Thursday, September 17, 2020
Home Hindi पर्व त्योहार अक्षय तृतीया २०२०

अक्षय तृतीया २०२०

अक्षय तृतीया

“न क्षयः इति अक्षयः —–अर्थात जिसका क्षय ना हो वह है अक्षय”।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमास और सौरमास के अनुसार तिथियों का घटना-बढ़ना, क्षय होना होता ही है, लेकिन तृतीया तिथि का कभी भी क्षय नहीं होता। तृतीया तिथि की अधिष्ठात्री देवी माता पार्वती जी हैं।

मान्यता है कि यदि किसी को किसी भी अच्छे कार्य के लिए कोई शुभ मुहुर्त नहीं मिल पा रहा हो उसके कार्यों में लगातार अड़चने आती है, व्यापार में घाटा होता है तो उनके लिए कोई भी नई शुरुआत करने के लिए शुभ कार्य, लाभ का कार्य करने का अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya का दिन बेहद शुभ माना जाता है। ।

यह दिन नया चांद आने के तीसरे दिन आता है ,इसलिए इसे तृतीया कहते हैं। पौराणिक कथा और ग्रंथों की मानें तो इस दिन आप जो भी शुभ कार्य करते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है। इसी कारण इस खास दिन को अक्षय तृतीया कहा जाता है। अक्षय तृतीया नि:स्वार्थ भाव से जरूरतमंदों को दान करने का महापर्व है। हिंदू कैलंडर में अक्षय तृतीया को एक शुभ दिन के तौर पर गिना जाता है।

अक्षय तृतीया वह शक्तिशाली समय है जिसमें मनुष्य को स्थायी धन-संपदा को प्रदान करने की शक्तियाँ निहित हैं। वर्ष में एक बार बैशाख शुक्लपक्ष की तृतीया तिथि को आने वाले इस विशेष दिन में कुछ आसान उपायों से राजसी सत्ता व समस्त सांसारिक सुखो को निश्चय ही प्राप्त किया जा सकता है।

अक्षय तृतीय के दिन ग्रहों का एक विशेष संयोग बनता है। इस दिन सूर्य और चंद्रमा दोनों ही अपनी उच्च राशि में होते है, ऐसा खास संयोग साल में सिर्फ एक दिन आज ही के दिन बनता है। इस पवित्र दिन सूर्य, मेष में और चंद्रमा वृषभ में होता है।

इस दिन सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति एकजुट होकर चलते हैं, जो हर तरह के काम के लिए शुभ मुहूर्त माना जाता है। यही वजह है कि लोग इस दिन को किसी नए सामान की खरीदारी और इन्वेस्टमेंट के लिए अच्छा मानते हैं। खरीदने के साथ ही कोई चीज दान करना भी इस दिन पुण्य बटोरने व समृद्धि लाने का प्रतीक माना जाता है। इसे आखा तीज भी कहते हैं। इस दिन घर में हवन पूजा और पितरों को श्राद्ध देना भी काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya का पर्व वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस बार 2020 में अक्षया तृतीया का पर्व 26 अप्रैल को मनाया जायेगा ।

अक्षय तृतीया पूजा का श्रेष्ठ मुहूर्त – 05:42 से 12:16

तृतीया तिथि प्रारंभ: 11:50 बजे (25 अप्रैल 2020)

तृतीया तिथि समापन: 13:21 बजे (26 अप्रैल 2020)


hand-logo

सर्वार्थ सिद्धि योग किसी शुभ कार्य को करने का बहुत ही शुभ मुहूर्त होता है। अक्षया तृतीया के दिन पड़ने वाले इस मुहूर्त में शुक्र अस्त, पंचक, भद्रा आदि पर विचार करने की जरूरत नहीं होती है।

hand-logo

अक्षया तृतीया को सोने, चाँदी के आभूषण, वाहन, भूमि, मकान, आदि खरीदने किसी नए निवेश, पूजा पाठ और दान का विशेष लाभ मिलेगा। अक्षय तृतीया के दिन गृह प्रवेश, मुंडन संस्कार का भी विशेष महत्त्व है। इस दिन विवाह के फेरे लेने के लिए रात 2: 02 से 3.55 बजे तक का समय उत्तम है।

hand-logo

पुराणों के अनुसार अक्षय तृतीया पर दान-धर्म करने वाले व्यक्ति को वैकुंठ धाम में जगह मिलती है। इसीलिए इस दिन को दान का महापर्व भी माना जाता है।
इस दिन नए कार्य शुरू करने के लिए इस तिथि को शुभ माना गया है। भगवान विष्णु को सत्तू का भोग लगाया जाता है और प्रसाद में इसे ही बांटा जाता है।

