Home Durga Pooja navratri ki taiyari, नवरात्री की तैयारी,

navratri ki taiyari, नवरात्री की तैयारी,

8

नवरात्री की तैयारी, navratri ki taiyari,

सभी हिन्दु धर्म ग्रंथो में नवरात्री की बहुत महिमा बताई गई है । नवरात्री के नौ दिनों में भक्त गण सच्चे मन से माँ आदि शक्ति के विभिन्न रूपो की आराधना करते हुए माँ से अपने घर परिवार में आरोग्य, सुख-समृद्धि और समस्त सुखो के लिए प्रार्थना करते है। मान्यता है कि जो भी भक्त सच्चे मन और पूर्ण श्रद्धा से माँ की आराधना करते है माँ उनकी समस्त अभिलाषाएं अवश्य ही पूर्ण करती है । जो लोग इन दिनों ब्रत रखते है उन्हें पहले से ही कई तैयारियाँ एवं ब्रत के कई नियमो का पालन करना होता है । 

नवरात्री की कैसे करें तैयारी, navratri ki kaise karen taiyari,

नवरात्री अमावस्या के बाद शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के दिन शुरू होते है अतः सम्पूर्ण पूजन सामग्री अमावस्या से एक दिन पहले ही खरीद लेनी चाहिए अर्थात यथासंभव अमावस्या के दिन माँ की पूजन सामग्री खरीदने से बचना चाहिए । 

सामान्यता देखा जाता है कि नवरात्र के प्रथम दिन कलश स्थापना, जौ बोने के लिए श्रेष्ठ मुहूर्त थोड़े समय के लिए ही मिल पाता है जिसमें हम जल्दी जल्दी करते हुए हड़बड़ा जाते है और कई बातो को भूल जाते है अतः  जो लोग घर में जौ बोते है उन्हें जौ बोने के लिए बर्तन एवं मिटटी की व्यवस्था एक दिन पहले ही कर लेनी चाहिए । 

नवरात्र में पूजा सामग्री में कलश, जौ के लिए बर्तन , कलश के लिए आम के पत्ते, पंचरत्न, रोली, मीठा, चाँदी का सिक्का , जौ , तिल, , कमल गट्टा, शहद, गंगा जल, इत्र, सिंदूर, रोली, हल्दी की गाँठ, जायफल, सुपारी, पीला जनेऊ, लाल कलावा / मोली, कौड़ियाँ, पंचमेवा, मिश्री, मेवे, फल, मखाने, घी, कलश के ऊपर रखने वाला नारियल, पीले अक्षत, लकड़ी की चौकी, बिछाने के लिए लाल / पीला कपड़ा, लाल चुनरी , माँ के लिए वस्त्र, अर्पित करने के लिए सुहाग का सामान /चूड़ियाँ आदि जो भी खरीदना हो उसकी लिस्ट बना कर पहले ही खरीद कर रख लें ।  जिससे ऐन वक्त पर कुछ खोजना ना पड़े । पूजा के लिए पान के पत्ते और फूल / माला   भी एक रात पहले ही खरीद कर रख लेना चाहिए । 

नवरात्री में घर के मंदिर में कलश स्थापना, जौ बोने से पहले मंदिर को अच्छी तरह से साफ करके उसे सजा लेना चाहिए । मंदिर की मूर्तियों / तस्वीरों को अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए और उन्हें वस्त्र आदि पहना देना चाहिए । अधिकतर यह देखा जाता है कि भक्त गण यह कार्य नवरात्र के प्रथम दिन ही करते है जिसमें अच्छा समय लग जाता है और स्थापना का शुभ मुहूर्त नहीं मिल पाता है अतः मंदिर की साफ-सफाई, सजावट का कार्य एक दो दिन पूर्व में ही हर हालात में कर लेना चाहिए जिससे उस दिन जल्दबाजी और भूल-चूक ना हो । 

जिन घरो में अखंड ज्योति जलाई जाती है वहाँ पर दीपक को पाहे ही अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए, घी और दीपक को ढकने के लिए शीशे का इंतजाम भी पहले ही कर लेना चाहिए । 

मान्यता है कि अखण्ड ज्योति में रुई की जगह लाल बत्ती का प्रयोग करना शुभ रहता है, ध्यान रहे लाल बत्ती सूती हो तभी वह लंबे समय तक जल पायेगी । दीपक के लिए सूती लाल बत्ती भी पहले से ही ले लेनी चाहिए ।  

जो लोग नवरात्र में घर में कलश स्थापना करते  है, नवरात्री का ब्रत रखते है, उन्हें नवरात्री से पहले ही अपने घर की अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए , विशेषकर  घर के मंदिर, रसोई और फ्रिज़ को बिलकुल साफ – सुथरा रखना चाहिए । वहाँ किसी भी प्रकार का प्याज़, लहसुन आदि ना रखे । 

नवरात्र के ब्रत में भक्त गण फलाहार, फल आदि का सेवन करते है । आजकल बाजार में भी बनी बनाई ब्रत की नमकीन मिलती है , लेकिन उससे अच्छा है कि मखाने , मूंगफली, साबुत दाना आदि लेकर पहले से ही घर पर हल्के घी / तेल की  सेंधा नमक या बिना नमक की ब्रत की नमकीन बना लें । जिससे ब्रत में भूख लगने पर बिलकुल साफ और हल्का आहार प्राप्त हो सके । 

नवरात्र में प्रतिदिन की पूजा में माँ को कुछ ना कुछ प्रशाद अवश्य ही चढ़ाना चाहिए । यह प्रशाद पंचमेवा, मिश्री, लौंग, इलाइची, मेवे, फल आदि हो सकते है , इन्हें भी पहले से ही खरीद कर रख लेना चाहिए । 

नवरात्री में माँ दुर्गा को नौ दिन अलग अलग भोग लगाने का विधान है , यदि आप भी माँ को प्रत्येक दिन शास्त्रो के अनुसार भोग लगाना चाहते है तो प्रतिदिन के भोग की व्यवस्था भी पूर्व में ही समय रहते कर लेनी चाहिए ।  

नवरात्रि में मंदिरो में भजन कीर्तन होते रहते है, बहुत से लोग अपने घर पर भी माँ की भेंटो , भजन कीर्तन का आयोजन करते है, इससे वातावरण शुध्द होता है । नवरात्र में किसी भी दिन समय निकाल कर इन कीर्तन में अवश्य ही जाएँ अथवा अपने घर पर ही किसी म्युज़िक सिस्टम में ही सही नवरात्र में माता के गीत अवश्य ही चलाएं, भक्ति रस का आनंद लें । 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »