Tuesday, April 20, 2021
Home Hindi गंभीर रोग कैंसर होने के मुख्य कारण

कैंसर होने के मुख्य कारण

कैंसर (cancer )एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण इस समय विश्वभर में सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। लोगो को इसके प्रति जागरूक करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन हर वर्ष 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस के रूप में मनाता है।

लेकिन कुछ बातो को ध्यान में रखकर कैंसर से बचा जा सकता है। हम यहाँ पर आपको वह कैंसर के कारण बता रहे है जिनके कारण लोग कैंसर की गिरफ्त में आ जाते है। जानिए कैंसर के कारण, (cancer ke karan ), कैंसर क्यों होता है (cancer kyon hota hai )

hand-logo तम्बाकू ,पान मसाला ,खैनी ,सुपारी इत्यादि से कैंसर के होने की सम्भावना बहुत ज्यादा बड़ जाती है।

hand-logo शराब भी कैंसर को बढ़ावा देती है , अत: इसका बहुत ही कम या बिलकुल भी सेवन ना करें ।

hand-logo शराब से मुंह, गले और खाने की नली में कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन सिगरेट और शराब दोनों को एक साथ लेने से कैंसर का खतरा 100 गुना अधिक बढ़ जाता है।

hand-logo महिलाओं में स्तन कैंसर होने का खतरा उन महिलाओं को ज्यादा होता है जो अपने बच्चे को दूध नहीं पिलाती है । इसलिए महिला की सुरक्षा और बच्चे के समुचित विकास के लिए महिलाओं को अनिवार्य रूप से बच्चे को स्तनपान करवाना चाहिए ।

hand-logo अपनी रसोईघर के खाने के तेल पर ध्यान दें । रिफाइन्ड आयल या पामोलिव आयल हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक सिद्ध होते है एवं एक ही तेल का बार बार प्रयोग ना करें इससे भी हमारे शरीर पर प्रतिकूल असर पड़ता है। भोजन पकाने में ऑलिव ऑयल, कोकोनट ऑयल या मूंगफली के तेल का इस्तेमाल करें।

अवश्य पढ़ें :- कैसे इन छोटे,आसान लेकिन बहुत ही अचूक उपाय आप अपने कैरियर / व्यापार में चार चाँद लगा सकते है,

hand-logo सदैव ध्यान दें कि नमक का सेवन संतुलित मात्रा में करें। शोधों से पता चला है कि ज्यादा नमक खाने से पेट का कैंसर होने की सम्भावना बढ़ जाती है ।

hand-logo हमें शक्कर का सेवन भी कम से कम करना चाहिए । एक अध्ययन के अनुसार महिलाओं में कोलोरेक्टल कैंसर की सम्भावना शक्कर के सेवन से बहुत बढ़ जाती है।

hand-logo गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल लम्बे समय तक नहीं करना चाहिए। इन गोलियों के लम्बे समय तक प्रयोग करने से महिलाओं में लीवर और स्तन के कैंसर होने का खतरा अधिक हो जाता है इसके साथ हृदयघात की सम्भावना भी बढ़ जाती है।

hand-logo मीट को हजम करने में ज्यादा एंजाइम और ज्यादा वक्त लगता है। ज्यादा देर तक बिना पचा खाना पेट में एसिड और दूसरे जहरीले रसायन बनाते हैं, जिनसे भी कैंसर को बढ़ावा मिलता है।

hand-logo अधिक तले भुने चर्बी वाले खाद्द्य पदार्थों से भी कैंसर हो सकता है ।

hand-logo बढ़ती उम्र के कारण हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, शरीर की सक्रियता भी कम होने लगती है। उस समय हमें संक्रमण आसानी से घेर लेते है। इन्ही संक्रमणों का समय से इलाज ना होने के कारण कई बार यह भी कैंसर का कारण बन जाते है।

अवश्य पढ़ें :- दिनों के हिसाब से रंगों का चयन करके अपनी उर्जा, अपनी कार्य क्षमता बडाये, अपने जीवन में खुशियों के रंग भर लीजिये।

hand-logo मोटपा , किसी संक्रमणों ,जैसे एच.आई वी ,हेपेटाइटिस बी आदि की वजह से भी कैंसर की सम्भावना होती है ।

hand-logo अनुवांशिक कारण /खानदानी कैंसर होना।

hand-logo धुँआ ,प्रदूषण ,कीटनाशक ,पेंट ,थिनर आदि ।

hand-logo इसके अतिरिक्त कोई अज्ञात कारण से भी कैंसर संभव है ।

इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

एकादशी में क्या ना करें, ekadashi ke din kya na kare,

एकादशी में क्या ना करें, ekadashi ke din kya na kare,धर्म ग्रंथो में...

कमर दर्द | कमर दर्द को दूर करने के उपाय

कमर के दर्द को दूर करने के उपायKamar dard dur karne ke upayआजकल बदलती , अति व्यस्त...

मोतियाबिंद के घरेलु उपचार

जब आँख के लैंस की पारदर्शिता हल्की या समाप्त होने लगती है धुंधला दिखने लगता है तो उसे मोतियाबिंद ( Motiyabind )...

मक्का मदीना

मक्का मदीनाMakka Madinaमक्काMakkaमक्का जिसे अरबी में "मक्का अल...
Translate »