Sunday, November 29, 2020
Home diwali, dipawali diwali ka muhurat, दिवाली का मुहूर्त,  

diwali ka muhurat, दिवाली का मुहूर्त,  

diwali ka muhurat, दिवाली का मुहूर्त,  

हिंदू धर्म में दिवाली के पर्व का बहुत ही अधिक महत्व है। दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा में दिवाली का मुहूर्त, diwali ka muhurat, बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। दिवाली का पावन पर्व वर्ष 2020 में 14 नवंबर दिन शनिवार को मनाया जाएगा।
शास्त्रों के अनुसार, कार्तिक माह की अमावस्या के दिन ही भगवान श्री राम लंकापति रावण का वध कर के पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण जी के साथ अपने नगर अयोध्या वापस आए थे। उनके वापस आने पर अयोध्या के निवासियों ने दीप प्रज्ज्वलित करके उनका प्रसन्नता से शानदार स्वागत किया गया था। इसी खुशी में प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह की अमावस्या के दिन दिवाली का पर्व मनाया जाता है। दीपावली के दिन देवी लक्ष्मी जी के साथ गणेश जी और कुबेर देव की भी पूजा की जाती है।
दिवाली के दिन शुभ मुहूर्त में माँ लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए, इससे पूरे वर्ष सुख – समृद्धि बनी रहती है धन का आगमन सरलता से होता रहता है। इस वर्ष दिवाली का पर्व स्वाति नक्षत्र, सर्वार्थ सिद्धि योग में मनाया जायेगा। ऐसा शुभ संयोग 17 साल बाद आया है इसके पहले ऐसा शुभ मुहूर्त वर्ष  2003 में बना था।

वर्ष 2020 में अमावस्या तिथि 14 नवंबर शनिवार को दोपहर 2:18 बजे से अगले दिन 15 नवंबर रविवार को सुबह 10: 36 मिनट तक रहेगी, चूँकि दीपावली अमावस्या की रात्रि में मनाई जाती है इसलिए इस वर्ष दीपावली 14 नवम्बर शनिवार को मनाई जाएगी, छोटी दीपावली जिसे नरक चतुर्दशी भी कहते है इसी दिन 14 नवम्बर को ही मनाई जाएगी।

जानिए दिवाली का मुहूर्त, diwali ka muhurat, दीपावली का मुहूर्त, dipawali ka muhurat, दिवाली का शुभ मुहूर्त, diwali ka shubh muhurat, दीपावली का शुभ मुहूर्त, dipawali ka shubh muhurat, दिवाली पर लक्ष्मी पूजा, diwali par lakshmi puja,

वर्ष 2020 में, दिवाली का मुहूर्त, diwali ka muhurat,

2020 में दिवाली पर लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त-

वर्ष 2020 में शनिवार 14 नवंबर को दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त सांय  5 बजकर 30 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर 25 मिनट तक का है।

प्रदोष काल मुहूर्त सांय 5 बजकर 27 मिनट से लेकर रात 8 बजकर 6 मिनट तक रहेगा।

वहीँ वृषभ काल का मुहूर्त सांय  5 बजकर 30 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर 25 मिनट तक है।

दिवाली का मुहूर्त, diwali ka muhurat, चौघड़िया के अनुसार

14 नवंबर की दोपहर 01 :30 से दोपहर  03 :00 तक लाभ की चौघड़िया ।

14 नवंबर की दोपहर को 03 :00  से शाम 04:30 तक अमृत की चौघड़िया।

14 नवंबर की सांय  06:00 से  रात 07:30 तक लाभ की चौघड़िया ।

14 नवम्बर को रात्रि 09:00 बजे से लेकर देर रात्रि 01:30 तक शुभ, अमृत और चर की चौघड़िया में भी लक्ष्मी पूजन करना उत्तम रहेगा ।

वर्ष 2020 में दिवाली पर लक्ष्मी पूजन का सर्वश्रेष्ठ  मुहूर्त, दिवाली का शुभ मुहूर्त, diwali ka shubh muhurat, 

सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त: शनिवार 14 नवंबर को सांय 5:49 से 6:02 बजे तक का मुहूर्त लक्ष्मी गणेश जी के पूजन लिए सर्वश्रेष्ठ है।

प्रदोष काल मुहूर्त: शनिवार 14 नवंबर की शाम 5:33 से रात्रि 8:12 तक के समय में लक्ष्मी गणेश जी का पूजन बहुत फलदाई रहेगा।

वृषभ काल मुहूर्त: शनिवार 14 नवंबर की शाम 5:28 से रात्रि 7:24 तक वृषभ काल मुहूर्त में लक्ष्मी गणेश जी की पूजा बहुत उत्तम रहेगी ।

सिंह लग्न मुहूर्त: शनिवार 14 नवंबर की मध्य रात्रि 12:01 से देर रात 2:19 तक सिंह लग्न  में भी लक्ष्मी गणेश जी की पूजा बहुत शुभ रहेगी ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मधुमेह के लक्षण, Madhumeh ke Lakshan,

मधुमेह के लक्षण, Madhumeh ke Lakshan,मधुमेह ( madhumeh ), डायबिटीज ( diabetes ) को तमाम बिमारियों...

पश्चिम दिशा का वास्तु | पश्चिममुखी भवन का वास्तु

भूखण्ड का वास्तुBhukhand ka vastuहर व्यक्ति चाहता है कि उसका घर वास्तु के अनुरूप हो ताकि उसके...

राशि के अनुसार मंत्र

राशिनुसार मन्त्रदोस्तों इस संसार में हर व्यक्ति चाहता है कि से हर कार्य में सफलता मिले, उसके...

अमावस्या पे प्राप्त करें दैवीय क़ृपा

अमावस्या पर दैवीय कृपा प्राप्त करेंamavasya par devi kripa prapt kare
Translate »