Thursday, February 25, 2021
Home Hindi ग्रहो के उपाय mangal grah ke upay, मंगल ग्रह के उपाय,

mangal grah ke upay, मंगल ग्रह के उपाय,

mangal grah ke upay, मंगल ग्रह के उपाय,

मंगल ग्रह Mangal Grah का शुभाशुभ प्रभाव एवं मंगल ग्रह के उपाय Mangal Grah Ke Upay ——-

मंगल ग्रह Mangal Grah : ग्रहो का सेना पति होता है, mangal grah ke upay, मंगल ग्रह के उपाय करके हम कुंडली में निश्चय ही मंगल को मजबूत कर सकते है।
मंगल ग्रह, mangal grah साहस, पराक्रम का प्रतीक है, मंगल ग्रह, को भाई का और रक्त का भी करक माना गया है । इसकी मेष और वृश्चिक राशि है ।

कुंडली में अगर मंगल ग्रह के शुभ फल मिलें तो जीवन में हर तरफ होता है मंगल ही मंगल ।
जानिए mangal grah ke upay, मंगल ग्रह के उपाय, मंगल ग्रह के शुभ फल प्राप्त करने के उपाय, mangal grah ke shubh fal prapt karne ke upay, मंगल ग्रह को अनुकूल करने के उपाय, mangal grah ko anukul karne ke upay,

मंगल गृह के अशुभ प्रभाव, mangal grah ke ashubh prabhav,

  • कुंडली में मंगल के अशुभ होने पर भाई,
  • पटीदारो से विवाद
  • रक्त सम्बन्धी समस्या
  • नेत्र रोग
  • उच्च रक्तचाप
  • क्रोधित होना
  • उत्तेजित होना
  • वात रोग और गठिया हो जाता है।

अशुभ मंगल से ऋण बढ़ता है।

  • भूमि संबंधी कार्यों में नुकसान हो सकता है।
  • मकान बनाने में परेशानियां आती हैं।
  • शरीर में दर्द रहता है।
  • रक्त संबंधी को बीमारी हो सकती है।
  • विवाह में देरी हो सकती है।आंख में किसी भी तरह की खराबी हो या फिर लंबे समय से संतान उत्पत्ति में बाधा आ रही हो तो अक्सर कर्ज और मुकदमेबाजी लगी रहती है, मंगल अशुभ हो तो कभी कभी जेल के दर्शन भी हो जाते हैं।
  • इसे मंगल के खराब प्रभाव के तौर पर देखा जाता है।

मंगल गृह के शुभ प्रभाव

  • मंगल का कुंडली में बलवान होकर शुभ प्रभाव होने पर जातक को
  • मंगल के शुभ होने पर जातक की कार्यक्षमता बढ़ती है और कम उम्र में ही उन्नति शुरू हो जाती है।
  • ऐसे व्यक्ति के घर में मांगलिक कार्य होते रहते हैं और विवाह भी सही समय पर हो जाता है।
  • भूमि संबंधित कार्यो में लाभ एवं मकान आदि सुख प्राप्त होता है।
  • जातक को समाज में मान – सम्मान, उच्च प्रसाशकीय पद, मंत्री पद आदि प्राप्त होने योग प्रबल होते हैं।

मंगल ग्रह के अशुभ फल में सुधार हेतु उपाय करने हेतु मंगलवार का दिन और दोपहर का समय सबसे उपयुक्त होता है। यदि आपकी कुंडली में भी मंगल पीड़ित /कमजोर का होक्र स्थित है तो करे निम्नलिखित उपाय और बनाये मजबूत——

मंगल ग्रह को अनुकूल बनाने के उपाय, mangal grah ko anukul banane ke upay,

surya-grah-ke-upay
kalash

मंगल यंत्र :– मंगल देव के शुभ फलो हेतु मंगल यंत्र को धारण करना चाहिए। इस यंत्र के प्रभाव से मंगल देव के अशुभ प्रभाव दूर होते है। जीवन में धन, शक्ति, पराक्रम, उन्नति एवं सौभाग्य की प्राप्ति होती है। जातक जीवन में निरंतर उन्नति करता है।

