Home Hindi ग्रहो के उपाय शनि की साढेसाती के चरण

शनि की साढेसाती के चरण

912

शनि की साढेसाती के चरण
Shani ki Sade Sati ke Charan

Kalash One Image

 साढ़ेसाती का पहले चरण Shani Ki Sade Sati Ka Pahla Charan :

hand-logo

 साढ़े साती के पहले चरण sade sati ke pahle charan में शनि मस्‍तक पर रहता है।

hand-logo

 साढ़ेसाती sade sati का यह चरण जातक के परिजनों नज़दीकी रिश्तेदारों और जातक के स्वास्थ्य एवं आर्थिक स्थिति को प्रभावित करता है।

hand-logo

 सोचे गए कार्य आसानी से पूरे नहीं होते है। अचानक धनहानि होती है, आर्थिक तंगी बनी रहती है । स्‍वास्‍थ्‍य खराब रहता है विशेषकर नेत्र और अनिद्रा रोग हो सकता है।

hand-logo

 यात्रा में कष्ट मिल सकता है । मानसिक चिन्ताएं बड़ जाती है। यह समय बुजुर्गों के लिए कष्टकारी होता है।

Kalash One Image

 साढ़ेसाती का दूसरा चरण Shani Ki Sade Sati Ka Dusra Charan :

hand-logo

 साढ़े साती का दूसरा चरण Sadisati ka dusra charan जातक के व्यापार और गृहस्थी को प्रभावित करता है।

hand-logo

 इस चरण में यदि शनि जन्म कुण्डली में पूरी तरह अशुभ हो तो स्वास्थ्य तेजी से गिरता है, बड़ी आर्थिक हानि की सम्भावना होती है, निवेश में नुकसान होता है, धन फंस जाता है ।

hand-logo

 परिवार में कलह, विभाजन, दोस्तों से मतभेद हो जाते है, आत्मसम्मान में कमी आती है अपयश का सामना करना पड़ता है । उसके अपने ही सगे संबंधी उसको कष्ट देते है, उसे घर-परिवार से दूर लम्बी यात्राओं पर जाना पड सकता है और लेकिन यदि शनि अशुभ ना हो तो इस चरण में जातक को मिला जुला फल प्राप्त होता है।

Kalash One Image

 साढ़ेसाती का तीसरा चरण Shani Ki Sade Sati Ka Tisra Charan :

hand-logo

 साढ़े साती के तीसरे चरण Sadisati ke thisre charan में बच्चों, परिवार, स्वास्थ्य प्रभावित रहता है ।

hand-logo

 शनि साढेसाती के इस चरण में भौतिक, सांसारिक सुखों में कमी होती है।

hand-logo

 वृद्धावस्था में में शनि की यह स्थिति मानो मौत को आमंत्रित करती है ।

hand-logo

 इस समय में आय की अपेक्षा व्यय अधिक होता है उसके अधिकार कम हो जाते है ।
स्वास्थय ख़राब रहता है ,परिवार में विशेषकर संतान से मतभेद होते है, सम्बन्ध विच्छेद तक हो जाते है ।

hand-logo

 यह समय बहुत ही कष्टकारी होता है अपने साथ छोड़ देते है, जातक अपने मन की बात भी नहीं कह पाता है ।

hand-logo

 इस चरण में लड़ाई-झगडे, वाद-विवाद से दूर ही रहना चाहिए । शनि के इस तीसरे चरण में मृत्यु तुल्य कष्ट मिलता है ।

Published By : Memory Museum
Updated On : 2020-06-03 08:35:55 PM

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »