Saturday, April 17, 2021
Home Yantra Pitra Dosh Nivaran Yantra

Pitra Dosh Nivaran Yantra

Pitra Dosh Nivaran Yantra

Pitra Dosh Nivaran Mantra

मन्त्र 1 — ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः ।।

मन्त्र 2 — ॐ प्रथम पितृ नारायणाय नमः ।।

कुछ वैदिक ज्योतिषी यह मानते हैं कि पित्र दोष का कारण यह होता है कि जातक ने अपने पूर्वजों के मृत्योपरांत किये जाने वाले संस्कार तथा श्राद्ध आदि उचित प्रकार से नहीं किये होते जिसके चलते जातक के पूर्वज अर्थात पित्र उसे शाप देते हैं जो पित्र दोष बनकर जातक की कुंडली में उपस्थित हो जाता है तथा जातक के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में समस्याएं उत्पन्न करता है।….. पित्र दोष वास्तविकता में पित्रों के शाप से ही नहीं बनता है अपितु पित्रों के और हमारे स्वयं द्वारा किये गए बुरे कर्मों के परिणामस्वरूप बनता है जिसका फल जातक और उसके परिवार को भुगतना पड़ता है ।

परिवार के मुखिया द्वारा जो सत्कर्म अथवा दुष्कर्म अपने जीवन में किए जाते हैं,उनका फल उसके जाने के बाद पारिवारिक सदस्यों को भोगना पडता है—विशेषरूप से उसकी संतान को। अब वो फल अच्छा है या बुरा,वो तो उस मुखिया के किए गये कर्मों पर निर्भर करता है। यदि पूर्वज द्वारा अच्छे कार्य किए गये हैं तो निश्चित रूप से वह अपने परिवार को सम्पन्नता एवं प्रसन्नता दे पाएगा। यदि उसने अपने जीवन में अनैतिक कर्मों का ही आश्रय लिया है तो वह अपने परिवार को अपमान एवं दुख के अतिरिक्त ओर क्या दे सकता है ।

यहाँ गए सिद्ध पितृदोष निवारण यंत्र के नित्य दर्शन और दिए गए मन्त्र का नित्य 11 बार जाप करने से पितृ दोष में कमी होती है, पितृ संतुष्ट होते है जिसके फलस्वरूप जीवन में बाधाएं नहीं आती है और जातक को सभी कार्यों में उल्लेखनीय सफलताएँ प्राप्त होती है ।

Friends this site is absolutely free….if you are in any way being benefitted by the contents of this site or you have found the contents and what is being offered on this site as useful then as a token of your appreciation we request you to kindly visit this site as many times as possible and also ask your friends and relatives to do so and benefit from the remedies,tips and advise that is offered……..THANK YOU !!

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

What is Rahu Kaal

What Is Rahu KaalIn Indian Astrology, much importance is given to the time and its auspiciouscity in...

Tithianusaar shubh muhurat, तिथि अनुसार शुभ मुहूर्त,

Tithianusaar shubh muhurat, तिथि अनुसार शुभ मुहूर्त,हिन्दु धर्म शास्त्रों के अनुसार कुछ मुहूर्त (Muhurat )ऐसे होते हैं जो...

जन्म दिन से जाने अपना व्यक्तित्व

हर दिन का अपना अलग महत्व अपना एक अलग ही प्रभाव होता है । किसी भी जातक के पैदा होने के दिवस...

बुधवार का पंचांग, Budhwar Ka Panchang,

मंगलवार का पंचांगगुरुवार का पंचांगa{ font-weight:bold;बुधवार का पंचांग, Budhwar Ka Panchang,आप...
Translate »