Monday, September 13, 2021
Home Hindi पूर्णिमा के उपाय अमावस्या पर पाएं पितरों की पूर्ण कृपा

अमावस्या पर पाएं पितरों की पूर्ण कृपा

अमावस्या पर पितरों की पूर्ण कृपा
Amawasya Par Pitro ki Purn Kripa

हिन्दु धर्म शास्त्रो के अनुसार मनुष्य पर मुख्य रूप से तीन प्रकार के ऋण होते हैं- देव ऋण, ऋषि ऋण एवं पितृ ऋण। इनमें पितृ ऋण को सबसे प्रमुख माना गया है। पितृ ऋण में पिता के अतिरिक्त माता तथा परिवार के वह सभी दिवंगत सदस्य जो पितरों में शामिल हो गए है वह सभी पितृ ऋण में आते है ।
पितृ ऋण से मुक्ति के लिए , पितरों की तृप्ति के लिए, उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए प्रत्येक अमावस्या ( Amavasya ) पर कुछ उपाय अवश्य ही करने चाहिए ।
जानिए, अमावस्या पर पितरों की पूर्ण कृपा ( Amawasya Par Pitro ke Purn Kripa ) ।

पितरों को अमावस, ( amavas ) का देवता माना गया है । शास्त्रों के अनुसार हर अमावस्या के दिन पितृ अपने घर अपने वंशजो के पास आते है और उनसे अपने निमित धर्म – कर्म, दान – पुण्य की आशा करते है। यदि हम उनके निमित अपने कर्तव्यों का पालन करते है तो वह प्रसन्न होते है और हमें उनका आशीर्वाद मिलता है ।
यदि आपके पितृ देवता प्रसन्न होंगे तभी आपको अन्य देवी-देवताओं की कृपा भी प्राप्त हो सकती है। पितरों की कृपा के बिना कठिन परिश्रम के बाद भी जीवन में अस्थिरता रहती है, मेहनत के उचित फल प्राप्त नहीं होती है ।

हर अमावस ( amavas ) के दिन एक ब्राह्मण को अपने घर पर बुलाकर प्रेम पूर्वक भोजन अवश्य ही कराएं।
इससे आपके पितर सदैव प्रसन्न रहेंगे,
आपके कार्यों में अड़चने नहीं आएँगी,
घर में धन की कोई भी कमी नहीं रहेंगी और आपका घर – परिवार को टोने-टोटको के अशुभ प्रभाव से भी बचा रहेगा।


हर अमावस्या ( amavasya ) पर पितरों का तर्पण अवश्य ही करना चाहिए । तर्पण करते समय एक पीतल के बर्तन में जल में गंगाजल , कच्चा दूध, तिल, जौ, तुलसी के पत्ते, दूब, शहद और सफेद फूल आदि डाल कर पितरों का तर्पण करना चाहिए।
तर्पण, में तिल और कुशा सहित जल हाथ में लेकर दक्षिण दिशा की तरफ मुँह करके तीन बार तपरान्तयामि, तपरान्तयामि, तपरान्तयामि कहकर पितृ तीर्थ यानी अंगूठे की ओर जलांजलि देते हुए जल को धरती में किसी बर्तन में छोड़ने से पितरों को तृप्ति मिलती है।
ध्यान रहे तर्पण का जल तर्पण के बाद किसी वृक्ष की जड़ में चड़ा देना चाहिए वह जल इधर उधर बहाना नहीं चाहिए।

umashankarJi
डा० उमाशंकर मिश्र ( आचार्य जी )

Published By : Memory Museum
Updated On : 2019-06-29 05:04:55 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कैंसर होने के मुख्य कारण

कैंसर (cancer )एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण इस समय विश्वभर में सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। लोगो को इसके...

शनि देव के उपाय, shanidev ke upay,

 शनि देव के उपाय, shanidev ke upay, शनि देव Shani Dev को न्याय का देवता...

मधुमेह के लक्षण, Madhumeh ke Lakshan,

मधुमेह के लक्षण, Madhumeh ke Lakshan,मधुमेह ( madhumeh ), डायबिटीज ( diabetes ) को तमाम बिमारियों...

शुक्रवार का पंचांग, Shukrwar ka panchag,

गुरुवार का पंचांगशनिवार का पंचांगa{ font-weight:bold;शुक्रवार का पंचांग, Shukrwar ka panchag,
Translate »