Saturday, May 28, 2022
Home Hindi राशिनुसार उपाय राशिनुसार वृक्षों की सेवा

राशिनुसार वृक्षों की सेवा

हर व्यक्ति चाहता है कि उसे जीवन में हर सुख मिले, उसकी कार्यों की सर्वत्र सराहना हो उसे हर क्षेत्र में सफलता मिले, इसके लिए वह हर जतन भी करता है । लेकिन क्या आप जानते है कि वृक्ष भी आपके मित्र आपके मददगार हो सकते है।
जी हाँ यह बिलकुल सत्य है । हिन्दु धर्म शास्त्रों के अनुसार वृक्षों में शक्तियाँ विधमान होती है जो उनकी पूजा / सेवा करने वालो की मदद भी करती है ।

शास्त्रों के अनुसार हर व्यक्ति को जीवन में वृक्ष अवश्य ही लगाने चाहिए । वृक्षों को लगाने एवं उनकी सेवा करने से उन वृक्षों में रहने वाली शुभ शक्तियाँ हमारी मित्र हमारी मददगार बन जाती है ।
ज्योतिष के अनुसार सभी राशियों के लिए अलग-अलग वृक्ष बताए गए हैं। इन वृक्षों की विधि-विधान से पूजा करने पर कुंडली में स्थित सभी नौ ग्रहों के दोष सहज ही दूर होते हैं। यदि कोई व्यक्ति इनकी विधिवत पूजा नहीं कर पाता हो तो वह प्रतिदिन केवल एक लोटा जल अपनी राशि से संबंधित वृक्ष में चढ़ाएं। ऐसा करने पर भी जातक को सकारात्मक फल प्राप्त होते है।
इन वृक्षों / पौधों की सेवा करने के शुभ प्रभाव से व्यक्ति सदैव निरोगी, सुखी और समृद्धिशाली रहता है।ध्यान रहे कि जल चढ़ाने के लिए तांबे के लोटे का इस्तेमाल करना चाहिए।

अपनी राशि अनुसार यहाँ पर बताये गए वृक्षों / पौधों को नित्य प्रात: एक लोटा जल अर्पित करें :-

vraksh

1.मेष एवं वृश्चिक राशि :- मेष एवं वृश्चिक राशि के जातक अपनी राशि के स्वामी मंगल ग्रह के लिए ‘खैर’ के वृक्ष पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें मंगलवार के दिन लाल कपडे में खैर की जड़ या चन्दन की लकड़ी को लाकर अपनी तिजोरी में रखे ।

vraksh

2.वृषभ एवं तुला राशि :- वृषभ एवं तुला राशि के जातक अपनी राशि के स्वामी शुक्र ग्रह के लिए ‘गूलर’ के वृक्ष पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें ।
इस राशि के जातक शुक्रवार के दिन गूलर के पेड़ की जड़ या पलाश के फूलो को सफ़ेद कपडे में लपेटकर अपने घर/करोबार की तिजोरी में रखे ।

यह भी देखें :- प्रेम में सफलता के उपाय, मनचाहा प्यार पाने के उपाय,

vraksh

3.मिथुन एवं कन्या राशि :-मिथुन एवं कन्या राशि के जातक अपनी राशि के स्वामी बुध ग्रह के लिए ‘अपामार्ग’ के वृक्ष पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें ।
इस राशि के जातक बुधवार के दिन अपामार्ग के पेड़ की जड़ या लकड़ी को अपनी तिजोरी में रखे ।

vraksh

4.कर्क राशि : -कर्क राशि के जातक ‘पलाश’ के वृक्ष पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें एवं पलाश के फूलो को अपनी तिजोरी में रखे । धन का आभाव नहीं रहेगा ।

vraksh

5.सिंह राशि :-सिंह राशि के जातक ‘आंकड़े के पौधे’ पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें ।
इस राशि के जातक रविवार को आंकड़े के फूलो को अपनी तिजोरी में रखे, भाग्य साथ देने लगेगा ।

vraksh

6.धनु एवं मीन राशि :-धनु एवं मीन राशि के जातक ‘पीपल’के वृक्ष पर नित्य (रविवार को छोड़ कर ) एक लोटा जल अर्पित करें ।
इस राशि के जातक गुरुवार के दिन पीपल या पीले चन्दन की लकड़ी को अपने धन स्थान में रखे धन का कभी भी अभाव नहीं रहेगा ।

vraksh

यह भी देखें :- जानिए रात्रि में किस समय के देखे सपने अवश्य सच होते है, स्वप्नों की अनोखी दुनिया

7.मकर एवं कुंभ राशि :-मकर एवं कुंभ राशि के जातक अपनी राशि के स्वामी शनि ग्रह के लिए ‘शमी’ के वृक्ष पर नित्य एक लोटा जल अर्पित करें ।
इस राशि के जातक काले कपडे में शमी के पेड़ की जड़ को अपनी तिजोरी में रखे, कार्यो से अवरोध दूर होने लगेंगे ।

इन्हीं पेड़ों की लकड़ियों से संबंधित राशियों के ग्रहों की शांति हेतु हवन भी करना श्रेष्ठ होता है । हमारे पूर्वजो ने पेड़ों की रक्षा के लिए पेड़ों में जल चढ़ाने की परंपरा बनाई थी ताकि धर्म के कारण लोग पेड़ों पर जल अर्पित करके उनकी सेवा और रक्षा करते रहे।
इन पेड़ों की पूजा, इन्हे जल अर्पित करने से हमारी कई समस्याएं तो दूर होती ही हैं यह हरियाली के लिए भी फायदेमंद है। अत: हर मनुष्य को अपनी राशिनुसार वृक्षों की सेवा अवश्य ही करनी चाहिए ।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं …..धन्यवाद ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गठिया की दवा, gathiya ke dawa,

गठिया की दवा, gathiya ke dawa,गठिया अत्यंत कष्टकारी बीमारी है। इसे आमवात भी कहा जाता है। गठिया...

देव दीपावली क्यों मनाई जाती है, dev dipawali kyon manai jati hai, dev dipawali 2021,

देव दीपावली क्यों मनाई जाती है, dev dipawali kyon manai jati hai, देव दीपावली 2021,देवताओं का प्रिय...

रत्नो का मेल

रत्नो का आपसी सम्बन्धरत्न हम मनुष्यों को आदि काल से ही अपनी तरफ आकर्षित करते रहे है...

Feng Shui Tips

Feng ShuiFeng Shui is the Chinese version of the Indian Vastu Shastra.Feng Shui is the representation of the...
Translate »