Sunday, November 29, 2020
Home Hindi पूर्णिमा के उपाय अमावस्या के चमत्कारी उपाय

अमावस्या के चमत्कारी उपाय

kalash

अमावस्या अमावस्
amavasya /amavas

अमावस्या ( amavasya ) हिन्दु पंचांग के अनुसार माह की 30 वीं और कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि होती है उस दिन आकाश में चंद्रमा दिखाई नहीं देता, रात्रि में सर्वत्र गहन अन्धकार छाया रहता है । इस दिन का ज्योतिष एवं तंत्र शास्त्र में अत्यधिक महत्व हैं।


तंत्र शास्त्र के अनुसार अमावस्या ( amavasya ) के दिन किये गए उपाय बहुत ही प्रभावशाली होते है और इसका फल भी अति शीघ्र प्राप्त होता है। पितृ दोष हो या किसी भी ग्रह की अशुभता को दूर करना हो, अमावस ( amavas ) के दिन सभी के लिए उपाय बताये गए है । आपकी आर्थिक, पारिवारिक और मानसिक सभी तरह की परेशानियाँ इस दिन थोड़े से प्रयास से ही दूर हो सकती है।

kalash

अमावस्या के चमत्कारी उपाय
amavasya ke chamatkari upay

kalash

हर अमावस्या ( amavasya ) को घर के कोने कोने को अच्छी तरह से साफ करें, सभी प्रकार का कबाड़ निकाल कर बेच दें। इस दिन सुबह शाम घर के मंदिर और तुलसी पर दिया अवश्य ही जलाएं इससे घर से कलह और दरिद्रता दूर रहती है ।

kalash

अमावस्या ( amavasya ) पर तुलसी के पत्ते या बिल्व पत्र बिलकुल भी नहीं तोडऩा चाहिए। अमावस्या पर देवी-देवताओं को तुलसी के पत्ते और शिवलिंग पर बिल्व पत्र चढ़ाने के लिए उन्हें एक दिन पहले ही तोड़कर रख लें। 

kalash

हर अमावस्या ( amavasya ) को गहरे गड्ढे या कुएं में एक चम्मच दूध डालें इससे कार्यों में बाधाओं का निवारण होता है ।

kalash

इसके अतिरिक्त अमावस्या को आजीवन जौ दूध में धोकर बहते हुए पानी में बहाएं,  आपका भाग्य सदैव आपका साथ देगा । 
अमावस्या के दिन शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर कच्चा दूध, शहद एवं जल में काले तिल मिलाकर उसे चढ़ाएं। इससे रोग दूर रहते है, आकर्षक व्यक्तित्व प्राप्त होता है।

kalash

अमावस्या पर भगवान शिव को चावलो की खीर अथवा शिवलिंग पर अक्षत भी अवश्य ही चढ़ाएं । इसे भगवान महादेव की कृपा से परिवार में प्रेम और सयोग का वातावरण बनता है ।

kalash

धन लाभ के लिए अमावस्या ( amavasya ) के दिन पीली  त्रिकोण आकृति की पताका विष्णु मन्दिर में ऊँचाई वाले स्थान पर इस प्रकार लगाएँ कि वह लगातार लहराती रहे, तो आपका भाग्य शीघ्र ही चमक उठेगा। लगातार स्थाई लाभ हेतु यह  ध्यान रहे की झंडा वहाँ लगा रहना चाहिए। उसे आप समय समय पर स्वयं बदल भी सकते है।

kalash

अमावस्या के दिन शनि देव पर कड़वा तेल, काले उड़द, काले तिल, लोहा, काला कपड़ा और नीला पुष्प चढ़ाकर शनि का पौराणिक मंत्र “ऊँ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम। छायामार्तण्डसंभुतं नमामि शनैश्चरम।” की एक माला का जाप करने से शनि का प्रकोप शांत होता है , एवं अन्य ग्रहों के अशुभ प्रभावों से भी छुटकारा मिलता है ।

kalash

हर अमावस्या को पीपल के पेड़ के नीचे कड़वे तेल का दिया जलाने से भी पितृ और देवता प्रसन्न होते हैं। 

Published By : Memory Museum
Updated On : 2019-03-31 03:28:55 PM

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कैंसर में क्या खायें क्या नहीं | कैंसर के उपचार | Cancer

कैंसर में क्या खाना चाहिएCancer Me kya Khana Chahiyeलाल, नीले, पीले और जामुनी रंग की फल-सब्जियां जैसे टमाटर,...

navratri kab se hai, नवरात्री कब से है,

नवरात्री कब से है,  navratri kab se hai,नवरात्र Navratr से नौ विशेष रात्रियां...

Rakshabandhan ka itihas, रक्षाबंधन का इतिहास,

रक्षाबंधन 2020, Rakshabandhan 2020,रक्षाबंधन ( Raksha Bandhan ) या राखी हिन्दुओं का एक प्रमुख पर्व है जो...
Translate »