Sunday, November 29, 2020
Home जन्माष्टमी कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा विधि, Krishna Janmashtami ki puja vidhi,

कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा विधि, Krishna Janmashtami ki puja vidhi,

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2020, Shri Krishna Janmashtami

  • हिन्दु धर्म शास्त्रों के अनुसार द्वापर युग में भाद्रपद माह के कृष्‍णपक्ष की अष्‍टमी तिथि में बुधवार के दिन रोहिणी नक्षत्र में रात्रि 12 बजे मथुरा नगरी मेंभगवान विष्णु ने कारागार में वासुदेव जी की पत्नी देवकी के गर्भ से श्रीकृष्ण के रूप में अवतार लिया था। इस दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा का विशेष महत्व है।
  • वर्ष 2020 में अष्टमी की तिथि 11 अगस्त को प्रात: 09 बजकर 06 मिनट से आरंभ हो रही है जो 12 अगस्त को प्रात: 11 बजकर 16 मिनट पर समाप्त हो रही है। 11 अगस्त को भरणी और 12 अगस्त को कृतिका नक्षत्र है, इसके बाद रोहिणी नक्षत्र आता है जो 13 अगस्त को रहेगा।
    अर्थात रोहणी नक्षत्र दोनों ही दिन में नहीं है चूँकि अष्टमी का मान 11 एवं 12 अगस्त दोनों ही दिन है इसलिए श्री जन्माष्टमी का पर्व दोनो दिन मनाया जा रहा है।
  • लेकिन प्रश्न यह है कि किस दिन किसको जन्माष्टमी मनानी चाहिए । शास्त्रों में इसके लिए एक आसान सा उपाय बता गया है कि गृहस्थों को उस दिन व्रत रखना चाहिए जिस रात को अष्टमी तिथि लग रही है।
  • पंचांग के अनुसार, 11 अगस्त दिन मंगलवार को गृहस्थ आश्रम के लोगों को जन्माष्टमी का पर्व मनाना सही रहेगा क्योंकि 11 की रात को अष्टमी है। गृहस्थ लोग 11 अगस्त को ब्रत रखें और इस दिन कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाएं, जो कि श्रेष्ठ एवं उत्तम रहेगा।
  • साधु सन्यासी 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे । लेकिन अगर कोई जातक 11 तारीख को ब्रत ना रख पाए तो वह भी अगले दिन अर्थात 12 अगस्त बुधवार को ब्रत रख सकता है ।
  • जगन्नाथ पुरी, बनारस और उज्जैन में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 11 अगस्त को मनाई जाएगी, लेकिन मथुरा, द्वारिका में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व 12 अगस्त को ही मनाया जाएगा।
  • मान्यता है कि इस दिन जो भी सच्चे मन से भगवान श्री कृष्ण का पूजन करता है, जन्माष्टमी का व्रत रखता है, उसे इस संसार में किसी भी चीज़ का आभाव नहीं रहता है, अंत में वह मोह-माया के बंधन से मुक्‍त हो जाता है, उसे मोक्ष की प्राप्‍ित होती है। इस दिन सच्‍चे मन से व्रत करते हुए की गई कोई भी मनोकामना पूरी होती है। जन्माष्टमी में भगवान श्री कृष्ण का पूजन इस प्रकार करना चाहिए।

कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा विधि,

  • जन्माष्टमी के दिन प्रात: सूर्योदय से पूर्ण उठाकर, स्नान आदि करके साफ पीले, गुलाबी या सफ़ेद वस्त्र धारण करने चाहिए । इसके बाद पूर्व या उत्तर की ओर भगवान श्रीकृष्ण की सोने, चांदी, तांबा, पीतल अथवा मिट्टी की जो भी संभव हो मूर्ति या चित्र ( लड्डू गोपाल का ) पालने में अथवा चौकी पर स्थापित करें। भगवान श्रीकृष्ण को नए पीले / लाल वस्त्र पहनाएं । इसके बाद भगवान श्रीकृष्ण का पीले पुष्प चढ़ाकर उनका पूजन करें।
  • जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण मंदिर जाकर भगवान श्री कृष्ण को पीले फूलो की माला चढ़ाएं , मंदिर में पानी वाला नारियल चढ़ाएं ।
  • इस दिन भगवान श्री कृष्ण के निम्नलिखित मंत्रो का अधिक से अधिक जाप करे ।