hand-logo

इस शुभ दिन के दौरान दानपुण्य का तो अक्षय फल मिलेगा ही। भूमि, भवन, वाहन ,सोने चांदी , बर्तन और कपड़े की खरीदारी भी शुभ फलदायी साबित होगी। 

hand-logo

इस दिन अपने सामर्थ के अनुसार अपने माता पिता ,बड़े बुजुर्ग और अपने गुरु को उपहार देकर उनका आशीर्वाद अवश्य ही लेना चाहिए । इस दिन मिला हुआ आशीर्वाद वरदान साबित होता है । 

hand-logo

इस दिन सुबह भगवान विष्णु और माँ लक्ष्मी की पूजा  के बाद ब्राह्मणों को जल से भरे घडे़, पंखे, खड़ाऊं,  खरबूजा, छाता आदि का दान करना चाहिए। इस दिन गरीबों को भोजन, शरबत, दूध पिलाना चाहिए।

hand-logo

माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन किया गया दान परलोक में सुख और आनंद प्रदान करता है।

hand-logo

मनुष्य इस दिन किए गए दान पुण्य से अगले जन्म में धनवान और सुखी होता है।

hand-logo

अक्षय तृतीया के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

hand-logo

इस दिन स्नान करके जौ का हवन, जौ का दान, सत्तू को खाने से मनुष्य के सब पापों का नाश होता है।

hand-logo

इस दिन भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति पर चंदन या इत्र का लेपन भी किया जाता है।

hand-logo

महिलाएं इस दिन शिव मंदिर जाकर गले में लाल धागा और माथे पर सिंदूर लगाकर पति की लंबी उम्र के लिए दुआ मांगती हैं।

hand-logo

माना जाता है कि कोई व्यक्ति लंबे वक्त से बीमार चल रहा है, तो उसके तकिए के नीचे नीम की पत्तियां रखकर उन्हें इस दिन शिव मंदिर में चढ़ाने से लाभ मिलता है।

hand-logo

माना जाता है कि इस दिन त्रेता युग की शुरुआत हुई थी। इस युग की आयु 12,96,000 साल रही।

hand-logo

इसी युग में भगवान श्री वामन, भगवान श्री परशुराम एवं भगवान श्री राम ने अवतार लिया।

hand-logo

इसी विलक्षण योग में बद्रीनाथ के पट खुलते हैं। इस दिन पूर्ण बलि स्वार्थ सिद्ध योग रहता है।

hand-logo

इस दिन सोने- चांदी की खरीद और दान- पुण्य सबसे अधिक शुभ फल देने वाला होता है।

hand-logo

पाण्डुलिपियों और शास्त्रों में उल्लेख है कि पर्व के दिन भगवान श्रीकृष्ण चरण दर्शन करने से बद्रीनाथ धाम के दर्शनों का पूरा फल श्रद्धालु को मिलता है।

hand-logo

कहा जाता है कि इस खास दिन पर आप जितना दान-पुण्य करते हैं, आपको उससे कई गुना ज्यादा आपको रिटर्न मिलता है।

hand-logo

कहा जाता है कि अपने धन को बढ़ाने का यह एक शुभ दिन है और इसी बात में यकीन करते हुए सोना खरीदने का प्रचलन शुरू हो गया, वरना शास्त्रों में इस दिन सोना खरीदने का कोई उल्लेख नहीं मिलता।

hand-logo

एक पुरातन कथा तो यह भी है कि आज के ही दिन भगवान शिव से कुबेर को धन मिला था और इसी खास दिन भगवान शिव ने माता लक्ष्मी का धन की देवी का आशीर्वाद भी दिया था।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

धूम्रपान | धूम्रपान के घरेलु उपाय |Dhumrpan ke Gherlu upay

सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक है। सिगरेट पीने से ना केवल पीने वाला ही वरन उसके परिवार के सदस्यों का...

श्राद्ध में ब्राह्मण भोजन, shradh me brahman bhojan,

पित्र पक्ष में ब्राह्मण भोजन का महत्वPitra Paksh Me Brahman Bhojan Ka Mahtvaहमारे पितृ पूरे वर्ष श्राद्ध अर्थात...

बौध गया मंदिर | Buddha Gaya Mandir

बौध गया मंदिरBuddha Gaya Mandirबिहार राज्य में हिन्दुओ के प्रमुख तीर्थ गया से सटा बौध गया एक छोटा...

सूर्य ग्रहण में क्या करे क्या ना करे, sury grahan men kya kare kya na karen

सूर्यग्रहण २०२० Surya Grahan २०२०सूर्य ग्रहण में क्या करें ना करेंSurya Grahan Me kya kare kya Na...
Translate »