Friday, May 27, 2022
Home karva chauth, करवा चौथ, दाम्पत्य जीवन में प्रेम, damptya jivan me prem

दाम्पत्य जीवन में प्रेम, damptya jivan me prem

दाम्पत्य जीवन में प्रेम उपाय,
Dampatya Jivan Me Prem upay,

भारतीय संस्कृति में पति और पत्नी का रिश्ता बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता है। विवाह के बाद लड़की को एक नए घर में, नए लोगो के बीच , नए वातावरण, नयी संस्कृति, नए रीति रिवाजो का सामना करना पड़ता है।

वह एक बिलकुल ही नयी दुनिया में प्रवेश करती है जहाँ पर उसका अपने ऊपर भी पूरा अधिकार नहीं होता है वह अपने पति को अपना तन, अपना मन, सब कुछ सौंप देती है । उसके सपने अब अपने पति के सपनो के साथ जुड़ जाते है।

इस बिलकुल ही नए माहौल में किसी को भी सामजस्य बनाने में समय लगता है, उसको अपने पति उसके घर वालो की आदतों का , उनकी अपेक्षाओं का भी पूरी तरह से ज्ञान नहीं होता है, ऐसे में उसके पति और ससुराल वालो को उसके साथ बहुत ही प्रेम और सहयोग से पेश आना चाहिए । उसका हर तरह से मार्गदर्शन करना चाहिए उसका उत्साह बढ़ाना चाहिए ।

अवश्य जानिए नरक का भय दूर करने वाले नरक चतुर्दशी / छोटी दीपावली के उपाय,

लेकिन अगर इस प्रारम्भिक अवस्था में उसे बात बात पर टोका जाय उसके कार्यों में गलतियाँ निकाली जाय, उसे या उसके घर वालो को बुरा भला कहा जाय, उस पर बहुत पाबंदियाँ लगा दी जाय, उसके ऊपर उसकी इच्छा के विपरीत जबरदस्ती कोई भी कार्य करने के लिए दबाव बनाया जाय तो नव वधु के मन मस्तिष्क में एक नकरात्मक छवि बन जाती है जो आसानी से मिटती नहीं है।

इसका परिणाम भविष्य में घर में कलह के रूप में सामने आता है और घर में कलह इस धरती में साक्षात नरक के समान है।

यदि घर में कलह होती हो , पति पत्नी के बीच सामंजस्य की कमी हो , दोनों के बीच सम्बन्ध अच्छे नहीं रहते हो तो यहाँ पर बताये जा रहे उपाय करें ।

जानिए, दाम्पत्य जीवन में प्रेम के उपाय, Dampatya Jivan Me Prem ke upay, दाम्पत्य जीवन में प्रेम, Dampatya Jivan Me Prem, दाम्पत्य जीवन में प्रेम कैसे बढ़ाएं, Dampatya Jivan Me Prem kaise badayen, दाम्पत्य जीवन में प्रेम बढ़ाने के उपाय, Dampatya Jivan Me Prem badane ke upay, दाम्पत्य जीवन में प्रेम का महत्त्व, Dampatya Jivan Me Prem ka mahatva,

Dampatya Jivan Me Prem ke upay, दाम्पत्य जीवन में प्रेम के उपाय,

  • जीवन साथी का सान्निध्य, स्थाई प्रेम पाने के लिए, एक लाल कागज पर सुनहरे पैन से अपना व जीवन साथी का नाम लिखें। इसे एक लाल रेशमी कपड़े में दो गोमती चक्र, 50 ग्राम पीली सरसों के साथ एक पोटली की तरह बांध लें। फिर इस पोटली को किसी भी शुभ दिन के शुभ मुहूर्त में कपड़ों वाली अलमारी में कहीं छिपा कर रख दें।

    धनतेरस पर कुबेर जी की ऐसे करें पूजा, घर पर होगी धन की वर्षा, जानिए कैसे करें कुबेर देव को प्रसन्न,
  • एक वर्ष बाद इसे किसी नदी या बहते हुए पानी में प्रवाहित कर दें और फिर इसी तरह की नयी पोटली बना लें । इस उपाय से पति पत्नी के मध्य प्रेम बना रहता है । यह उपाय पति या पत्नी दोनों में से कोई भी कर सकता है लेकिन इसे गोपनीय तरीके से करें ।
  • यदि पति या पत्नी का ध्यान किसी और की तरफ आकृषित हो गया हो, या पति पत्नी के बीच अनबन होती हो, या एक दूसरे के प्रति उदासीन हो गए हो तो जमुनिया नग ‘ पर्पल एमीथीस्ट’ 10 से 15 रत्ती के बीच का चांदी या सोने के लॉकेट में बनवा कर, उसे पूजा के समय गंगा जल और कच्चे दूध से धोकर किसी भी शुभ दिन के शुभ मुहूर्त में धारण कर लें।
  • इस उपाय को करने से दोनों के मध्य गलतफहमियाँ नहीं आती है, दोनों एक दूसरे को भली भाँति समझने लगते है , दोनों एक दूसरे के सुख दुःख में साथ बने रहते है ।

    अवश्य पढ़ें :-  कैसी भी हो पथरी उसका इलाज बिना ऑपरेशन के भी संभव है, जानिए पथरी का अचूक आयुर्वेदिक उपचार

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

काल सर्प योग के उपाय, kaal sarp yog ke upay,

कालसर्प दोष शांति के उपाय, ( Kaal Sarp Dosh Shanti ke upay ),जिन व्यक्तियों की जन्म पत्रिका...

एकादशी ब्रत कथा, ekadashi vrat katha, ekadashi 2021,

एकादशी ब्रत कथा, ekadashi vrat katha,हिन्दू धर्म शास्त्रों में एकादशी, ekadashi तिथि का बहुत महत्त्व है ।...

Gurudwara Nankana Sahib

Nankana Sahib Temple Nankana Sahib is located in Pakistan about 50 miles west of Lahore. Originally known as Raipur,...

नैत्रत्यमुखी भवन का वास्तु, netratva mukhi Bhawan ka vastu,

नैत्रत्यमुखी भवन का वास्तु, netratva mukhi Bhawan ka vastu,जिस भवन में केवल नैत्रत्य कोण netratva con यानि...
Translate »