Sunday, November 29, 2020
Home diwali, dipawali Dhanteras ke prayog, धनतेरस के प्रयोग,

Dhanteras ke prayog, धनतेरस के प्रयोग,

Dhanteras ke prayog, धनतेरस के प्रयोग,

“धनतेरस Dhanteras धन के देव कुबेर, आयुर्वेद के देव धनवंतरि की कृपा प्राप्त करने हेतु मनाते है”, धनतेरस के प्रयोग, dhanteras ke prayog, निश्चय ही बहुत सिद्ध माने जाते है ।
धनतेरस के दिन से ही घर में दीपमाला से सजावट शुरू हो जाती है । मान्यता है कि इस दिन कुछ आसान से धनतेरस के प्रयोग, dhanteras ke prayog, बिना टोके अर्थात बिलकुल चुपचाप धनतेरस के टोटके माँ लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर देव की कृपा प्राप्त करने में बहुत ही सहायक सिद्ध होते है। चुपचाप किये गए इन धनतेरस के प्रयोग अत्यंत प्रभावी एवं श्रेष्ठ सफलता दिलाने वाले होते है जानिए धनतेरस, Dhanteras, धनतेरस के प्रयोग, dhanteras ke prayog, धनतेरस के टोटके, Dhanteras ke totke,

धनतेरस के टोटके, Dhanteras ke totke,

इस दिन किसी की आलोचना, झगड़े व वाद – विवाद की बात बिलकुल भी न करें न करें। अगर संभव हो तो पुरानी रंजिश या मन मुटाव को भुलाकर शत्रु को भी मित्र बनाने कि पहल करें इससे देवता प्रसन्न होते है और घर परिवार में शुभता आती है।

धनतेरस Dhanteras के दिन अपने दायें हाथ के लिए एक चाँदी का कड़ा बनवाये , इस कड़े को दीवाली diwali वाले दिन माँ लक्ष्मी का पूजन करते समय माँ के चरणों से लगा कर वहीँ पूजा में रख दें और उस पर भी तिलक लगा दें । अगले दिन सुबह स्नान करने के बाद माँ लक्ष्मी का ध्यान पूजा करने के बाद उसे दाहिने हाथ में धारण कर लें . आप अति शीघ्र अपने अन्दर ज्यादा आत्मविश्वास का अनुभव करेंगे , आपकी आर्थिक स्थिति भी और भी ज्यादा मजबूत होने लगेगी ।

यदि आपको आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है तो आप धनतेरस Dhanteras से दीपावली इन दिन संध्या में लगातार श्री गणेश स्त्रोत्र का पाठ करें , उसके उपरांत गाय को कोई भी हरी सब्जी या चारा डालें , जल्दी ही आपकी आर्थिक बाधाएं हल होने लगेंगी ।

धनतेरस Dhanteras के दिन अपने, अपने परिवार के खरीददारी अवश्य ही करें लेकिन इस दिन किसी भी बाहरी व्यक्ति के लिए भी उपहार ना खरीदें । अगर आप को किसी को कोई भी उपहार देना है तो उसे आप पहले ही खरीद लें उस दिन ना खरीदें ।

जीवन में हर प्रकार से उन्नति करने के लिए धनतेरस के दिन व्यक्ति को चाँदी में निर्मित एवं प्राण प्रतिष्ठित नवरत्न लाकेट खरीदकर इसे घर में लाकर मंदिर में रख देना चाहिए । फिर इसे दीपावली के दिन माँ लक्ष्मी कि पूजा के बाद धारण करना चाहिए ।
इससे जातक को माँ लक्ष्मी और भगवान गणेश कि कृपा से सभी दिशाओं से सुख समृद्धि और सफलता कि प्राप्ति होती है। यह लाकेट आप धनतेरस से दीवाली किसी भी दिन खरीद सकते है।

भाग्य चमकाने के लिए धनतेरस के दिन चांदी की दो ठोस गोलियां बनवाएं और उसे पूजा घर में रख दें फिर दीपावली के दिन पूजा के समय उन चाँदी की गोलियों की भी पूजा करके उन्हें सदैव अपने पास रखें। इस उपाय से भाग्य प्रबल होता है,कार्यो में श्रेष्ठ सफलता मिलती है।

धनतेरस के दिन सांयकाल लक्ष्मी पूजन के बाद दक्षिणवर्ती शंख में चावल के दाने और गुलाब की पंखुड़ियाँ डाल दें इससे धन लाभ होता है।

धनतेरस Dhanteras वाले दिन से दीपावली के पाँचों दिनों में लक्ष्मी पूजा में माँ लक्ष्मी को लौंग का जोड़ा अवश्य ही अर्पित करें , इससे कभी भी धन की कमी नहीं होती है।

धनतेरस वाले दिन सफ़ेद वस्तुओं जैसे चीनी, चावल, आटा, घी और सफ़ेद वस्त्र जो भी संभव हो उसका दान अवश्य ही करें इससे माँ लक्ष्मी अत्यंत प्रसन्न होती है, कार्यों की बाधाएं दूर होती है, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है ।

धनतेरस या दिवाली के दिन कोई भी किन्नर दिखे तो उसे कुछ ना कुछ दान अवश्य ही करें और उससे अनुरोध करके एक रुपया ले ले । इस सिक्के को अपने पर्स में या तिजोरी में रखे इससे लाभ लाभ के योग बनते है।

दीपावली Dipavali, के 5 दिनों में यदि कोई भी जमादार या गरीब असहाय , मांगने वाला आपके घर में आ जाय तो उसे खाली ना भेजे उसे कुछ ना कुछ अवश्य ही दान में दें। इससे माँ लक्ष्मी और कुल देवता का आशीर्वाद मिलता है, उस जातक को जीवन में धन की कोई भी कमी नहीं रहती है, कार्यों में श्रेष्ठ सफलता मिलती है ।

आने वाले साल में आपकी आर्थिक स्थिति कैसी रहेगी यह एक आसान से उपाय से जाना जा सकता है। धनिया माँ लक्ष्मी को बहुत प्रिय है मान्यता है कि जिस घर में साबुत धनिया होता है वहाँ पर माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।
धनतेरस Dhanteras के दिन 5 रुपए या 50 ग्राम साबुत धनिया खरीदकर इसे पूजा घर में रखें, दीपावली Dipavali की रात माँ लक्ष्मी के सामने उस साबुत धनिया की पूजा करें फिर दीवाली Diwali के अगले दिन गोवर्धन पूजा पर उस साबुत धनिया को अपने घर के गमले में या लान में बिखेर दें और उससे जो पौधा निकले उसकी सेवा करें।
ऐसी मान्यता है कि यदि उस साबुत धनिया से हरा भरा पौधा निकलता है तो घर में धन-समृद्धि आती है। अगर धनिया का पौधा सामान्य, पतला निकलता है तो आय सामान्य रहेगी और यदि पौधा नहीं निकलता है या पीला कमजोर निकलता है तो आर्थिक कठनाइयों सामने आती है।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मधुमेह, मधुमेह के कारण, Madhumeh ke karan,

मधुमेह, मधुमेह के कारण, Madhumeh ke karan,आज भारत की बहुत बड़ी आबादी मधुमेह, madhumeh, या शुगर, sugar,...

श्री यन्त्र | श्री मंत्र |Shri Yantra | Shri Mantra

श्री मंत्रॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः ।।ॐ...

Dhan sampati ke upay, धन संपत्ति के उपाय,

238 SharesDhan sampati ke upay, धन संपत्ति के...

Sarva Karya Siddi Yantra

All-Round Success in lifeSarva karya Siddhi Mantra
Translate »