इस यंत्र को मंगलवार के दिन ताम्बे के ताबीज में भरकर लाल सूती या लाल रेशमी धागे में बांध कर मंगलवार को शुभ समय में गले या बाँह में धारण करना चाहिए। एवं इस मंगल यंत्र को नित्य देखकर पढ़ना चाहिए।

यह भी जानिए :- पेट में गैस की हो परेशानी तो तुरंत करें ये उपाय, गैस की समस्या से शर्तिया मिलेगा आराम 

kalash

मंगल ग्रह के औषधि स्नान :मंगल ग्रह को अपने अनुकूल करने के लिए मंगलवार के दिन प्रात: जल में लाल चन्दन या रोली, लाल सुगन्धित पुष्प, बेल वृक्ष की छाल, जटामांसी, हींग आदि डालकर स्नान करने से मंगल ग्रह के अनुकूल फल मिलते है।

  • मंगल देव का तांत्रिक मन्त्र :- “ॐ अं अंगारकाय नम:” ।। एवं “ऊँ भोम भोमाय नमः” ।।
  • उपरोक्त दोनों मंत्रो में से किसी भी एक मन्त्र का विधिवत जाप कराने से मंगल देव के अशुभ फल निश्चय ही दूर होते है। मंगल देव के मन्त्र की कम से कम 10000, एवं अधिकतम 44000, जप पूर्णतया फलदाई होता है।
kalash

मंगल देव के दान :– यदि कुंडली में मंगल देव अशुभ फल दे रहे हो तो मंगलवार के दिन मूंगा, लाल मसूर, गुड़, गेंहू, लाल कपड़ा, लाल फूल ताम्बा का किसी सात्विक ब्राह्मण को पूर्ण श्रद्धा से दक्षिणा सहित दान चाहिए, इससे मंगल ग्रह के अशुभ फल दूर होते है, शुभ फल मिलने लगते है।

