Tuesday, October 19, 2021
Home Hindi पवित्र स्थान कर्बला | Karbala Sharif

कर्बला | Karbala Sharif

कर्बला (अरबी: كربلاء; BGN: अल – कर्बला, अल मुक्ददस के रूप में सम्बोधित) इराक में एक शहर है, जो कि बगदाद से 100कि.मि. (62 मील) दक्षिण पश्चिम में स्थित है। कर्बला कर्बला प्रशासनिक राजधानी है और इसकी आबादी 572,300 लोगों (2003) की है।

यह शहर, सबसे ज्यादा कर्बला की लड़ाई के स्थान के रूप में जाना जाता है। यह शिया मुसलमानों के लिए मक्का, मदीना, और नजफ के बाद पवित्रतम शहर है। इस शहर में इमाम हुसेन की दरगाह है, जो शिया द्वारा पवित्र माना जाता है, इसमें उनके आधे भाई अल अब्बास इब्न अली की मजार भी हैं।

केवल शिया विश्वास है, कि कर्बला परम्परओं (दूसरों के बीच) के अनुसार पवित्र धरती पर स्थानों में से एक है।

कर्बला की लड़ाई में 10 मुहर्रम पर, कर्बला में इस्लामी कैलेंडर (अक्टूबर 10, 680) के वर्ष 61 में हुई थी, जो वर्तमान इराक में है। इस असमान लड़ाई में एक तरफ मुहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली के समर्थकों और रिश्तेदारों के एक छोटे समूह था, और दूसरे तरफ याजिद, उमय्यद खलीफा, जिसे हुसैन ने खलीफा के रूप में पहचानने से इनकार कर दिया था,की एक बड़े सैन्य टुकड़ी थी। हुसैन और उनके सभी समर्थक, हुसैन के बेटे सहित मारे गए थे, और महिलाओं और बच्चों के कैद कर लिया गया था। शिया मुसलमानों द्वारा इन मृत लोगों को शहीदों का दरजा दिया जाता है। और, इस लड़ाई का शिया इतिहास और परंपरा में एक केंद्रीय स्थान है, और इसे अक्सर शिया इस्लामी साहित्य में वर्णित किया जाता है।

कर्बला की लड़ाई, हर साल 10वें दिन जिसे मुहर्रम कहते हैं, शिया व सुन्नियों द्वारा मनाया जाता है।
इतिहास कई निर्दोष लोगों के नरसंहार को देखा है, लेकिन कर्बला की त्रासदी कुछ ऐसी है, जहां पुरुष, महिलायों और बच्चे स्वेच्छा से खुद को भूख, प्यास, अपमान और कर्बला की जलती रेत पर मौत हो अधीन करने की अनुमति दे देते हैं। क्योंकि, वे मानते हैं कि इमामहुसैन धर्म के लिए खड़े थे। थोड़ा आश्चर्य है कि 1200 से अधिक वर्षों के सभी मुसलमानों के दिल में कर्बला की कहानी एक खुला घाव की तरह बसी है। जिससे, ऐसा न हो कि वे इमाम हुसैन और उनके अनुयायियों के सर्वोच्च बलिदान को भूल जायें।
ग्रेट आध्यात्मिक नेताओं के महान बलिदान करने के लिए जाना जाता है। लेकिन कर्बला में, आम आदमी और महिलायें जिनकी छाती पर शिशु हों, उनके दिल और आत्मा को जलाकर धर्म के लिये मौत को चुनते हैं न कि बुराई और अधर्म को। ऐसी है इमाम हुसैन की महानता और उनकी आध्यात्मिक शक्ति, जो आम मनुष्यों सर्वोच्च साहस और बलिदान की ऊंचाइयों तक पहुँचा सकती है।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नाग पंचमी का महत्व, Nag Panchmi Ka Mahtva,

Nag Panchmi Ka Mahtva, नाग पंचमी का महत्व, इस वर्ष 2021 में 13 अगस्त दिन शुक्रवार को नागपंचमी (Nag...

पितरों के दान, Pitron ke daan,

पितृ पक्ष में क्या दान करें, Pitra Paksh Me Kya Daan Karen,हिन्दू धर्म में दान को बहुत...

परिवार में सुख शांति के उपाय, Parivar men shukh shanti ke upay,

जिस घर के सदस्यों में प्रेम होता है वहीँ पर स्वर्ग होता है और जिस घर में आशांति होती है वहां पर...

शुक्रवार के शुभ -अशुभ मुहूर्त | Shukrwar Ke Shub -Ashubh Muhurt

आज का शुभ मुहूर्तAaj Ka Shubh Muhurtअपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज का...
Translate »