Tuesday, October 19, 2021
Home Hindi मुहूर्त पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya nakshatra ke upay,

पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya nakshatra ke upay,

पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya nakshatra ke upay,

  • ज्योतिष शास्त्र में पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya nakshatra ke upay, बहुत ही महत्वपूर्ण माने गए है । धन सम्बन्धी प्रयोगों , माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने हेतु उनकी साधना करने के लिए, आर्थिक संकटो को दूर करने के लिए और अपनी समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करने के लिए पुष्य नक्षत्र (pushya nakshatra ) एक श्रेष्ठ दिन है ।
    मान्यता है कि धन सम्बन्धी किये गए पुष्य नक्षत्र के उपाय (pushya nakshatra ke upay ) शीघ्र ही फलीभूत होते है ।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि कुंडली के योग विरुद्ध हों, तो भी पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra में किया गया कार्य निश्चित ही सिद्ध हो जाता है ।

    अवश्य पढ़ें :- पूरे वर्ष निरोगी काया के लिए सर्दियों में सेवन करें ये आहार,
  • पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra अन्य सभी योगों के दोषों को समाप्त देता है। बहुत से ज्योतिष यह भी मानते है कि पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra के गुण किसी भी बुरे योगो द्वारा नष्ट ही नहीं हो सकते है ।

    जानिए पुष्य नक्षत्र, pushya nakshatra, पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya Nakshatra ke upay, रवि पुष्य योग, Ravi Pushy Yog, गुरु पुष्य योग, Guru Pushy Yog ।

  • पुष्य नक्षत्र के उपाय, Pushya nakshatra ke upay,

  • इस दिन किये गए पुष्य नक्षत्र के उपाय (pushya nakshatra ke upay ) से धन वैभव में वृद्धि होती है, कार्य क्षमता बढ़ती है जातक के प्रभाव में वृद्धि होती है।
  • पुष्य नक्षत्र के उपाय (pushya nakshatra ke upay ) में सबसे महत्वपूर्ण उपाय है की, पुष्य नक्षत्र के दिन “हत्था जोड़ी”(एक विशेष पेड़ की जड़ जो सभी पूजा की दुकान में मिलती है) को “चाँदी की डिबिया में सिंदूर डालकर” अपनी तिजोरी में स्थापित करें ।

    ऐसा करने से घर में धन की कमी नहीं रहती है । ध्यान रहे कि इसे नित्य धुप अगरबत्ती दिखाते रहे और हर पुष्य नक्षत्र (pushya nakshatra ) में इस पर सिंदूर चढ़ाते रहे ।
  • पुष्य नक्षत्र (pushya nakshatra ) में “शंख पुष्पी की जड़ को “चांदी की डिब्बी में भरकर उसे घर के धन स्थान / तिजोरी में रख देने से उस घर में धन की कभी कोई भी कमी नहीं रहती है ।
  • इस दिन भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी की भी पूजा करें। गुरु पुष्य नक्षत्र के दिन भगवान श्री विष्णु जी को पीले पुष्प और चने की दाल अर्पित करके विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। इस दिन माँ लक्ष्मी को केसर अर्पित करके माथे पर केसर का तिलक लगाएं।

    अगर 50 की जगह 25, 60 की जगह 30 की उम्र चाहते है, जीवन में डाक्टर के पास ना जाना हो तो अवश्य करे ये उपाय   
  • पुष्य नक्षत्र के उपाय (pushya nakshatra ke upay ) में बहुत ही अजमाया हुआ उपाय है की बरगद के पत्ते को भी पुष्य नक्षत्र में लाकर उस पर हल्दी से स्वस्तिक बनाकर उसे चांदी की डिब्बी में घर में रखें, यह बहुत ही शुभ माना जाता है ।
  • पुष्प नक्षत्र (pushya nakshatra ) के दिन दक्षिणावर्ती शंख में केसर मिला दूध भरकर भगवान विष्णु का अभिषेक करें। इससे धन लाभ मिलेगा। माता लक्ष्मी के साथ-साथ भगवान विष्णु की पूजा करने से भी मां की कृपा आप पर बनी रहती है ।
  • शास्त्रों के अनुसार माँ लक्ष्मी श्री सूक्त ( shri sukt ) के पाठ से अति प्रसन्न होती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जो जातक पुष्य नक्षत्र के दिन श्री सूक्त एवं श्री महालक्ष्मी अष्टकम का पाठ करते है करते है माँ लक्ष्मी की उस घर परिवार पर पीढ़ियों तक कृपा बनी रहती है।

    वह जातक इस जन्म में तो ऐश्वर्य का भोग करता ही है इस पुण्य के कारण अगले कई जन्मो तक भी उस धन की कोई भी कमी नहीं रहती है।
  • पुष्य नक्षत्र के योग में मां लक्ष्मी का विधि-विधान से पूजन करते हुए उन्हें गुलाब के फूल और पानी वाला नारियल अर्पित करके मां लक्ष्मी के चरणों में सात लक्ष्मीकारक कौड़ियां भी रखें।
    आधी रात के बाद इन कौड़ियों को घर के किसी कोने में चुपचाप गाड़ दें और माँ से अपने यहाँ स्थाई रूप से निवास करने की प्रार्थना करें । इस उपाय से धन लाभ होने के योग बनते हैं।

