोहे की वस्तु, काला चना, काला कंबल, नीला फूल दान करने से शनि साल भर कष्टों से बचाए रखते है।

शनि अमावस्या के दिन शमी के पेड़ की पूजा करने से भगवान शनि देव की कृपा मिलती है। शनि अमावस्या के दिन सांयकाल शमी के पेड़ के पास सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इससे शनि दोष दूर होते है।

kalash

जो लोग इस दिन यात्रा में जा रहे हैं और उनके पास समय की कमी है वह सफर में शनि नवाक्षरी मंत्र अथवा “कोणस्थ: पिंगलो बभ्रु: कृष्णौ रौद्रोंतको यम:। सौरी: शनिश्चरो मंद:पिप्पलादेन संस्तुत:।।” मंत्र का जप करने का प्रयास करते हैं करें तो शनि देव की पूर्ण कृपा प्राप्त होती है।

शनि देव के बारे में विशेष जानकारियाँ

स्कंदपुराण के काशीखंड के अनुसार शनि देव महर्षि कश्यप के पुत्र भगवान सूर्य देव की संतान हैं। शनि देव की माता का नाम ‘छाया’ है।

इनके भाई ‘मनु सावर्णि’, ‘यमराज’, ‘अश्विनीकुमार’ है और शनि महाराज की बहन का नाम ‘यमुना’ और ‘भद्रा’ है।

शनिदेव के 8 पत्नियां मानी गयी है। ध्वजिनी, धामिनी, कंकाली, कलहप्रिया,कंटकी, तुरंगी, महिषी, अजा ।

मान्यता है कि शनिवार के दिन उनकी पत्नियों का नाम जाप करने से भक्तों के कष्ट दूर हो जाता है।

शनि देव की संतान मांदी और नीलिमा है ।

शनि देव के गुरु भगवान भोलेनाथ हैं। भगवान शिव ने शनि महाराज से कहा कि मेरे भक्तों पर तुम अपनी वक्र दृष्टि नहीं डालोगे। इसलिए शिव भक्त शनि के कोप से मुक्त रहते हैं।

शनि देव के मित्र ‘काल भैरव’, ‘हनुमान’, ‘बुध’ और ‘राहु’ जी हैं।

शनि देव की सवारी कौआ , गिद्ध , भैंसा , कुत्ता मानी गयी है ।

शनिदेव के सिर पर स्वर्णमुकुट, गले में माला तथा शरीर पर नीले रंग के वस्त्र है ।

शनि देव के हाथो में धनुष, बाण, त्रिशूल सुशोभित रहते हैं।

श्रीकृष्ण, शनि महाराज के ईष्ट देव माने जाते हैं। शनि महाराज ने कान्हा को वचन दिया था कि वह कृष्ण भक्तों को परेशान नहीं करेंगे।

शनि देव को पीपल का वृक्ष अत्यंत प्रिय है, पीपल के वृक्ष पर शनिदेव का वास रहता है। शनि देव ने स्वयं कहा है कि जो भी पीपल की सेवा करेगा उस पर शनि की सदैव कृपा बनी रहेगी ।

शनि देव को शमी का पेड़ अत्यंत प्रिय है। शास्त्रों के अनुसार, शमी के पौधे को घर पर लगाने उसे नित्य जल से सींचने, शनिवार को उसके नीचे कड़वे तेल का दीपक जलाने से शनिदेव का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
शमी का पौधा अपने घर में शनिवार के दिन लाना चाहिए ।

शनि देव मकर और कुम्भ राशि के स्वामी माने गए है ।

तुला, कुम्भ और मकर शनि देव की प्रिय राशियाँ मानी गयी है।

शनि के नक्षत्र पुष्य,अनुराधा और उत्तराभाद्रपद माने गए है ।

शनि देव का रत्न नीलम है । नीलमणि, जामुनिया, नीला कटेला, आदि शनि के उपरत्न हैं। शनि के अच्छे रत्न को शनिवार को पुष्य नक्षत्र में धारण करना चाहिये

शनि देव की तीसरी, सांतवी और दसवीं दृष्टि मानी गयी है ।

शनि देव के सूर्य,चन्द्र,मंगल को शत्रु, बुध,शुक्र को मित्र तथा गुरु को सम माना जाता है।

महाराष्ट्र का शनि शिगनापुर मंदिर, ग्वालियर के पास शनिश्चरा मंदिर और मथुरा में नन्द गांव के पास कोकिला बन में स्थित शनि मंदिर अत्यंत सिद्ध शनि मंदिर माने गए है।
कहते है जिसने इन तीनो मंदिर में शनि देव के दर्शन, पूजा कर ली उसे कभी भी शनि देव के कोप का सामना नहीं करना पड़ता है ।

शास्त्रों के अनुसार शनिदेव को लोहा बहुत प्रिय है अत: उन की पूजा में हमेशा लोहे के बर्तनों का ही उपयोग करना चाहिए।

शनिदेव को पश्चिम दिशा का स्वामी माना गया है, इसलिए शनि देव की पूजा करते समय मुख इसी दिशा में रखें इससे शीघ्र ही शनि देव प्रसन्न हो जाते है।

शनि देव को काला – नीला रंग पसंद है इसलिए शनिदेव की पूजा में काले या नीले रंग की चीजों का उपयोग करना बहुत शुभ रहता है।

तांबा सूर्य की धातु है और ज्योतिष शास्त्र में शनि-सूर्य एक-दूसरे के शत्रु हैं इसलिए कभी भी शनिदेव की पूजा में तांबे के बर्तनों का उपयोग नहीं करना चाहिए ।

शनिदेव की प्रतिमा के ठीक सामने खड़े होकर दर्शन नहीं करना चाहिए।

शनि देव जी को लाल कपड़े, लाल फल या लाल फूल नहीं चढ़ाएं क्योंकि लाल रंग मंगल का है और यह शनि का शत्रु ग्रह है।

शनि अमावस्या, शनि अमावस्या 2022, शनि अमावस्या का महत्त्व, शनि अमावस्या कब है, shani amavasya, shani amavasya 2022, shani amavasya kamahatv, shani amavasya kab hai,



Amit Pandit ji
ज्योतिषाचार्य डॉ० अमित कुमार द्धिवेदी
कुण्डली, हस्त रेखा, वास्तु
एवं प्रश्न कुण्डली विशेषज्ञ

Published By : Memory Museum
Updated On : 2022-04-28 09:35:55 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »