Wednesday, May 5, 2021
Home Amavasya शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay,

शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay,

kalash

शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay,

13 मार्च को शनि अमावस्या है। शनि अमावस्या (Shani Amavasya) का ज्योतिष एवं तन्त्र शास्त्र में बहुत महत्व है। इस दिन शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay, करने से शनि देव (Shani Dev) प्रसन्न होते है ।

शनिवार की अमावस्या पर पड़ने वाले इस श्रेष्ठ संयोग में किये गए उपायों से ना केवल शनि देव की (Shani Dev) ही कृपा प्राप्त होगी वरन शनि अथवा कुंडली के किसी भी ग्रह के अशुभ प्रभावों में निश्चय ही कमी आएगी ।

वैसे तो सभी लोगो को शनि अमावस्या के उपाय, Shani Amavasya ke upay को उपाय करने चाहिए लेकिन जो लोग शनि की साढ़ेसाती (Shani ki Sade Sati) और ढैय्या से पीड़ित हैं उन्हें तो शनिश्चरी अमावस्या पर विशेष उपाय अवश्य ही करने चाहिए।

क्लिक करें:- कैसी भी बवासीर की परेशानी से निजात पाने के लिए इस साइट पर दिए गए उपचारों को अवश्य ही जानिए

शनि अमावस्या, shani amavasya, शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay, शनि अमावस्या का महत्व, shani amavasya ka mahatva,

शनि अमावस्या के उपाय, shani amavasya ke upay,

hand-logo

पवित्र नदी के जल से या नदी में स्नान कर शनि देव का आवाहन और उनके दर्शन करे ।

hand-logo

श्री शनिदेव का आह्वान करने के लिए हाथ में नीले पुष्प, बेल पत्र, अक्षत व जल लेकर इस मंत्र अदभुद वैदिक मंत्र का जाप करते हुए प्रार्थना करें-

“ह्रीं नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्।
छायार्मात्ताण्डसंभूतं तं नमामि शनैश्चरम्”।।


ह्रीं बीजमय, नीलांजन सदृश आभा वाले, रविपुत्र, यम के अग्रज, छाया मार्तण्ड स्वरूप उन शनि को मैं प्रणाम करता हूं और मैं आपका आह्वान करता हूँ॥

अवश्य पढ़ें :- इन उपायों से थायरॉइड रहेगा बिलकुल कण्ट्रोल में, यह है थायरॉइड के अचूक उपचार 

hand-logo

शनि अमावस्या (Shani Amavasya) के दिन प्रात: जल में चीनी एवं काला तिल मिलाकर पीपल की जड़ में अर्पित करके सात परिक्रमा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।


शनिदेव को प्रसन्न करने का सबसे अनुकूल मंत्र है —
“ॐ शं शनैश्चराय नम:।”
इस मंत्र की एक माला का जाप अवश्य करें
इस दिन आप श्री शनि देव के दर्शन जरूर करें।

शनिदेव की दशा में अनुकूल फल प्राप्ति कराने वाला मंत्र –
ॐ प्रां प्रीं प्रौं शं शनैश्चराय नम:

hand-logo

शनि अमावस्या (Shani Amavasya) के दिन संध्या के समय पीपल के पेड़ पर सप्तधान / सात प्रकार का अनाज चढ़ाएं और सरसों या तिल के तेल का दीपक जलाएं, इससे कुंडली के ग्रहो के अशुभ फलो में कमी आती है। जीवन से अस्थिरताएँ दूर होती है ।

hand-logo

शनि अमावस्या के दिन बरगद के पेड की जड में गाय का कच्चा दूध चढाकर उस मिट्टी से तिलक करें। अवश्य धन प्राप्ति होगी।

hand-logo

उड़द की दाल की काला नमक डाल कर खिचड़ी बनाकर संध्या के समय शनि मंदिर (Shani Mandir) में जाकर भगवान शनि देव का भोग लगाएं फिर इसे प्रसाद के रूप में बाँट दें और स्वयं भी प्रसाद के रूप में ग्रहण करें ।

hand-logo

शनिवार के दिन काले उड़द की दाल की खिचड़ी काला नमक डाल कर खाएं इससे भी शनि दोष (Shani Dosh)के कारण होने वाले कष्टों में कमी आती है।

hand-logo

इस दिन मनुष्य को सरसों का तेल, उडद, काला तिल, देसी चना, कुलथी, गुड शनियंत्र और शनि संबंधी समस्त पूजन सामग्री अपने ऊपर वार कर शनिदेव के चरणों में चढाकर शनिदेव का तैलाभिषेक करना चाहिए।

hand-logo

शनिश्चरी अमावस्या को सुबह या शाम शनि चालीसा का पाठ या हनुमान चालीसा (Hanumaan Chalisa), बजरंग बाण का पाठ करें।

hand-logo

तिल से बने पकवान, उड़द से बने पकवान गरीबों को दान करें और पक्षियों को खिलाएं .

hand-logo

उड़द दाल की खिचड़ी दरिद्रनारायण को दान करें।

hand-logo

अमावस्या की रात्रि में 8 बादाम और 8 काजल की डिब्बी काले वस्त्र में बांधकर संदूक में रखें। इससे आर्थिक संकट दूर होते हैं नौकरी, व्यापार में धनलाभ, सफलता की प्राप्ति होती है ।

अवश्य पढ़ें :- इन उपायों से धन संपत्ति खींची चली आएगी, किसी चीज़ का नहीं रहेगा अभाव

hand-logo

शनि अमावस्या के दिन संपूर्ण श्रद्धा भाव से पवित्र करके घोडे की नाल या नाव की पेंदी की कील का छल्ला मध्यमा अंगुली में धारण करें।

hand-logo

शनि अमावस्या के दिन 108 बेलपत्र की माला भगवान शिव के शिवलिंग पर चढाए। साथ ही अपने गले में गौरी शंकर रुद्राक्ष 7 दानें लाल धागें में धारण करें।

hand-logo

जिनके ऊपर शनि की अशुभ दशा हो ऐसे जातक को मांस , मदिरा, बीडी- सिगरेट नशीला पदार्थ आदि का सेवन न करे ।

कुंडली के ग्रहो के दुष्प्रभाव को दूर करने, शनि देव को प्रसन्न करने के एक आसान लेकिन बहुत ही अचूक उपाय करें । शनि अमावस्या के दिन एक सरसों के तेल की बंद बोतल शनि देव को अर्पित करके उनसे अपनी जाने अनजाने में की गई भूलो, गलतियों के लिए क्षमा मांगे । इस उपाय की किसी से भी कोई चर्चा ना करें ।

शनि अमावस्या के दिन हनुमान मंदिर में हनुमान जी को लाल सिंदूर अवश्य चढ़ाएं। इससे हनुमान जी प्रसन्न होते है, शनि की साढ़े साती, ढैय्या का प्रभाव दूर होता है।

अवश्य पढ़ें :- जानिए वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा रहना चाहिए आपका बाथरूम, अवश्य जानिए बाथरूम के वास्तु टिप्स

pandit-ji
पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )
Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दरिद्रता दूर करने का उपाय, daridrata dur karne ke upay,

daridrata dur karne ke upay, दरिद्रता दूर करने का उपाय,* प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसे इस जीवन...

देव प्रबोधनी एकादशी की कथा Dev prabodhani ekadashi katha

दीपावली के ग्यारहवें दिन कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी Kartik Shukl Paksh Ki Ekadashi देव उत्थान एकादशी Dev Utthan Ekadashi/ प्रबोधिनी एकादशी...

पथरी के आयुर्वेदिक उपचार, Pathri ke ayurvedic upchar,

पथरी के आयुवेदिक उपचार, Pathri ke ayurvedic upcharवर्तमान समय में गलत खान पान, खेती में अधिक पेस्टीसाइड...

बसंत पंचमी का महत्व | बसंत पंचमी कैसे मनाएं

माघ शुक्लपक्ष पंचमी के दिन वसंत पंचमी Basant Panchmi बड़े ही हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाया जाता है । हिन्दू धर्म...
Translate »