Sunday, December 6, 2020
Home Hindi यंत्र श्री यन्त्र | श्री मंत्र |Shri Yantra | Shri Mantra

श्री यन्त्र | श्री मंत्र |Shri Yantra | Shri Mantra

श्री मंत्र

ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः ।।

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीदं प्रसीदं ।

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालाक्ष्माये नमः ।।

श्री यन्त्र Shri Yantra को त्रिपुरसुंदरी माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय यन्त्र माना जाता है । इसे पवित्र यंत्र को यंत्र राज की संज्ञा दी गयी है, जिसकी कृपा से व्यक्ति को सुख सम्रद्धि Sukh Samriddhi और अतुल ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है । श्री यंत्र Shri Yantra का रोज नियम से ध्यान और दर्शन करने से जीवन में चमत्कारी परिवर्तन आ जाता है उस व्यक्ति पर माता लक्ष्मी की सदैव कृपा बनी रहती है ।

यदि कोई व्यक्ति आर्थिक संकटों से जूझ रहा हो,


hand-logo भारी व्यावसायिक ऋण के बोझ से दबा हो,
hand-logoहमेशा आमदनी से ज्यादा खर्चे हो,
hand-logoधन उधार फँस गया हो,
hand-logoरोजगार में हमेशा अस्थिरता रहती हो,
hand-logoहमेशा मन मस्तिष्क में चिंताएं सवार रहती हो,
hand-logoजिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए धन की कमी रहती हो,
hand-logoउनके लिए श्रीयंत्र Shri Yantra का नित्य दर्शन और आराधना किसी वरदान से कम नहीं है।

hand-logo कहते है जिस घर में श्री यत्रShri Yantra स्थापित कर के उस की नित्य पूजा की जाती है उस घर में सुख समृद्धि की कभी कोई भी कमी नहीं होती है

hand-logoश्री यंत्र Shri Yantra की नित्य पूजा से अभीष्ट लाभ की सिद्धि अवश्य ही होती है, इसमें किसी भी प्रकार का संदेह नहीं है अगर घर या व्यापारिक स्थल में स्वयं स्थापित करना हो तो स्फटिक का श्रीयंत्र Shri Yantra अति उत्तम होता है लेकिन फिर उसकी रोज नियम से सुगन्धित धूप अगरबत्ती से पूजा आराधना करना अनिवार्य है।

hand-logoयदि श्रीयंत्र Shri Yantra को घर या दुकान में कमलगट्टे की माला पर स्थापित किया जाय तो चमत्कारी रूप से सफलता प्राप्त होती है ।

hand-logoवैसे श्रीयंत्र Shri Yantra को लाल कपडा बिछाकर चावल की ढेरी पर भी स्थापित कर सकते है लेकिन उन चावलों को हर पूर्णिमा में बदलते रहे ।

यहाँ पर स्थापित अति पवित्र श्री यंत्र Shri Yantra योग्य ब्राह्मणों से जाप कराके, हवन कराके सिद्ध किया गया है जिस पर आपके नाम से व्यक्तिगत रूप से आपके कल्याण के लिए प्रार्थना की जाती है ।


जीवन में कई बार ऐसा भी समय आता है जब व्यक्ति बहुत परिश्रम करता है, धर्म में भी उसकी आस्था होती है, कोई बुरे कार्य भी नहीं करता है फिर भी उसे उचित फलप्राण नहीं होते है, जीवन में लगातार संघर्ष बना रहता है , ऐसे समय में हम यंत्रों और पूजा पाठ का सहारा लेते है । मनुष्य की हर परेशानी के हल के लिए, हर इच्छा की पूर्ति के लिए अलग – अलग यंत्रों की सहायता ली जाती है । किसी भी मनुष्य के लिए इस तमाम यंत्रों की स्वयं स्थापना और शास्त्रानुसार रखरखाव कर पाना नामुमकिन सा है । लेकिन अब विश्व में पहली बार इस साईट में अनेकों दुर्लभ सिद्ध यंत्रों की प्राण प्रतिष्ठा की गयी है । इस साईट पर दिए गए सभी यंत्रों को योग्य ब्राह्मणों द्वारा शास्त्रानुसार पूर्ण विधि विधानुसार इस तरह से जप, यज्ञ, द्वारा सिद्ध करके प्राण प्रतिष्ठित किया गया है जिससे सभी व्यक्तियों को ( चाहे वह किसी भी धर्म को मानने वाले हो) निश्चित ही अभीष्ट लाभ की प्राप्ति हो । तो अब आप भी इन अत्यंत दुर्लभ यंत्रों का अवश्य ही लाभ उठायें ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गंडमूल नक्षत्र

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 27 नक्षत्रों में से छ: नक्षत्र ऎसे होते हैं जिन्हें गंडमूल नक्षत्र कहा जाता है. यह नक्षत्र दो...

मधुमेह, मधुमेह के कारण, Madhumeh ke karan,

मधुमेह, मधुमेह के कारण, Madhumeh ke karan,आज भारत की बहुत बड़ी आबादी मधुमेह, madhumeh, या शुगर, sugar,...

डेंगू से बचाव | डेंगू से बचने के उपाय

डेंगू से बचने के उपायDengu Se Bachne ke upayआजकल डेंगू ( dengu ) एक बहुत बड़ी बीमारी...

amavasya ke mahatvapurn upay, अमावस्या के महत्वपूर्ण उपाय

amavasya ke mahatvapurn upay, अमावस्या के महत्वपूर्ण उपायहिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास के कृष्ण...
Translate »