द्वादशाक्षर श्रीकृष्ण मंत्र : “ॐ नमो भगवते श्रीगोविन्दाय”।।

श्री कृष्ण मन्त्र : “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम”।।

  • स्कन्द पुराण के मतानुसार– ये न कुर्वन्ति जानन्तः कृष्णजन्माष्टमीव्रतम,ते भवन्ति नराः प्राज्ञ व्याला व्याघ्रश्च कानने” अर्थात्–जो भी मनुष्य जानकर भी कृष्ण जन्माष्टमी व्रत को नहीं करता, वह मनुष्य जंगल में सर्प और व्याघ्र होता है। ( वृद्ध , रोगी एवं बच्चो को इसमें छूट है )
  • मदन रत्न में स्कन्द पुराण का वचन है कि जो उत्तम पुरुष है। वे निश्चित रूप से जन्माष्टमी व्रत को इस लोक में करते हैं। उनके पास सदैव स्थिर लक्ष्मी होती है। इस व्रत के करने के प्रभाव से उनके समस्त कार्य सिद्ध होते हैं।
  • ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार “जो प्राणी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का व्रत करता है, वह सौ जन्मों के पापों से मुक्त हो जाता है”।
  • भविष्य पुराण के अनुसार “जन्माष्टमी का व्रत अकाल मृत्यु नहीं होने देता है । जो जन्माष्टमी का व्रत करते हैं, उन्हें आरोग्य और दीर्घायु प्राप्त होती है”।
  • शास्त्रों के अनुसार , एकादशी का व्रत हजारों – लाखों पाप नष्ट करनेवाला अदभुत ईश्वरीय वरदान है लेकिन एक जन्माष्टमी का व्रत हजार एकादशी व्रत रखने के पुण्य की बराबरी का है ।
  • भगवान श्री कृष्ण का जन्म रात्रि में 12 बजे हुआ था अत: 12 बजे के बाद श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाएं। पूरे विश्व में हिन्दु घर्म के मानने वाले मंदिरो में एवं प्रतिक के रूप में घर पर श्री कृष्ण जी का ‘खीरा काटकर’ जन्म कराते है। जन्म के समय उनका दूध, दही, शुद्ध जल से अभिषेक किया जाता है । जन्म के पश्चात भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप ‘लड्डू गोपाल; को पालने झूला झुलाएं।
  • भगवान श्री कृष्ण को माखन मिश्री अत्यंत प्रिय थी । अपने बाल अवतार में कान्हा ने माखन के लिए बहुत गोपियों की मटकी फोड़ी थी, घरो से माखन चुराया था इसलिए उन्हें माखन चोर भी कहा जाता है अत: उन्हें माखन मिश्री का भोग अवश्य ही लगाएं ।
  • जन्म के बाद प्रभु को पंचामृत में तुलसी डालकर ( भगवान श्री कृष्ण की पूजा बिना तुलसी के पूर्ण नहीं होती है) व माखन, मिश्री, चावल / सबुतदाने की खीर, पंजीरी, खीरा आदि का भोग लगाएं। इलाइची, 5 फल, नारियल आदि अर्पित करे । श्रीकृष्‍ण भगवान की आरती करें और आरती के बाद प्रशाद बाँटे।
  • श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा के दौरान भगवान के निकट एक बांसुरी रखना ना भूलें क्योंकि उसके बिना श्री कृष्ण का श्रंगार पूरा नहीं होता ।
  • जो जातक जन्माष्टमी का ब्रत रखते है वे दिन में फलाहार लेते है एवं रात में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के बाद ही भोजन ग्रहण करते है। इस ब्रत का कोई विशेष नियम नहीं है, बहुत से भक्त गण जन्माष्टमी के अगले दिन सूर्योदय के पश्चात अपना ब्रत पूरा करते है। अगर कोई भक्त किसी कारणवश ब्रत रखने में समर्थ नहीं है तो भी यदि वह पूरे मन से जन्माष्टमी को कान्हा की भक्ति करते है तो उन्हें द्वारकाधीश की पूर्ण कृपा मिलती है।
  • वैसे तो जन्माष्टमी का पर्व पूरे भारत में हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाया जाता है लेकिन उत्तर भारत विशेषकर मथुरा, वृन्दावन, और गोकुल में इस पर्व की अलग ही धूम देखने को मिलती है। जन्माष्टमी के दिन यहाँ के मंदिरो को विशेष रूप से सजाया जाता है और यहाँ पर भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव देखते ही बनता है इन आयोजनों में यहाँ पर विश्व के कोने कोने से भगवान श्री कृष्ण के भक्त आते है ।
  • गुजरात जहाँ पर मान्यता है कि भगवान श्री कृष्ण ने अपनी अदभुत नगरी द्वारिका बसाई थी वहाँ पर द्वारकाधीश मंदिर में कृष्ण भक्त जन्माष्टमी के पर्व को , कान्हा के जन्म को अत्यंत धूम धाम से मनाते है।
  • महाराष्ट्र में सभी ओर विशेषकर मुंबई और पुणे में जन्माष्टमी का पावन पर्व अलग ही रूप में मनाया जाता है।यहाँ का दही हाँडी उत्सव ना केवल महाराष्ट्र में वरन पूरे भारत में प्रसिद्द है । यहाँ पर ऊँची ऊँची दही हांडियों को फोड़ने के लिए, आकर्षक इनाम जीतने के लिए गोविंदाओं की टोली ( जो दही हांडियों को फोड़ते है ) लम्बे समय से तैयारी में जुटी रहती है।
  • इसमें लड़के / लड़कियों का समूह एक के ऊपर एक चढ़कर इन हांडियों को फोड़ने के लिए पिरामिड बनाता है और जो सबसे ऊपर होता है उसे दही हाँडी फोड़ने का सौभाग्य मिलता है।
  • लेकिन कई बार दही हाँडी को फोड़ने के लिए बहुत से गोविंदाओं की टोलियों को जम कर पसीना बहाना पड़ता है , और कई बार बहुत प्रयासों के बाद ही सफलता हाथ लगती है ।
  • इस बार वर्ष 2020 में कोरोना महामारी के कारण यथा संभव जन्माष्टमी घर से ही मनाएं, मंदिरो में बहुत भीड़ ना इकठ्ठा करें, सामूहिक रूप से बने प्रशाद को लेने में भी परहेज करें ।
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

How To Copy A Live WordPress Site To Localhost Manually (2)

You can select what widgets to display in the how to speed up wordpress sidebar and footer. With widgets providing easy drag and drop...

गृह शांति के उपाय, grah shanti ke upay

Pita santan ke sambandh sudharne ke upay,पिता संतान के सम्बन्ध सुधारने के उपाय,हर...

व्यापार का मुहूर्त, vyapar ka muhurt,

व्यापार का मुहूर्त, vyapar ka muhurt.,हर व्यक्ति कि नया व्यापार करने पर यही आशा रहती है कि उसका...

Remedies For Always Success in Life

Success in All Endeavours11. Tying a black thread on the right wrist and also wearing a gold ring...
Translate »