    अवश्य पढ़ें :- मधुमेह से है परेशानी तुरंत करें ये उपाय, मधुमेह से मिलेगा छुटकारा,
  • पुष्य नक्षत्र (pushya nakshatra ) के दिन पूजा घर में संध्या के समय माँ लक्ष्मी के सामने दीपक में लाल कलावे की बत्ती डालकर घी का दीपक जलाएं । इससे घर में लक्ष्मी का नियमित रूप से आगमन होने लगता है। इसके बाद नियम पूर्वक माँ के सामने रुई की जगह कलावे की बत्ती डालकर ही घी का दीपक जलाया करें ।
  • पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra के दिन गाय को घी से रोटी चुपड़कर उस पर गुड़ रखकर खिलाने से धन लाभ होता है, सुख- समृद्दि आती है।

    पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra के दिन मंदिर में दीपक अवश्य जलायें इससे कार्य में आने वाली अड़चने समाप्त होती है।
  • पुष्य नक्षत्र (pushya nakshatra ) के दिन माँ लक्ष्मी को लाल पुष्प अर्पित करें । इस दिन सांयकाल किसी भी लक्ष्मी मंदिर / मंदिर में माँ को सुगन्धित धूप अगरबत्ती, मिठाई चढ़ाने से माँ अपने भक्त से अति प्रसन्न होती है, सुख सौभाग्य आता है ।
    यह पुष्य नक्षत्र के उपाय (pushya nakshatra ke upay ) में बहुत ही सिद्ध उपाय है।
  • पुष्य नक्षत्र pushya nakshatra के दिन घर में सुख – समृद्धि, ऐश्वर्य और परिवार में प्रेम के लिए माँ लक्ष्मी को सबूतदाने की खीर अथवा हलुवे का भोग अवश्य ही लगाएं फिर घर के सभी लोग माँ के इस प्रशाद को प्रसन्नता पूर्वक ग्रहण करें।
    प्रत्येक पुष्य नक्षत्र को इस उपाय को करने से माँ लक्ष्मी उस घर से कभी भी नहीं जाती है।
  • पुष्य नक्षत्र के दिन लक्ष्मी की पूजा करते समय चांदी का सिक्का रखें। बाद में इस सिक्के को अपनी तिजोरी में रख दें। इससे आपकी तिजोरी हमेशा पैसों से भरी रहेगी । यह पुष्य नक्षत्र के टोटके (pushya nakshatra ke totke ) में बहुत ही प्रभावशाली है।
  • पुष्य नक्षत्र के टोटके (pushya nakshatra ke totke ) में इस उपाय की भी बहुत मान्यता है, गुरु पुष्य नक्षत्र के दिन स्फुटिक की माला से माँ लक्ष्मी के सामने घी का दीपक जलाकर यहाँ दिए गए मन्त्र का जाप करने से धन हानि बंद होती है, व्यापार – कारोबार में लाभ मिलने लगता है , बेरोजगारों को रोजगार की प्राप्ति होती ।

    अवश्य पढ़ें :- पथरी को हो समस्या, ऑपरेशन कराने की सोच रहे है तो, थोड़ा रुके, इस उपाय से पथरी की समस्या होगी जड़ से दूर,
  • आर्थिक संकटो का निवारण करने का मन्त्र :-
    “ऊं श्रीं ह्रीं दारिद्रय विनाशिन्ये धनधान्य समृद्धि देहि देहि नम:”।।


    माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने का मन्त्र :-
    “ऊंं श्री विघ्नहराय पारदेश्वरी महालक्ष्यै नम:”।।
  • जीवन में सभी सुख समृद्धि और ऐश्वर्य के लिए श्रीलक्ष्मी-नारायण जी को शहद का भोग लगाएं और उस चढ़ी हुई शहद को रोटी पर रखकर गाय को खिलाएं।
  • पारिवारिक कलह से मुक्ति, परिवार में प्रेम और सहयोग हेतु पूजा के बाद कर्पूर से पीली सरसों जलाकर लक्ष्मी-नारायण की आरती करें।
  • घर में स्थाई धन-धान्य की संपन्नता हेतु श्री लक्ष्मी नारायण जी पर हल्दी चढ़ाकर उस चढ़ी हल्दी पर थोड़ा पानी मिलाकर उससे अपनी तिजोरी पर “श्रीँ” लिखें।

डा० उमाशंकर मिश्र ( आचार्य जी )
ज्योतिष, रत्न, यन्त्र एवं वास्तु विशेषज्ञ

Published By : Memory Mu8seum
Updated On : 2021-08-04 6:15:00 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन न केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

1 COMMENT

  1. जय हो आचार्य प्रवर ,बहुत अदभुत ज्ञान आप समाज को दे रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Tips For Relief From All Diseases,

Tips For Relief From All Diseases,It has been observed that whenever there is a unwell patient in the...

Remedies For Success in Bussiness According to Zodiac Sign

Remedies For Success in Bussiness According to Zodiac SignFriends ..do you have the feeling that you are not...

होली के अचूक उपाय, holi ke achuk upay,

होली के अचूक उपाय, holi ke achuk upay,ज्योतिष शास्त्र में शिवरात्रि, होली, दीपावली, जन्माष्टमी आदि का बहुत महत्व...

बसंत पंचमी का महत्व | बसंत पंचमी कैसे मनाएं

माघ शुक्लपक्ष पंचमी के दिन वसंत पंचमी Basant Panchmi बड़े ही हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाया जाता है । हिन्दू धर्म...
Translate »