Home Hindi राशिनुसार उपाय लाल किताब के चमत्कारी उपाय

लाल किताब के चमत्कारी उपाय

589
lal-kitab-ke-upay

राशिनुसार लाल किताब के उपाय
Rashianusar Lal Kitab Ke Upay

अपने आसान और सटीक उपायों के कारण लाल किताब, लाल किताब के चमत्कारी उपाय / Lal Kitab ke Chamatkari upay का महत्व जग जाहिर है। माना जाता है कि लाल किताब के उपाय,लाल किताब के टोटको को विधि पूर्वक करने से सभी परेशानियों से छुटकारा मिलता है। कहते है कि लंका के राजा महाबली रावण ने सूर्य के सारथी अरुण से इस विद्या को प्राप्त करके इन उपायों को अरुण संहिता ग्रन्थ में लिखा था । बहुत समय के बाद यह ग्रंथ किसी तरह से ‘आद’ नामक जगह पर पहुँचा, जहां पर इसका अरबी और फारसी भाषा में अनुवाद किया गया। मान्यता है की आज भी यह पुस्तक लाल किताब मूल रूप में फारसी भाषा में है।

Tags:- लाल किताब, Lal Kitab,लाल किताब के उपाय , लाल किताब के अचूक उपाय ,lal kitab, लाल किताब के सरल उपाय,lal kitab in hindi, चमत्कारी लाल किताब, लाल किताब के आजमाए हुए उपाय, लाल किताब के दुर्लभ उपाय, लाल किताब के चमत्कारी उपाय, lal kitab ke chamatkari upay, lal kitab upay for money in hindi, lal kitab remedies for peace at home,kismat chamkane ke upay, bhagya chamkane ke upay in hindi

कहते है कि एक बार लाहौर में जमीन खोदने का कार्य चल रहा था, वहाँ पर खुदाई में तांबे की पट्टिकाएं मिलीं जिन पर उर्दू एवं अरबी भाषा में यह लाल किताब लिखी हुई मिली। तत्पश्चात सन 1936 में लाल किताब अरबी भाषा में लाहौर में प्रकाशित की गई जो बहुत शीघ्र ही लोकप्रिय हो गयी।

भारत में पंजाब प्रांत के जालंधर जिला के ग्राम फरवाला के निवासी पंडित रूप चंद जोशी जी ने 1939 से 1952 के बीच में इस किताब के पाँच खण्डों की रचना की। वह है :- 1. लाल किताब के फरमान — यह सन 1939 में प्रकाशित हुई, 2. लाल किताब के अरमान — यह सन 1940 में प्रकाशित हुई, 3. लाल किताब (गुटका) — यह सन 1941 में प्रकाशित हुई 4. लाल किताब — यह सन 1942 में प्रकाशित हुई और 5 लाल किताब — यह सन 1952 में प्रकाशित हुई थी ।

वर्तमान समय में यह ग्रंथ उर्दू भाषा में पाकिस्तान के एक पुस्तकालय में सुरक्षित है। परन्तु इस अरुण संहिता या लाल किताब का कुछ अंश गायब हो गए है। हम यहाँ पर प्रत्येक राशि के लाल किताब के उपाय दे रहे है जिन्हे करने से निश्चय ही श्रेष्ठ लाभ प्राप्त होगा।

लाल किताब के उपाय Lal Kitab Ke Upay

मेष राशि Mesh Rashi

* मेष राशि के जातक जीवन में कभी भी किसी से कोई वस्तु मुफ्त में न लें। इनको सलाह है कि यह लोग लाल रंग का कपड़ा /रूमाल का हमेशा उपयोग करें । साधु-संतों, माता पिता, बड़े बुजुर्गो व गुरुओं का सदैव आदर सत्कार करें ।
इस राशि के लोगो को अपना चाल चलन और व्यवहार सदैव सात्विक रखे और धर्म पर पूरी आस्था बनाये रखे। यह लोग विधवा, असहायों की सहायता करके उनका आशीर्वाद लें। मेष राशि के जातक नियमपूर्वक गाय को मीठी रोटी खिलाएं।

वृषभ राशि Vrishabha Rashi

* वृषभ राशि के जातक प्रतिदिन अपने घर में घी का दीपक अवश्य जलाएं। आप लोग शुक्रवार का ब्रत रखें, सदैव साफ कपड़े पहनेंऔर इस्त्र का प्रयोग करें. नया जूता-चप्पल जनवरी माह में न खरीदें. जीवन में ना तो कभी झूठी गवाही दें और ना ही किसी को धोखा दें ।
वृषभ राशि के लोग अपने घर में मनी प्लांट का पौधा जरुर लगाएं।

मिथुन राशि Mithun Rashi

* मिथुन राशि के जातक माँस, मदिरा आदि का बिलकुल भी सेवन न करें ।घर में मछली ना पालें। इस राशि के जातक स्त्रियों को पूर्ण सम्मान दें, अपनी माता को पूर्ण आदर सत्कार दें और छोटी कन्याओं को खुश करके उनका आशीर्वाद लें।
इस राशी के लोग यथासंभव बेल्ट का प्रयोग न करें। अस्पताल में दमे की दवा मुफ्त में दें।
अपने दांत फिटकरी से साफ करें। सूर्य देव को प्रसन्न करने हेतु उपाय करें ।

कर्क राशि kark rashi

* कर्क राशि के जातक अपनी माता का जीवन पर्यन्त आदर करें उनकी सलाह का अवश्य पालन करें । अपनी माता से चांदी, चावल लेकर अपने पास रखें और नित्य माँ भगवती दुर्गा की आराधना करें। धार्मिक कार्यों में सक्रीय रूप से हिस्स लें।
ईश् निंदा कभी भी न करें और किसी को भी कभी तीर्थस्थान की यात्रा करने से न रोकें. कन्या दान में अपनी तरफ से भी सामान दें। रोगियों को दवा में सहायता करें ।
नंगे पैर धर्म स्थान में जाएं। यदि प्याऊ लगायें लोगो के लिए पीने के पानी का प्रबंध करें तो बहुत उत्तम है।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »