Sunday, October 2, 2022
Home Hindi पर्व त्योहार hanuman ji ki patni, हनुमान जी की पत्नी,

hanuman ji ki patni, हनुमान जी की पत्नी,

hanuman ji ki patni, हनुमान जी की पत्नी,

संकट मोचन हनुमान जी के ब्रह्मचारी रूप से तो सभी परिचित हैं। उन्हें बाल ब्रह्मचारी भी कहा जाता है। रामभक्त हनुमान के बहुत सारे मंदिर हैं।  हर मंदिर में हनुमान जी अकेले ही विराजमान हैं क्योंकि उन्हें अविवाहित और ब्रह्मचारी माना गया हैं। 

लेकिन क्या आपको मालूम है की हनुमान जी का विवाह भी हुआ था? और उनका उनकी पत्नी के साथ एक मंदिर भी है? जी हाँ दक्षिण भारत में एक ऐसा मंदिर है, जहां हनुमान जी को उनकी पत्नी के साथ पूजा जाता है। 

दक्षिण भारत में तेलंगाना राज्य में हैदराबाद से लगभग 220 कि.मी. की दूरी पर खम्मम जिले में एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में हनुमान जी अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ पूजे जाते हैं।

मान्यता है कि जो भी भक्त हनुमान जी और उनकी पत्नी सुवर्चलाके दर्शन करता है, उनके वैवाहिक जीवन की सारी परेशानियां निश्चय ही दूर हो जाती है और पति-पत्नी के मध्य सदैव प्रेम बना रहता है, दाम्पत्य जीवन लम्बा और सुखमय होता है । 

जानिए, हनुमान जी की पत्नी कौन थी, hanuman ji ki patni kaun thi, हनुमान जी का विवाह किनके साथ हुआ था, hanuman ji ka vivah kinke sath hua tha, हनुमान जी की पत्नी, hanuman ji ki patni, हनुमान जी की पत्नी सुवर्चला, hanuman ji ki patni suvarchala,  suvarchala, सुवर्चला,  suvarchala wife of lord hanuman, बजरंग बलि की पत्नी, Bajrang Bali ki Patni, हनुमान जी और उनकी पत्नी का मंदिर, Hanuman ji aur unki patni ka mandir, हनुमान जी का विवाह, hanuman ji ka vivah,

हनुमान जन्मोत्सव के दिन जानिए बजरंग बलि के परिवार के बारे में, अवश्य जानिए हनुमान जी के माता पिता और उनके भाइयों के बारे में

hanuman ji ki patni, हनुमान जी की पत्नी,

अवश्य पढ़ें :- जानिए कैसा हो खिड़कियों का वास्तु , जिससे जिससे वहाँ के निवासियों को मिले श्रेष्ठ लाभ

इस मंद‍िर की मान्यता का आधार भारत के प्राचीन ग्रंथ पाराशर संहिता को माना जाता है। पाराशर संहिता के अनुसार भगवान सूर्यदेव के पास 9 विद्याएं थीं। जिनका सम्पूर्ण ज्ञान हनुमान जी पाना चाहते थे।

भगवान सूर्यदेव ने हनुमान जी की प्रतिभा को देखते हुए उन्हें  5 विद्याओं का ज्ञान दे दिया लेकिन वह 4 और भी गूढ़ विद्याओं का ज्ञान हनुमान जी को नहीं दे पा रहे थे क्योंकि उन 4 बची हुई विद्याओं का ज्ञान केवल वह केवल उन्हीं शिष्टों को दे सकते थे  जो वैवाहिक हों । लेकिन हनुमान जी तो ब्रह्मचारी थे। 

 लेकिन हनुमान जी अपनी धुन के पक्के थे और सभी विद्याओंको सीखने का निश्चय कर चुके थे। उनकी इसी लगन को देखकर सूर्य भगवान ने हनुमान जी के सामने विवाह करने की बात कही। हनुमान जी ठहरे बाल ब्रह्मचारी और वह अपना ब्रह्मचर्य खोना भी नहीं चाहते थे इसलिए उन्होंने सूर्यदेव से विवाह के लिए मना कर दिया। लेकिन फिर सूर्यदेव के समझाने पर हनुमान जी ने चार शेष विद्याओं को पाने के लिए विवाह के लिए हां कर दी। 

दरअसल सूर्यदेव ने हनुमान जी को अपनी पुत्री सुवर्चला से विवाह का प्रस्ताव दिया । उन्होंने बताया कि उनकी पुत्री सुवर्चला एक महान तपस्वनी है और इसका तेज आप ही सहन कर सकते हो। सुवर्चला से विवाह के बाद आप इस योग्य हो जाओगे कि शेष 4 दिव्य विद्याओं का ज्ञान प्राप्त कर सको।  

सूर्यदेव ने हनुमान जी को बताया कि सुवर्चला के साथ विवाह के बाद भी आप ब्रह्मचारी रहोगे क्योंकि विवाह के बाद सुवर्चला फिर से अपनी तपस्या में लीन हो जाएगी। यह बताने के बाद हनुमान जी ने सूर्यदेव की पुत्री सुर्वचला से विवाह कर लिया और शेष चारों विद्याओं का ज्ञान प्राप्त कर लिया।

हनुमान जयंती के दिन बजरंग बलि जी को इस तरह से चढ़ाएं चोला, सभी मनोकामनाएं होगी पूरी,

हनुमान जी से विवाह के तुरंत बाद सुवर्चला फिर से अपनी तपस्या में लीन हो गई और इस प्रकार हनुमान जी विवाह के बाद भी ब्रह्मचारी बने रहे। 

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Astro Remedies for Health and Disease

Remedies For Health And Disease21. Mix a few drops of ‘Gangajal’ in the drinking water of the...

अमावस्या पर पाएं पितरों की पूर्ण कृपा

अमावस्या पर पाएं पितरों की पूर्ण कृपा, amawasya par pitro ke purn kripa,

शनि की साढेसाती के चरण

शनि की साढेसाती के चरणShani ki Sade Sati ke Charan साढ़ेसाती का पहले चरण...

रक्षाबंधन का इतिहास, Rakshabandhan ka itihas, रक्षाबंधन 2022,

Rakshabandhan ka itihas, रक्षाबंधन का इतिहास,रक्षाबंधन 2022, Rakshabandhan 2022,रक्षाबंधन का इतिहास, Rakshabandhan ka...
Translate »