  • आपको हनुमान जी की उपासना करना चाहिए और मंगलवार के दिन मीठा प्रसाद बांटना चाहिए।
  • भाइयों और मित्रों से प्रेमभाव रखना चाहिए और उन्हें सम्मान देना चाहिए।
  • घर में सौंफ, शहद, छुआरे नहीं रखना चाहिए और गुड़ की मीठी रोटी या तंदुरी रोटी कुत्ते को खि‍लाना लाभकारी होता है।
  • ऐसे जातक को दक्षि‍णमुखी मकान में नहीं रहना चाहिए।
  • ताँबा, गेहूँ एवं गुड,लाल कपडा,माचिस का दान करें।
  • तंदूर की मीठी रोटी दान करें। बहते पानी में रेवड़ी व बताशा बहाएँ,मंदिर में लाल मसूर की दाल दान में दें।
  • बंदरो को चने खिलाना,हनुमान चालीसा,बजरंग बाण,हनुमानाष्टक,सुंदरकांड का पाठ करना शुभप्रद रहेगा।
  • मंगल के बीज मंत्र ॐ हूँ श्रीं भौमाय नमः का 108 बार (1 माला) नित्य जाप करना श्रेयस्कर होता है |
  • जिनका मंगल कुंडली में शुभ स्तिथि मैं नहीं है उन्हें मंगलवार के दिन व्रत करना चाहिए और गरीब व्यक्ति को भर पेट भोजन कराना चाहिए।
  • मंगलवार के दिन शाम को हनुमान चालीसा का 11 बार पाठ करे।
  • मंगलवार के दिन शाम को हनुमान जी के सामने सरसो के तेल का दिया जलाये।
  • मंगल से सम्बन्धित रत्न दान देने से भी पीड़ित मंगल के दुष्प्रभाव में कमी आती है।
  • लाल वस्त्र मैं दो मुठ्ठी मसूर की दाल बाँधकर मंगलवार के दिन किसी भिखारी को दान करनी चाहिए।
  • मंगल को मजबूत करने के लिए जल में लाल चन्दन या कुमकुम डाल कर नहाना चाहिए।
  • अपने घर में लाल पुष्प वाले पौधे या वृक्ष लगाकर उनकी देखभाल करनी चाहिए।
  • जिन जातको का मंगल ख़राब हो उन्हें कभी क्रोध नहीं करना चाहिए।
  • हमेशा लाल रुमाल रखें, बाएं हाथ में चांदी की अंगूठी धारण करें, कन्याओं की पूजा करें और स्वर्ण न पहनें या कम पहने, मीठी तंदूरी रोटियां कुत्ते को खिलाएं, विशेष रूप से यह ध्यान रखें कि घर में दूध उबल कर बर्तन से बाहर न गिरे।
  • अगर संपत्ति सम्बन्धी समस्या हो मकान ना बन पा रहा हो तो… किसी भी मंगलवार को एक नारंगी रंग का तिकोना ध्वज लेकर उसपे लाल रंग से राम लिखें, फिर उसी दिन अर्थात मंगलवार को ही ले हनुमान जी के मंदिर में चढ़ाएं।
  • इससे अगर सम्पति बेचनी हो तो अच्छे दाम पर बिक जाती है और यदि खरीदनी हो तो उसके योग भी बनते है ।
  • मुक़दमेबाजी, विवाद शत्रु भय हो तो… नित्य सुबह स्नान करके मंगल देव को जल अर्पित करें, फिर मंगल देव के समक्ष पूरी हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  • हमेशा लाल रुमाल रखें, बाएं हाथ में चांदी की अंगूठी धारण करें, कन्याओं की पूजा करें और स्वर्ण न पहनें, मीठी तंदूरी रोटियां कुत्ते को खिलाएं, ध्यान रखें, घर में दूध उबल कर बाहर न गिरे।
  • जिन लोगों की कुंडली में मंगलदोष है उनके द्वारा प्रतिदिन या प्रति मंगलवार को शिवलिंग पर कुमकुम चढ़ाया जा सकता है। इसके साथ ही शिवलिंग पर लाल मसूर की दाल और लाल गुलाब अर्पित करें।
  • हर मंगलवार को मंगल देव की विशेष पूजा करनी चाहिए। मंगल देव को प्रसन्न करने के लिए उनकी प्रिय वस्तुएं जैसे लाल मसूर की दाल और लाल कपडे का दान करना चाहिए।
  • मंगल ग्रह की शांति के लिए जातक को हमेशा अपने पास लाल रुमाल रखना चाहिए। यह दोष के प्रभाव को कम करने के मदद करता है।
  • भाइयों की सहायता और ताऊ-ताई की सेवा करें तो मंगल का अच्छा प्रभाव मिलता है।
  • लाल रंग का रूमाल का दान करने से मंगल का खराब प्रभाव खत्म होता है।
  • महिलाओं में मंगल का दुष्प्रभाव खत्म करने के लिए तो वो लाल चूडिय़ां, सिंदूर, लाल साड़ी, लाल बिंदी आदि का दान देना शुभ होता है।

Published By : Memory Museum
Updated On : 2020-12-26 10:35:00 PM

Amit Pandit ji
ज्योतिषाचार्य डॉ० अमित कुमार द्धिवेदी
कुण्डली, हस्त रेखा, वास्तु
एवं प्रश्न कुण्डली विशेषज्ञ

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

तिजोरी के उपाय, tijori ke upay,

तिजोरी के उपाय, tijori ke upay,हर घर में धन रखने का एक नियत स्थान होता है, समान्यता...

सोमवती अमावस्या, सोमवती अमावस्या का महत्व, somvati amavasya ka mahtv,

somvati amavasya ka mahtv, सोमवती अमावस्या का महत्व,

शिव परिवार, Shiv Parivaar,

Shiv Pariwar, शिव परिवार,भगवान शिव (Bhagwaan Shiv) देवो के देव है। हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं...

दमा के घरेलु उपचार

दमा के उपचार, dama ke upchar,दमा dama बहुत कष्ट देने वाली बीमारी है। यह बीमारी किसी भी...
Translate »