Wednesday, December 2, 2020
Home Hindi पूर्णिमा के उपाय सूर्य ग्रहण 2020 | सूर्य ग्रहण का महत्व, Surya Grahan Ka Mahatwa

सूर्य ग्रहण 2020 | सूर्य ग्रहण का महत्व, Surya Grahan Ka Mahatwa

सूर्य ग्रहण का महत्व
Surya Grahan Ka Mahatwa

सूर्य ग्रहण ( Surya grahan ) एक बहुत ही प्रमुख खगोलीय घटना, प्रकृ्ति का एक अद्भुत चमत्कार है। ग्रहण ( grahan ) दो तरह के होते है सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण इनमें सूर्य ग्रहण का महत्त्व ( sury grahan ka mahtv)अधिक माना गया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण ( Surya grahan ) तब होता है, जब सूर्य आंशिक अथवा पूर्ण रूप से चन्द्रमा द्वारा बाधित हो जाए। अर्थात जब चन्दमा पृथ्वी और सूर्य के बीच यानि घूमते-घूमते चन्द्रमा, सूरज व पृथ्वी तीनो एक ही सीध में होते हैं और इस कारण चन्द्रमा की छाया पृथ्वी पर पड़ती है इसे सूर्यग्रहण कहा जाता हैं। सूर्यग्रहण अमावस्या के दिन में ही होता है।

वैदिक काल से ही हमारे ऋषि मुनियों को खगोलीय संरचना सूर्य ग्रहण, चन्द्र ग्रहण तथा उनकी पुनरावृत्ति का ज्ञान था । ऋग्वेद के अनुसार अत्रिमुनि के परिवार के पास यह ज्ञान उपलब्ध था। महर्षि अत्रिमुनि ग्रहण के ज्ञान को देने वाले प्रथम आचार्य थे।

वेदांग ज्योतिष से हमारे वैदिक पूर्वजों के इस महान ज्ञान का पता चलता है। प्राचीन काल से ही ग्रह नक्षत्रों की दुनिया की इस घटना का ज्ञान भारतीय मनीषियों के पास था उन्होंने सफलतापूर्वक इसकी गणना करनी शुरू कर दी थी। ग्रहण पर धार्मिक, वैदिक, वैचारिक, वैज्ञानिक विवेचन प्राचीन ज्योतिषीय ग्रन्थों से ही होता चला आया है।

पुराणों की मान्यता के अनुसार राहु चंद्रमा को डसता है तो चंद्र ग्रहण एवं केतु सूर्य को ग्रसता है तो सूर्य ग्रहण होता है ।
ये दोनों ही छाया की संतान हैं जो चंद्रमा और सूर्य की छाया के साथ-साथ चलते हैं। चंद्र ग्रहण के समय कफ की प्रधानता बढ़ती है और मन की शक्ति क्षीण होती है, जबकि सूर्य ग्रहण के समय जठराग्नि, नेत्र तथा पित्त की शक्ति कमज़ोर पड़ती है।

ग्रहण के सम्बन्ध में एक बात और विशेष है कि चन्द्रग्रहण तो अपने संपूर्ण तत्कालीन प्रकाश क्षेत्र में अर्थात जहाँ जहाँ चंद्रमा निकला हो देखा जा सकता है किन्तु सूर्यग्रहण अधिकतम 10 हज़ार किलोमीटर लम्बे और 250 किलोमीटर चौड़े क्षेत्र में ही दिखाई पड़ता है। सम्पूर्ण सूर्यग्रहण की वास्तविक अवधि अधिक से अधिक 11 मिनट ही हो सकती है उससे अधिक नहीं।

खगोल शास्त्रीयों के अनुसार 18 वर्ष 18 दिन की समयावधि में 41 सूर्य ग्रहण ( Surya Grahan ) और 29 चन्द्रग्रहण होते हैं। एक वर्ष में 4 से अधिक ग्रहण बहुत कम ही देखने को मिलते हैं।

एक दिलचस्प बात और है कि चन्द्र ग्रहण ( Chandra Grahan ) से कहीं अधिक सूर्यग्रहण ( surya grahan ) होते हैं। 3 चन्द्रग्रहण पर 4 सूर्यग्रहण का अनुपात आता है। लेकिन वर्ष 2020 में ग्रहण कुल 6 लगने है । जिसमें 4 चंद्र ग्रहण और 2 सूर्य ग्रहण होंगे । अर्थात इस वर्ष ग्रहण भी सामन्यता और वर्ष की अपेक्षा ज्यादा होंगे । आइये जानते है वर्ष 2020 में कितने ग्रहण है, 2020 के सूर्य ग्रहण, 2020 के सूर्य ग्रहण,

पहला ग्रहण, चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) :- वर्ष 2020 का पहला ग्रहण चंद्रग्रहण था जो 10 जनवरी को लगा था, इसे भारत में देखा गया है ।

दूसरा ग्रहण, चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) :- वर्ष 2020 का दूसरा ग्रहण भी चंद्र ग्रहण ही था जो 5 जून को लगा था, इस चंद्रग्रहण को भी पूरे भारत में देखा गया ।

तीसरा ग्रहण, सूर्यग्रहण ( surya grahan ) :- वर्ष 2020 का तीसरा ग्रहण सूर्य ग्रहण है जो 21 जून को लगेगा, यह सूर्य ग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा।

चौथा ग्रहण, चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) :- वर्ष 2020 का चौथा ग्रहण चंद्र ग्रहण है जो 5 जुलाई को लगेगा । यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा क्योंकि इस चंद्रग्रहण के समय भारत में सूर्योदय हो चुका होगा।

पाँचवा ग्रहण, चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) :- वर्ष 2020 का पाँचवा ग्रहण चंद्र ग्रहण है जो 30 नवम्बर को लगेगा, यह ग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा।

छठा ग्रहण, सूर्यग्रहण ( surya grahan ) :- वर्ष 2020 का छठा ग्रहण सूर्य ग्रहण है जो 14 दिसंबर को लगेगा, यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा ।

इस तरह वर्ष 2020 में पड़ने वाले 6 ग्रहणों में 4 भारत में नज़र आएंगे ।

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पीलिया | पीलिया के घरेलु उपाय एवं उपचार

पीलिया ( piliya ) अर्थात जॉन्डिस ( jaundice ) एक खतरनाक रोग है इसमें लापरवाही नहीं करनी चाहिए । सामन्यता: पीलिया (...

भैरव नाथ को कैसे प्रसन्न करें

मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालभैरव अष्टमी पर्व आता है। मान्यता है कि इसी दिन मध्याह्न के समय...

देव दीपावली क्यों मनाई जाती है, dev dipawali kyon manai jati hai,

देव दीपावली क्यों मनाई जाती है, dev dipawali kyon manai jati hai,देवताओं का प्रिय पर्व अति शुभ...

अमावस्या के अचूक उपाय

अमावस्या के अचूक उपायज्योतिष शास्त्र / तन्त्र शास्त्र...
Translate »